यह हैं रुद्र के 11 विलक्षण रूप


भगवान शिव सृष्टि के संहारक हैं। उनके संहारक स्वरूप को रुद्र कहा गया है। रुद्र के ग्यारह रूप या एकादश रुद्र की कथा वेदों-पुराणों में वर्णित है। इनकी विभूति समस्त देवताओं में समाहित है। यहाँ हमने शिव भक्तों की सुविधा के लिए रुद्र के ग्यारह रूपों का संक्षिप्त वर्णन किया है। साथ ही भगवान शिव के अन्य स्वरूपों का भी यहाँ उल्लेख है।
शम्भु

ब्रह्मविष्णुमहेशानदेवदानवराक्षसाः ।
यस्मात्‌ प्रजज्ञिरे देवास्तं शम्भुं प्रणमाम्यहम्‌ ॥
(शैवागम)

'जिन भगवान शम्भु से ब्रह्मा, विष्णु, महेश, देव, दानव, राक्षस आदि उत्पन्न हुए तथा जिनसे सभी देवों की उत्पत्ति भी हुई, ऐसे प्रभु को मैं प्रणाम करता हूँ।'

भगवान रुद्र ही इस सृष्टि के सृजन, पालन और संहारकर्ता हैं। शम्भु, शिव, ईश्वर और महेश्वर आदि कई नाम उन्हीं के हैं। श्रुतिका कथन है कि एक ही रुद्र हैं जो सभी लोकों को अपनी शक्ति से संचालित करते हैं। अतएव वे ही ईश्वर हैं, वे ही सबके भीतर अंतरयामीरूप से स्थित हैं। आध्यात्मिक, आधिभौतिक और आधिदैविक रूप से उनके ग्यारह नाम श्रुति, पुराण आदि में प्राप्त होते हैं।
शतपथब्राह्मण के चतुर्दशकांड (बृहदारण्यकोपनिषद् में) पुरुष के दस प्राण और ग्यारहवाँ आत्मा एकादश आध्यात्मिक रुद्र बताए गए हैं। अंतरिक्षस्थ वायुप्राण ही हमारे शरीर में प्राणरूप होकर प्रविष्ट है और वही शरीर के दस स्थानों में कार्य करता है। इसलिए उसे रुद्रप्राण कहते हैं। ग्यारहवाँ आत्मा भी रुद्र प्राणात्मा के रूप में जाना जाता है।

पिनाकी

क्षमारथसमारूढ़ं ब्रह्मसूत्रसमन्वितम्‌ ।
चतुर्वेदैश्च सहितं पिनाकिनमहं भजे ॥
(शैवागम)
'क्षमारूपी रथ पर विराजित, ब्रह्मसूत्र से समन्वित, चारों वेदों को धारण करने वाले भगवान पिनाकी का मैं ध्यान करता हूँ।'

शैवागम में दूसरे रुद्र का नाम पिनाकी है। श्री ब्रह्माजी नारदजी से कहते हैं- 'जब हमने एवं भगवान विष्णु ने शब्दमय शरीरधारी भगवान रुद्र को प्रणाम किया, तब हम लोगों को ॐकारजनित मंत्र का साक्षात्कार हुआ। तत्पशत्‌ 'ॐतत्त्वमसि' यह महावाक्य दृष्टिगोचर हुआ। फिर संपूर्ण धर्म और अर्थ के साधक गायत्री मंत्र का दर्शन हुआ। उसके बाद मुझ ब्रह्मा के भी अधिपति करुणानिधि भगवान पिनाकी सहसा प्रकट हुए। चारों वेद पिनाकी रुद्र के ही स्वरूप हैं।
भगवान पिनाकी रुद्र को देखकर भगवान्‌ विष्णु ने पुनः उनकी प्रिय वचनों द्वारा स्तुति की। भगवान पिनाकी ने प्रसन्न होकर सर्वप्रथम भगवान विष्णु को श्वासरूप से वेदों का उपदेश किया। उसके बाद उन्होंने श्रीहरि को अपना गुह्यज्ञान प्रदान किया। फिर उन परमात्मा पिनाकी ने कृपा करके मुझे भी वह ज्ञान दिया। वेद का ज्ञान प्राप्त करके और कृतार्थ होकर हम दोनों ने पिनाकी रुद्र को पुनः नमस्कार किया।'
गिरीश

कैलासशिखरप्रोद्यन्मणिमण्डपमध्यमगः ।
गिरिशो गिरिजाप्राणवल्लभोऽस्तु सदामुदे ॥
(शैवागम)

'कैलास के उच्चतम शिखर पर मणिमण्डप के मध्य में स्थिल पार्वती के प्राणवल्लभ भगवान गिरीश सदा हमें आनंद प्रदान करें।'

भगवान शिव के निवास का वर्णन तीन स्थानों पर मिलता है। प्रथम भद्रवट-स्थान जो कैलास के पूर्व की ओर लौहित्यगिरि के ऊपर है। दूसरा स्थान कैलास पर्वत पर और तीसरा मूँजवान पर्वत पर है। वैसे तो भगवान शंकर वैराग्य और संयम की प्रतिमूर्ति हैं, किंतु उनकी संपूर्ण लीलाएँ कैलास पर संपन्न होने के कारण कैलास पर्वत उन्हें विशेष प्रिय है।
कैलास पर्वत नर भगवान रुद्र अपने तीसरे स्वरूप गिरीश के नाम से प्रसिद्ध हैं। शैवागम में तीसरे रुद्र का नाम गिरीश बताया गया है। कैलास पर्वत पर भगवान रुद्र के निवास के दो कारण हैं। पहला कारण अपने भक्त तथा मित्र कुबेर को उनके अलकापुरी के सन्निकट रहने का दिया गया वरदान है और दूसरा कारण रुद्र की प्राणवल्लभा उमा का गिरिराज हिमवान के यहाँ अवतार है।

स्थाणु

वामांगकृतसंवेशगिरिकन्यासुखावहम्‌ ।
स्थाणुं नमामि शिरसा सर्वदेवनमस्कृतम्‌ ॥
(शैवागम)
'अपने वामांग में पार्वती को सन्निविष्ट करके उन्हें सुख प्रदान करने वाले तथा संपूर्ण देवमंडल के प्राणम्य भगवान स्थाणु रुद्र को मैं सिर से नमन करता हूँ।

शैवागम में भगवान रुद्र के चौथे स्वरूप को स्थाणु बताया गया है। वे समाधिमग्न, आत्माराम तथा पूर्ण निष्काम हैं। फिर भी लोक-कल्याणार्थ देवताओं की प्रार्थना पर वे गिरिराज हिमवान की कन्या तथा अपनी आदिशक्ति पार्वती को अपने वामांग में पत्नी रूप में स्थान देकर अपनी अद्भुत लीला से भक्तों को सुख प्रदान करते हैं।
भर्ग

चंद्रावतंसो जटिलस्रिणेत्रोभस्मपांडरः ।
हृदयस्थः सदाभूयाद् भर्गो भयविनाशनः ॥
(शैवागम)

'चंद्रभूषण, जटाधारी, त्रिनेंत्र, भस्मोज्ज्वल, भयनाशक भर्ग सदा हमारे हृदय में निवास करें।'

पाँचवें रुद्र भगवान भर्ग को भयविनाशक कहा गया है। दुःख पीड़ित संसार को शीघ्रातिशीघ्र दुःख और भय से मुक्त करने वाले केवल महादेव भगवान भर्ग रुद्र ही हैं। भर्ग रुद्र (तेज) ज्ञानस्वरूप होने के कारण मुक्ति प्रदान करके भक्तों को भव (संसार)- सागर के भय से भी त्राण देते हैं।
भव

योगीन्द्रनुतपादाब्जं द्वंद्वातीतं जनाश्रयम्‌ ।
वेदान्तकृतसंचारं भवं तं शरणं भजे ॥
(शैवागम)

'योगीन्द्र जिनके चरण-कमलों की वंदना करते हैं, जो द्वंद्वों से अतीत तथा भक्तों के आश्रय हैं और जिनसे वेदांत का प्रादुर्भाव हुआ है, मैं उन भव की शरण-ग्रहण करता हूँ।'

भगवान रुद्र के ग्यारहवें स्वरूप का नाम भव है। इसी रूप में वे संपूर्ण सृष्टि में व्याप्त हैं तथा जगद्गुरु के रूप में वेदांत और योग का उपदेश देकर आत्मकल्याण का मार्ग प्रशस्त करते हैं। भगवान रुद्र का यह ग्यारहवाँ स्वरूप जगद्गुरु के रूप में वंदनीय है। भव-रुद्र की कृपा के बिना विद्या, योग, ज्ञान, भक्ति आदि के वास्तविक रहस्य से परिचित होना असंभव है। वे अपने क्रिया-कलाप, संयम-नियम आदि द्वारा जीवन्मुक्त योगियों के परम आदर्श हैं। लिंगपुराण के सातवें अध्याय और शिवपुराण के पूर्व भाग के बाईसवें अध्याय में भगवान भव रुद्र के योगाचार्यस्वरूप और उनके शिष्य-प्रशिष्यों का विशेष वर्णन है।
प्रत्येक युग में भगवान भव रुद्र योगाचार्य के रूप में अवतीर्ण होकर अपने शिष्यों को योगमार्ग का उपदेश प्रदान करते हैं। इन्होंने सर्वप्रथम अपने चार बड़े शिष्यों को योगशास्त्र का उपदेश दिया। उनके नाम रुरु, दधीचि, अगस्त्य और उपमन्यु हैं। ये सभी पशुपति-उपासना और पशुपतिसंहिता के प्रवर्तक हुए। इस प्रकार भगवान भव-रुद्र ही योगशास्त्र के आदि गुरु हैं।


सदाशिव
ब्रह्मा भूत्वासृजँल्लोकं विष्णुर्भूत्वाथ पालयन्‌ ।
रुद्रो भूत्वाहरन्नंते गतिर्मेऽस्तु सदाशिवः ॥
(शैवागम)

'जो ब्रह्मा होकर समस्त लोकों की सृष्टि करते हैं, विष्णु होकर सबका पालन करते हैं और अंत में रुद्र रूप से सबका संहार करते हैं, वे सदाशिव मेरी परमगति हों।'

शैवागम में रुद्र के छठे स्वरूप को सदाशिव कहा गया है। शिव पुराण के अनुसार सर्वप्रथम निराकार परब्रह्म रुद्र ने अपनी लीला शक्ति से अपने लिए मूर्ति की कल्पना की। वह मूर्ति संपूर्ण ऐश्वर्य-गुणों से संपन्न, सबकी एकमात्र वंदनीया, शुभ-स्वरूपा, सर्वरूपा तथा संपूर्ण संस्कृतियों का केंद्र थी। उस मूर्ति की कल्पना करके वह अद्वितीय ब्रह्म अंतर्हित हो गया।
इस प्रकार जो मूर्तिरहित परब्रह्म रुद्र हैं, उन्हीं के चिन्मय आकार सदाशिव हैं। प्राचीन और अर्वाचीन विद्वान उन्हीं को ईश्वर भी कहते हैं। एकाकी विहार करने वाले उन सदाशिव ने अपने विग्रह से स्वयं ही एक स्वरूपभूता शक्ति की सृष्टि की। वह शक्ति अम्बिका कही जाती है। उसी को त्रिदेव-जननी, नित्या और मूल कारण भी कहते हैं। सदाशिव द्वारा प्रकट की गई उस शक्ति की आठ भुजाएँ हैं। वह अकेली ही सहस्र चंद्रमाओं की कांति धारण करती हैं। वही सबकी योनि है। एकाकिनी होने पर भी वह अपनी माया से अनेक रूप धारण करती है।
शिव

गायत्री प्रतिपाद्यायाप्योंकारकृतसद्मने ।
कल्याणगुणधाम्नेऽस्तु शिवाय विहितानतिः ॥
(शैवागम)

'गायत्री जिनका प्रतिपादन करती है, ओंकार ही जिनका भवन है, ऐसे समस्त कल्याण और गुणों के धाम शिव को मेरा प्रणाम है।'

शैवागम में रुद्र के सातवें स्वरूप को शिव कहा गया है। शिव शब्द नित्य विज्ञानानन्दघन परमात्मा का वाचक है। इसीलिए शैवागम भगवान शिव को गायत्री द्वारा प्रतिपाद्य एवं एकाक्षर ओंकार का वाच्यार्थ मानता है। शिव शब्द की उत्पत्ति 'वश कान्तौ' धातु से हुई है, जिसका तात्पर्य यह है कि जिसको सब चाहते हैं, उसका नाम शिव है।
सब चाहते हैं अखंड आनंद को। अतएव शिव शब्द का तात्पर्य अखंड आनंद हुआ। जहाँ आनंद है, वहीं शांति है और परम आनंद को ही परम कल्याण कहते हैं। अतः शिव शब्द का अर्थ परम कल्याण समझना चाहिए। इसलिए शिव को कल्याण गुण-निलय कहा जाता है।

हर

आशीविषाहार कृते देवौघप्रणतांघ्रये ।
पिनाकांकितहस्ताय हरायास्तु नमस्कृतः ॥
(शैवागम)

'जो भुजंग-भूषण धारण करते हैं, देवता जिनके चरणों में विनित होते हैं, उन पिनाकपाणि हर को मेरा नमस्कार है।'
शैवागम के अनुसार भगवान रुद्र के आठवें स्वरूप का नाम हर है। भगवान हर को सर्पभूषण कहा गया है। इसका अभिप्राय यह है कि मंगल और अमंगल सब कुछ ईश्वर-शरीर में है। दूसरा अभिप्राय यह है कि संहारकारक रुद्र में संहार-सामग्री रहनी ही चाहिए। समय पर सृष्टि का सृजन और समय पर उसका संहार दोनों भगवान रुद्र के ही कार्य हैं। सर्प से बढ़कर संहारकारक तमोगुणी कोई हो नहीं सकता क्योंकि अपने बच्चों को भी खा जाने की वृत्ति सर्प जाति में ही देखी जाती है।
इसीलिए भगवान हर अपने गले में सर्पों की माला धारण करते हैं। काल को अपने भूषण रूप में धारण करने के बाद भी भगवान हर कालातीत हैं। भगवान हर अपनी शरण में आने वाले भक्तों को आधिभौतिक, आधिदैविक, आध्यात्मिक तीनों प्रकार के तापों से मुक्त कर देते हैं। इसलिए भगवान रुद्र का हर नाम और भी सार्थक है। उनका पिनाक अपने भक्तों को अभय करने के लिए सदैव तत्पर रहता है।

शर्व

तिसृणां च पुरां हन्ता कृतांतमदभंजनः ।
खड्गपाणिस्तीक्ष्णदंष्ट्रः शर्वाख्योऽस्तु मुदे मम ॥
(शैवागम)
'त्रिपुरहंता, यमराज के मद का भंजन करने वाले, खंगपाणि एवं तीक्ष्णदंष्ट्र शर्व हमारे लिए आनंददायक हों।'

भगवान रुद्र के नौवें स्वरूप का नाम शर्व है। सर्वदेवमय रथ पर सवार होकर त्रिपुर का संहार करने के कारण भी इन्हें शर्व रुद्र कहा जाता है। शर्व का एक तात्पर्य सर्वव्यापी, सर्वात्मा और त्रिलोकी का अधिपति भी होता है।

कपाली

दक्षाध्वरध्वंसकरः कोपयुक्तमुखाम्बुजः ।
शूलपाणिः सुखायास्तु कपाली मे ह्यहर्निशम्‌ ॥
(शैवागम)
'दक्ष-यज्ञ का विध्वंस करने वाले तथा क्रोधित मुख-कमल वाले शूलपाण कपाली हमें रात-दिन सुख प्रदान करें।'

शैवागम के अनुसार दसवें रुद्र का नाम कपाली है। पद्मपुराण (सृष्टिखंड-17) के अनुसार एक बार भगवान कपाली ब्रह्मा के यज्ञ में कपाल धारण करके गए, जिसके कारण उन्हें यज्ञ के प्रवेश द्वार पर ही रोक दिया गया। उसके बाद भगवान कपाली रुद्र ने अपने अनंत प्रभाव का दर्शन कराया। फिर सब लोगों ने उनसे क्षमा माँगी और यज्ञ में उन्हें ब्रह्मा के उत्तर में बहुमान का स्थान प्रदान किया।
कथा यह भी है कि इन्होंने एक बार ब्रह्मा को दंड देने के लिए उनका पाँचवाँ मस्तक काट लिया था। कपाल धारण करने के कारण ही दसवें रुद्र को कपाली कहा जाता है। इसी रूप में भगवान रुद्र ने क्रोधित होकर दक्ष-यज्ञ को विध्वंस किया था।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

यदि आप निरोग रहना चाहते हैं, तो पढ़ें यह चमत्कारिक मंत्र

यदि आप निरोग रहना चाहते हैं, तो पढ़ें यह चमत्कारिक मंत्र
भागदौड़ भरी जिंदगी में आजकल सभी परेशान है, कोई पैसे को लेकर तो कोई सेहत को लेकर। यदि आप ...

ज्योतिष सच या झूठ, जानिए रहस्य

ज्योतिष सच या झूठ, जानिए रहस्य
गीता में लिखा गया है कि ये संसार उल्टा पेड़ है। इसकी जड़ें ऊपर और शाखाएं नीचे हैं। यदि कुछ ...

श्रावण मास में शिव अभिषेक से होती हैं कई बीमारियां दूर, ...

श्रावण मास में शिव अभिषेक से होती हैं कई बीमारियां दूर, जानिए ग्रह अनुसार क्या चढ़ाएं शिव को
श्रावण के शुभ समय में ग्रहों की शुभ-अशुभ स्थिति के अनुसार शिवलिंग का पूजन करना चाहिए। ...

क्या प्रारब्ध की धारणा से व्यक्ति अकर्मण्य बनता है?

क्या प्रारब्ध की धारणा से व्यक्ति अकर्मण्य बनता है?
ऐसा अक्सर कहा जाता है कि आज हम जो भी फल भोग रहे हैं वह हमारे पूर्वजन्म के कर्म के कारण है ...

किस तिथि को क्या खाने से होगा क्या नुकसान, जानिए

किस तिथि को क्या खाने से होगा क्या नुकसान, जानिए
खाना बनाना भी एक कला है। हालांकि जो मिले, वही खा लें, इसी में भलाई है। खाने के प्रति ...

रोचक जानकारी : यह है उम्र के 9 खास पड़ाव, जानिए कौन सा ग्रह ...

रोचक जानकारी : यह है उम्र के 9 खास पड़ाव, जानिए कौन सा ग्रह किस उम्र में करता है असर
लाल किताब अनुसार कौन-सा ग्रह उम्र के किस वर्ष में विशेष फल देता है इससे संबंधित जानकारी ...

23 जुलाई को है साल की सबसे बड़ी शुभ एकादशी, जानिए व्रत कथा ...

23 जुलाई को है साल की सबसे बड़ी शुभ एकादशी, जानिए व्रत कथा और पूजन विधि
देवशयनी एकादशी आषाढ़ शुक्ल एकादशी यानि 23 जुलाई 2018 को है। देवशयनी एकादशी के दिन से ...

3 स्वर, 3 नाड़ियां... जीवन और सेह‍त दोनों को बनाते हैं शुभ, ...

3 स्वर, 3 नाड़ियां... जीवन और सेह‍त दोनों को बनाते हैं शुभ, जानिए क्या है स्वरोदय विज्ञान
स्वर विज्ञान को जानने वाला कभी भी विपरीत परिस्थितियों में नहीं फंसता और फंस भी जाए तो ...

आषाढ़ पूर्णिमा 27 जुलाई को है सबसे बड़ा चन्द्रग्रहण, किस राशि ...

आषाढ़ पूर्णिमा 27 जुलाई को है सबसे बड़ा चन्द्रग्रहण, किस राशि पर कैसा होगा असर, यह 4 राशियां रहें सावधान
इस साल का सबसे बड़ा चन्द्रग्रहण 27-28 जुलाई 2018 को आषाढ़ पूर्णिमा के दिन खग्रास ...

असम की मस्जिद बनी मिसाल, यहां बाइबल और वेद पढ़ते हैं लोग

असम की मस्जिद बनी मिसाल, यहां बाइबल और वेद पढ़ते हैं लोग
क्‍या मस्जिद के अंदर भी बाइबल और वेद पढ़े जा सकते हैं। आपको जानकर हैरानी होगी, लेकिन जी ...

राशिफल