खुशखबर, अब हवाई मार्ग से वरिष्ठ नागरिकों को तीर्थाटन कराएगी सरकार

जयपुर| पुनः संशोधित गुरुवार, 20 जून 2019 (14:52 IST)
जयपुर। के अब वरिष्ठ नागरिक तीर्थ यात्रा योजना के तहत तीर्थ करने विदेश भी जा सकेंगे। राज्य सरकार वरिष्ठ नागरिकों को हवाई मार्ग से नेपाल के काठमांडू स्थित पशुपतिनाथ की निःशुल्क तीर्थ यात्रा करवाएगी।
राज्य सरकार के सूत्रों ने बताया कि इस साल पांच हजार यात्री हवाई जहाज से तथा पांच हजार यात्री रेल से तीर्थ यात्रा पर जाएंगे। इसके साथ ही रेल यात्रा में दो तथा हवाई यात्रा में तीन नए सर्किट जोड़े गए हैं।

पर्यटन तथा देवस्थान मंत्री विश्वेन्द्र सिंह की अध्यक्षता में बुधवार को यहां राज्य स्तरीय समिति की बैठक में इस तरह के फैसले किए गए। इसमें बताया गया कि इस यात्रा के लिए आवेदन पांच जुलाई से किए जा सकेंगे।

सरकारी बयान के अनुसार, इस वर्ष हवाई यात्रा में तीन नए सर्किट जोड़े गए हैं। नेपाल में पशुपतिनाथ-काठमांडूू सर्किट में तीर्थ यात्रियों को काठमांडूू तक हवाई जहाज से तथा आगे पशुपतिनाथ तक बस से ले जाया जाएगा। गंगासागर - दक्षिणेश्वर काली -वेलूर मठ -कोलकाता सर्किट में यात्रियों को कोलकाता तक हवाई मार्ग से तथा आगे बस से ले जाया जाएगा। देहरादून- हरिद्वार- ऋषिकेश सर्किट में तीर्थ यात्रियों को देहरादून तक हवाई जहाज में तथा आगे बस से ले जाया जाएगा। तीन नए सर्किट शामिल होने से इस योजना में शामिल कुल सर्किटों की संख्या नौ हो गइ है।

वहीं वर्ष 2019 के लिए प्रस्तावित वरिष्ठ नागरिक तीर्थ यात्रा में रेल यात्रा में दो नए सर्किट जोड़े गए है। श्रीगोवर्धन-नंदगांव-बरसाना-मथुरा-वृंदावन सर्किट और अजमेर (अजमेर शरीफ) दिल्ली (शेख निजामुदद्दीन औलिया की दरगाह) तथा फतेहपुर सीकरी आगरा (शेख सलीम चिश्ती की दरगाह) सर्किट को इस वर्ष योजना में शामिल किया गया है। गौरतलब है कि इससे पूर्व रेल यात्रा में 6 सर्किट शामिल थे, जिन्हें बढ़ाकर 8 कर दिया गया है।
योजना के तहत रेल से जाने वाले 65 वर्ष या इससे अधिक उम्र के नागरिक भी अब अपने साथ सहायक ले जा सकेंगे। पहले केवल 70 वर्ष और इससे अधिक आयु के यात्रियों को ही सहायक ले जाने की अनुमति थी। इसके साथ ही सेवानिवृत्त सरकारी कर्मी भी योजना का लाभ उठा सकेंगे।

तीर्थ यात्रा योजना में हवाई और रेल मार्ग पर 5-5 प्रतिशत सीटें पत्रकारों के लिए आरक्षित की गई हैं। योजना का लाभ 60 वर्ष या इससे अधिक आयु के पत्रकार ले सकेंगे। (भाषा)

 

और भी पढ़ें :