प्रेम कविता : तुम्हें मैं क्या गीत सुनाऊं

प्रिये! तुम्हें मैं क्या गीत सुनाऊं
जो ला सके तुम्हारे अधरों पर मुस्कान
वो सुर-ताल कहां से लाऊं
प्रिये! तुझे मैं क्या गीत सुनाऊं।

रह-रहकर कहती है पुरवा
मंद पवन के झोंके, कुछ कह जाती रुककर
मिट्टी की सौंधी खुशबू और पानी सोते का
रोम-रोम में जो भर दे सिहरन
वह स्पंदन कहां से लाऊं
 
प्रिये! तुम्हें मैं क्या गीत सुनाऊं
वो वंशी की तान कहां से लाऊं
जो ला सके तुम्हारे अधरों पर मुस्कान
वह सुर-ताल कहां से लाऊं
 
रह-रहकर मैं शरमाऊं
दिल का क्या हाल बताऊं
प्रिये! तुम्हें मैं क्या गीत सुनाऊं
जो ला सके तुम्हारे अधरों पर मुस्कान

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :