सौ वर्ष पश्चात फिर सुनहरी हुईं शोभा बाजार राजबारी की देवी


कोलकाता|
 
 
कोलकाता। राजा नबकृष्ण देव द्वारा 260 वर्ष पहले राजबारी में शुरू की गई  दुर्गा पूजा की 'एकचला' मूर्ति पश्चात अपने मूल रूप यानी सुनहरे रंग में लौट  आई है। वित्तीय संकटों के कारण माता की मूर्ति को चांदी के रंग से रंगा जाने लगा था।  वर्ष 1757 में इस की गई थी।
 
उनके वंशज देबराज मित्रा ने बताया कि राजा नबकृष्ण देब के समय से ही हमारी मूर्तियों  को सुनहरे रंग से तैयार किया जाता रहा है, लेकिन कुछ समय बाद वित्तीय अभाव के बाद  मूर्तियों पर चांदी का रंग होने लगा। इस साल से हम लंबे अंतराल लगभग 100 साल के  बाद फिर से सुनहरा रंग इस्तेमाल करने जा रहे हैं। हम केवल मूल परंपराओं का पालन कर  रहे हैं। 
 
शहर की धरोहर में शामिल शोभा बाजार राजबारी के बारे में उन्होंने कहा कि यहां इस बार  फिर बनारस से शहनाई कलाकारों को निमंत्रित करने की परंपरा वापस लौटेगी, जो 5 दिन  की पूजा के दौरान प्रदर्शन करेंगे और प्राचीन गौरव को फिर से जीवित करेंगे। 
 
मूर्ति के बारे में उन्होंने कहा कि हमने दुर्गा प्रतिमाओं और अन्य प्रतिमाओं के लिए मंच को  260 वर्षों तक संरक्षित रखा है और उसी शिल्पकार के वंशज अब मूर्ति का निर्माण कर रहे  हैं। (भाषा)

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

हिंदू धर्मग्रंथों का सार, जानिए किस ग्रंथ में क्या है?

हिंदू धर्मग्रंथों का सार, जानिए किस ग्रंथ में क्या है?
अधिकतर हिंदुओं के पास अपने ही धर्मग्रंथ को पढ़ने की फुरसत नहीं है। वेद, उपनिषद पढ़ना तो ...

हिन्दू धर्मग्रंथ गीता : कब, कहां, क्यों?

हिन्दू धर्मग्रंथ गीता : कब, कहां, क्यों?
3112 ईसा पूर्व हुए भगवान श्रीकृष्ण का जन्म हुआ था। कलियुग का आरंभ शक संवत से 3176 वर्ष ...

सिर्फ और सिर्फ एक हनुमान मंत्र, रखेगा आपको पूरे साल

सिर्फ और सिर्फ एक हनुमान मंत्र, रखेगा आपको पूरे साल सुरक्षित
इस विशेष हनुमान मंत्र का स्मरण जन्मदिन के दिन करने पर पूरे साल की सुरक्षा हासिल होती है ...

क्या मोबाइल का नंबर बदल कर चमका सकते हैं किस्मत के तारे...

क्या मोबाइल का नंबर बदल कर चमका सकते हैं किस्मत के तारे...
अंकशास्त्र के अनुसार अगर मोबाइल नंबर में सबसे अधिक बार अंक 8 का होना शुभ नहीं होता है। ...

याद रखें यह 5 वास्तु मंत्र, हर संकट का होगा अंत

याद रखें यह 5 वास्तु मंत्र, हर संकट का होगा अंत
निवास, कारखाना, व्यावसायिक परिसर अथवा दुकान के ईशान कोण में उस परिसर का कचरा अथवा जूठन ...

बहुत फलदायी है मोहिनी एकादशी, जानें व्रत का महत्व...

बहुत फलदायी है मोहिनी एकादशी, जानें व्रत का महत्व...
संसार में आकर मनुष्य केवल प्रारब्ध का भोग ही नहीं भोगता अपितु वर्तमान को भक्ति और आराधना ...

कठिन मनोरथ पूर्ण करना है तो करें बटुक भैरव अनुष्ठान

कठिन मनोरथ पूर्ण करना है तो करें बटुक भैरव अनुष्ठान
हमारे शास्त्रों में ऐसे अनेक अनुष्ठानों का उल्लेख मिलता है जिन्हें उचित विधि व निर्धारित ...

शत्रु और खतरों से सुरक्षा करते हैं ये मंत्र, अवश्य पढ़ें...

शत्रु और खतरों से सुरक्षा करते हैं ये मंत्र, अवश्य पढ़ें...
बौद्ध धर्म को भला कौन नहीं जानता। बौद्ध धर्म भारत की श्रमण परंपरा से निकला महान धर्म ...

हिंदू धर्मग्रंथों का सार, जानिए किस ग्रंथ में क्या है?

हिंदू धर्मग्रंथों का सार, जानिए किस ग्रंथ में क्या है?
अधिकतर हिंदुओं के पास अपने ही धर्मग्रंथ को पढ़ने की फुरसत नहीं है। वेद, उपनिषद पढ़ना तो ...

हिन्दू धर्मग्रंथ गीता : कब, कहां, क्यों?

हिन्दू धर्मग्रंथ गीता : कब, कहां, क्यों?
3112 ईसा पूर्व हुए भगवान श्रीकृष्ण का जन्म हुआ था। कलियुग का आरंभ शक संवत से 3176 वर्ष ...

राशिफल