आलेख | चौघड़िया | तंत्र-मंत्र-यंत्र | पत्रिका मिलान | रत्न विज्ञान | टैरो भविष्यवाणी | ज्योतिष सीखें | सितारों के सितारे | दैनिक राशिफल | नक्षत्र | जन्मकुंडली | आज का मुहूर्त | जन्मदिन | राशियाँ | नवग्रह | वास्तु-फेंगशुई | रामशलाका
मुख पृष्ठ धर्म-संसार » ज्योतिष » राशियाँ » राशियाँ, अंक ज्योतिष और भविष्‍य
राशियाँ
Feedback Print Bookmark and Share
 
राशि क्रम राशियाँ उनके स्वाम
1, 8 मेष, वृश्चिक मंगल
2, 7 वृष, तुला शुक्र
3, 6 मिथुन, कन्या बुध
4 कर्क चन्द्र
5 सिंह सूर्य
9, 3 धनु, मीन गुरु
1, 2 मकर, कुंभ शनि

नोट- चन्द्र व सूर्य मात्र एक-एक राशि के ही स्वामी हैं जैसे- कर्क का चन्द्र व सिंह का सूर्य। अतः इन्हें एकराशि स्वामी भी कहा जाता है। शेष को द्विराशि स्वामी कहा जाता है।

यहाँ हमें स्वामी अंकों का ज्ञान होना आवश्यक है। जैसे-

स्वामी अंक
मंगल 9
शुक्र 6
बुध 5

नोट = राहु 4 तथा केतु 7 को हम क्रमशः सूर्य व चन्द्र के अंतर्गत रख सकते हैं।

चन्द्र 2 - केतु 7
सूर्य 1 - राहु 4
गुरु 3
शनि 8

इस प्रकार हम राशि क्रमों के योग से शुभ सहयोगी अंक प्राप्त कर सकते हैं-