Widgets Magazine

गायत्री प्रजापति के परिवार से मिलने से योगी ने किया इंकार

पुनः संशोधित सोमवार, 1 मई 2017 (21:43 IST)
लखनऊ। पूर्व मंत्री और बलात्कार के आरोप में जेल में बंद गायत्री प्रजापति की पत्नी और बेटियां सुबह मुख्यमंत्री से मिलने उनके निवास पर गईं, मगर मुख्यमंत्री ने उनसे मिलने से इंकार कर दिया। मुख्यमंत्री आवास के बाहर गायत्री की पत्नी ने मीडिया को बताया कि मुख्यमंत्री ने उनसे मिलने से इंकार किया लेकिन वहां मौजूद एक मंत्री ने आश्वासन दिया कि उनकी बात सुनी जाएगी। उन्होंने कहा कि हमें उम्मीद है कि हमारे पति को न्याय मिलेगा। हम निराश हैं लेकिन हम फिर मुख्यमंत्री से मिलने आएंगे।
 
गायत्री की बेटी ने डबडबाई आंखों से मीडिया से कहा कि मेरे पिता को फंसाया जा रहा है। वे निर्दोष हैं और हमें और हमारे परिवार को न्याय चाहिए। हमें उम्मीद है कि मुख्यमंत्रीजी हमारी बात सुनेंगे और हमारे परिवार को न्याय मिलेगा। हम फिर मुख्यमंत्री से मिलने आएंगे और हमें इंसाफ मिलेगा। 
 
गौरतलब है कि के आदेश पर गायत्री के खिलाफ गत 17 फरवरी को एक महिला से बलात्कार और उसकी बेटी से दुराचार की कोशिश करने के आरोप में मुकदमा दर्ज किया गया था। करीब महीनेभर से फरार रहने के बाद प्रजापति को 15 मार्च को आशियाना क्षेत्र से गिरफ्तार करके जेल भेज दिया गया था। इस मामले में प्रजापति के अलावा छ: अन्य आरोपियों को भी पुलिस ने गिरफ्तार किया था।
 
इससे पहले प्रजापति ने गिरफ्तारी पर स्थगनादेश के लिए उच्चतम न्यायालय का दरवाजा खटखटाया था, लेकिन शीर्ष अदालत ने उनसे संबद्ध अदालत से संपर्क करने को कहा था। गिरफ्तारी के समय प्रजापति ने दावा किया था कि वे निर्दोष हैं और उन पर लगाए गए आरोपों का मकसद उनकी छवि खराब करना है। गिरफ्तारी के करीब एक महीने बाद गायत्री को विशेष अदालत से राहत जरूर मिली, लेकिन एक स्थानीय अदालत ने 26 अप्रैल को उन्हें पृथक मामले में 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया था।
 
बलात्कार के मामले में गत 25 अप्रैल को जमानत मिलने के बाद अगले वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी अमिताभ ठाकुर की पत्नी सामाजिक कार्यकर्ता नूतन ठाकुर द्वारा दर्ज मामले में मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट संध्या श्रीवास्तव ने प्रजापति को न्यायिक हिरासत में भेजा था। (भाषा)
भाजपा ने प्रजापति के खिलाफ लगे आरोपों को चुनावी मुद्दा बनाया था और इसके जरिए अखिलेश यादव सरकार पर बडा हमला बोला था। भाजपा ने उस समय अखिलेश पर आरोप लगाया था कि वे अपने दागी मंत्री को बचाने की कोशिश कर रहे हैं। हालांकि सपा ने इस आरोप से इंकार किया था। (भाषा)
Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine