भारतीय संस्कृति का मूल आधार है संस्कृत-नंदकुमार

इन्दौर। हाल ही में ‘जनपद संस्कृत सम्मेलन’ का आयोजन किया गया।  इसका उद्देश्य संस्कृत भाषा का प्रचार-प्रसार करना एवं इसे जन-जन से जोड़ना था। इसके अन्तर्गत सबसे पहले एक शोभायात्रा निकाली गई, जो चिमनबाग फुटबॉल मैदान से नगर निगम एमजी रोड थाना, कृष्णपुरा छत्री, राजवाड़ा,  इमली बाजार, तिलकपथ, रामबाग चैराहा होते हुए पुनः चिमनबाग पर संपन्न हुई।  
यात्रा में छोटे बच्चे विवेकानन्द, शिवाजी, महारानी लक्ष्मीबाई की वेशभूषा में चल रहे थे। 'जयतु संस्कृतम-वदतु संस्कृतम् जयतु भारत, वन्दे संस्कृत मातरम्’ जैसे गगनभेदी नारों से यात्रा शोभायमान हो रही थी। 
 
इसके बाद सम्मेलन का विधिवत् शुभारम्भ वेद मंत्रोच्चार एवं शंखघोष के साथ हुआ। मुख्य अतिथि संस्कृत भारती के राष्ट्रीय महामंत्री नन्दकुमार थे। विशेष अतिथि वरिष्ठ विचारक लक्ष्मणराव नवाथे, समाजसेविका सुश्री अनघा ताई एवं संस्कृतविद् डॉ. विनायक पाण्डेय थे।
  
इस अवसर पर मुख्य अतिथि नन्दकुमार ने अपना सम्बोधन संस्कृत में देते हुए कहा कि भारत का गौरव उसकी संस्कृति और सभ्यता है और संस्कृति का मूल आधार संस्कृत है। यह भाषा वैज्ञानिक भाषा है। अन्य भाषाओं की जननी है। संस्कृत भाषा में सभी प्रकार के ज्ञान का भंडार है। संस्कृत भाषा की पठनीय व्याकरण सर्वमान्य है। वह संस्कृत भाषा ही नहीं, अपितु अन्य भाषा के लिए भी उपयोगी है।  
विदेशों का उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा कि अब तो कई देशों में संस्कृत की उपयोगिता व महत्व को जानकार अपनी प्राथमिक कक्षाओं में संस्कृत को पाठ्यक्रम में प्रारंभ कर दिया है। उन्होंने कहा कि यह गणित ज्यामिति, चिकित्सा, आयुर्वेद, पर्यावरण, संस्कार, प्रबंधन सहित ज्ञान विज्ञान से ओतप्रोत है। राष्ट्रीय एकता व संस्कृति के दिव्य दर्शन कराने वाली भाषा मानव समाज को जोड़ने का कार्य करती है। 
 
सम्मेलन के अगले चरण में संस्कृत विषय को तीसरी भाषा के रूप में शिक्षा में शामिल करवाने, मेडिकल, टेक्निकल, विधि, विज्ञान केन्द्रीय विद्यालयों सी.बी.एस.सी. आदि शिक्षण संस्थानों में संस्कृत भाषा की शिक्षा अनिवार्य करवाने तथा शासकीय शिक्षण संस्थानों में शीघ्र संस्कृत के पदों की नियुक्ति संबंधित विषयों का एक प्रस्ताव भी पारित करने का संकल्प लिया गया।
 
कार्यक्रम में स्कूली बच्चों ने संस्कृत गीत पर नृत्य की प्रस्तुति दी। संस्कृत नाटक का मंचन चन्द्रमोहन गोयल, अरुण शर्मा और लखन पाठक ने किया। इस अवसर पर संस्कृत भारती के प्रांत प्रचारक प्रमोद पंडित, संस्कृत भारती के प्रांताध्यक्ष गोपाल शर्मा, शोभायात्रा प्रभारी डॉ. अभिषेक पाण्डेय, प्रचार प्रमुख पं. गोपालदास बैरागी आदि विशेष रूप से उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन योगेश शर्मा ने किया। आभार अशोक साहू ने माना। 
>

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :