कर्ण की पांच गलतियां और वह मारा गया...

अनिरुद्ध जोशी 'शतायु'|
इस बात से कोई इंकार नहीं कर सकता कि महाभारत के प्रसिद्ध योद्धा और अंतिम दिनों में कौरवों की सेना के सेनापति अपने प्रतिद्वंदी अर्जुन से श्रेष्ठ धनुर्धर थे जिसकी तारीफ भगवान श्रीकृष्ण ने भी की। लेकिन कहते हैं कि कुसंगत का असर बहुत घातक होता है। बहुत कम लोग ही होते हैं जो कमल के समान होते हैं। इस कुसंगत के चलते ही कर्ण कई बार गलतियां करते गए। उनकी इन्हीं गलतियों ने कौरवों और पांडवों के युद्ध में उनको कमजोर बना दिया था।
महाभारत युद्ध में कर्ण सबसे शक्तिशाली योद्धा माने जाते हैं। कर्ण को किस तरह से काबू में रखा जाए, यह कृष्ण के लिए भी चिंता का विषय हो चला था। लेकिन कर्ण दानवीर, नैतिक और संयमशील व्यक्ति थे। ये तीनों ही बातों उनके विपरीत पड़ गईं। कैसे?

कर्ण के बारे में सभी जानते हैं कि वे सूर्य-कुंती पुत्र थे। उनके पालक माता-पिता का नाम अधिरथ और राधा था। उनके गुरु परशुराम और मित्र दुर्योधन थे। हस्तिनापुर में ही कर्ण का लालन-पालन हुआ। उन्होंने अंगदेश के राजसिंहासन का भार संभाला था। जरासंध हो हराने के कारण उनको चंपा नगरी का राजा बना दिया गया था।

अगले पन्ने पर पहली गलती...

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine



और भी पढ़ें :