मुख पृष्ठ » धर्म-संसार » व्रत-त्योहार » होली » होली की पौराणिक-प्रामाणिक कथा (holi ki katha in hindi)
पिछला|अगला
holi ki katha in hindi
FILE


होली की पौराणिक (प्रामाणिक) कथा के अनुसार इस पर्व को मनाने की शुरुआत हिरण्यकश्यप के जमाने से होना मानी जाती है। हिरण्यकश्यप के पुत्र प्रह्लाद भगवान के अनन्य भक्त थे। उनकी इस भक्ति से पिता हिरण्यकश्यप नाखुश थे।

पिछला|अगला
संबंधित जानकारी
Feedback Print