आलेख | चौघड़िया | तंत्र-मंत्र-यंत्र | पत्रिका मिलान | रत्न विज्ञान | टैरो भविष्यवाणी | ज्योतिष सीखें | सितारों के सितारे | दैनिक राशिफल | नक्षत्र | जन्मकुंडली | आज का मुहूर्त | जन्मदिन | राशियाँ | नवग्रह | वास्तु-फेंगशुई | रामशलाका
मुख पृष्ठ धर्म-संसार » ज्योतिष » ज्योतिष सीखें » मिथुन लग्न की विशेषताएँ
ज्योतिष सीखें
Feedback Print Bookmark and Share
 
gemini rashi
ND
जब जन्मकुंडली के प्रथम भाव में अंक 3 लिखा होता है। मिथुन लग्न चूँकि बुध के स्वामित्व का लग्न है अत: इस लग्न के व्यक्ति बुद्धिमान, मिलनसार और वाचाल होते हैं।

शुभ ग्रह : लग्न और चतुर्थ का स्वामी होकर बुध शुभतायुक्त है। शुक्र पंचमेश होकर अति शुभ है। शनि भी नवमेश होकर शुभ हो जाता है। इन ग्रहों की स्थिति कुंडली में अच्छी हो तो इनकी दशा-महादशा व प्रत्युंतर बहुत फलकारक होता हैं। यदि ये ग्रह कुंडली में अशुभ स्थानों में हो तो योग्य उपाय करना चाहिए।

NDND
अशुभ ग्रह : तृतीयेश सूर्य, पष्ठेश और एकादशेष मंगल तथा सप्तमेश-दशमेश शुभ नहीं होते। इनकी दशा-महादशाएँ तकलीफदेह हो सकती है। अत: इनके शांति उपाय करना चाहिए।

तटस्थ : द्वितीयेश चंद्रमा इस लग्न हेतु तटस्थ रहता है।

मिथुन लग्न वालों को पन्ना और हीरा पहनना लाभ दे सकता है। बुधवार और शुक्रवार विशेष फलदायी है। मिथुन लग्नवाले व्यक्तियों को कर्क, धनु, और मीन राशि या लग्न के लोगों से विवाह संबंधों से बचना चाहिए। ऐसे व्यक्ति गणना व बौद्धिक क्षेत्रों में अधिक सफल होते हैं।
संबंधित जानकारी खोजें
यह भी खोजें: मिथुन लग्न, शुभ, अशुभ, ग्रह, जन्मकुंडली, ज्योतिष, बुध, Astrology Horoscope Gemini rashi