Widgets Magazine

श्री कृष्ण ने आखिरी संवाद माता पार्वती से किया था....



यह के जीवन की रहस्यमयी बात है। असल में कृष्ण ने अपना पार्वती से किया था। जब कृष्ण को पैर में बाण लग गया तब सभी देवता और शिव पार्वती उनसे मिलने उनके पास आए थे। सबकी स्तुति के बाद और अपने जाने से पहले कृष्ण ने आखिरी बार बांसुरी बजाई थी, तब उनकी बांसुरी से सारा संसार और सारे देवता, यहां तक की शिव भी मोहित होकर सो गए थे। लेकिन पार्वती जागती रहीं थीं।
 
पार्वती ने कृष्ण से अपने और उनके (कृष्ण के) अद्वैत का मंडन किया था। जैसे शिव और कृष्ण में एकत्व है वैसे ही पार्वती भी राधा का ही रूप हैं। 
 
पुराने समय में पार्वती ने सभी देवताओं के अंश से जन्म लेकर महिसासुर का वध किया था। दुर्गमासुर का वध करने के कारण उनका नाम दुर्गा पड़ा। उन्होंने ही आदि में दक्ष की कन्या के रूप में जन्म लिया था और फिर हिमवान की पुत्री के रूप में वही प्रकट हुई थीं। उन्होंने हर जन्म में शिव को ही प्राप्त किया था। अपनी कृष्णभक्ति के कारण ही पार्वती शिव की अर्धांगिनी बन सकीं थीं।
 
पार्वती ने कृष्ण से जल्दी ही गोलोक जाने का अनुरोध किया जहां राधा बेचैन होकर उनकी प्रतीक्षा कर रही थीं। पार्वती ने अपने और राधा के अद्वैत के बारे में भी बताया।
 
उस समय कृष्ण ने दो रूप धारण किए, चतुर्भुज रूप बैकुंठ में चला गया और द्विभुज रूप उसी प्रकार गोलोक में चला गया। पार्वती भी शिव के साथ कैलाश चलीं गई।

 
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine
Widgets Magazine