Widgets Magazine

राष्ट्रपति पद के प्रत्याशी रामनाथ कोविंद कभी जीत न सके चुनाव!

Author अवनीश कुमार| Last Updated: मंगलवार, 20 जून 2017 (01:21 IST)
लखनऊ। भारतीय जनता पार्टी के द्वारा राष्ट्रपति पद के प्रत्याशी के रूप में को चुने जाने के बाद से व कानपुर देहात में मानो खुशी की लहर दौड़ उठी है और ऐसा होना लाजमी है क्योंकि रामनाथ कोविंद का कानपुर नगर व देहात से बहुत गहरा नाता रहा है। जहां एक तरफ उनका जन्म कानपुर देहात के डेरापुर तहसील के झींझक कस्बे के एक छोटे से गांव परौख में हुआ तो वही दूसरी तरफ उनका पूरा समय उनका कानपुर नगर में गुजरा।
कोविंद के राजनैतिक जीवन की शुरुआत भी कानपुर से ही हुई लेकिन एक ऐसा सच है, जिसे झुठलाया नहीं जा सकता। इस सच को सोचकर कहीं न कहीं राष्ट्रपति पद के प्रत्याशी रामनाथ कोविंद भी परेशान हो जाते थे। ऐसा हम नहीं कानपुर में रहने वाले उनके वह साथी कार्यकर्ता कह रहे हैं, जिन्होंने राजनीतिक सफर में उनके साथ कदम से कदम मिलाकर चले हैं।

अब आप सोच रहे होंगे ऐसा कौनसा सच है, जिसे सोच खुद राष्ट्रपति पद के प्रत्याशी रामनाथ कोविंद विचलित हो जाते हैं? आइए आपको हम बताते हैं वह सच क्या हैं? राष्ट्रपति पद के प्रत्याशी रामनाथ कोविंद कभी भी जीतकर जनता का प्रतिनिधित्व करने का मौका नहीं मिला है। इसे लेकर कई बार उनके साथ चुनाव में कंधे से कंधा मिलाकर रहने वाले साथी कार्यकर्ताओं से खुद रामनाथ कोविंद ने इस दर्द को बयां किया था।

उनको जानने वाले साथी कार्यकर्ता कहते हैं कि वह सुलझे हुए और सरल व्यक्ति हैं। उनसे मिलना बहुत आसान था और जनता के लिए वह हमेशा उनके सुख-दु:ख में तत्पर रहते थे लेकिन फिर भी चुनावी नतीजे जब आए, तब चौंकाने वाले आए और हमारे नेता को सिर्फ निराशा ही मिली लेकिन फिर भी उन्होंने हार को भी खुशी-खुशी स्वीकार लिया था और जनता की सेवा में लगे रहते थे

उनके पास जो भी आता था उसकी समस्या के निदान के लिए कभी पीछे नहीं हटते थे। आइए हम आपको बताते हैं कि वह कौन-कौन सी सीटें थी, जहां से राष्ट्रपति पद के प्रत्याशी कोविंद को हार का सामना करना पड़ा था। सबसे पहले भारतीय जनता पार्टी ने रामनाथ कोविंद को साल 1990 में घाटमपुर लोकसभा सीट से चुनाव मैदान में उतारा। कोविंद ने चुनाव जीतने के लिए रात दिन मेहनत की और आम जनता के करीब जाने का प्रयास किया लेकिन जब चुनाव नतीजा आया तो उन्हें हार का सामना करना पड़ा।

लेकिन कहीं ना कहीं भारतीय जनता पार्टी ने उन पर फिर विश्वास किया और साल 2007 में उन्हें प्रदेश की राजनीति में सक्रिय करने के लिए कानपुर देहात की भोगनीपुर सीट से चुनाव लड़ाया गया और कोविंद पार्टी के सम्मान को बचाने के लिए डटकर चुनाव लड़ा। जनता के बीच गए सुख-दु:ख को जाना और समझा लेकिन जब चुनाव का नतीजा आया तो बेहद चौंकाने वाला था क्योंकि फिर एक बार उनकी किस्मत ने उन्हें धोखा दे दिया था और उन्हें हार का सामना करना पड़ा था।
हालांकि भारतीय जनता पार्टी ने 1994 में कोविंद उत्तर प्रदेश से पहली बार राज्यसभा के लिए सांसद चुने गए। वह 12 साल तक राज्यसभा सांसद रहे। इस दौरान उन्होंने शिक्षा से जुड़े कई मुद्दों को उठाया वह कई संसदीय समितियों के सदस्य भी रहे हैं। बाद में कोविंद को 8 अगस्‍त 2015 को बिहार का राज्यपाल नियुक्‍त किया गया। भारतीय जनता पार्टी में रामनाथ कोविंद की पहचान एक दलित चेहरे के रूप में रही है। छात्र जीवन में कोविंद ने अनुसूचित जाति, जनजाति और महिलाओं के लिए काम किया।

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

कठुआ गैंगरेप मामला, पीड़िता की वकील को भी रेप का डर

कठुआ गैंगरेप मामला, पीड़िता की वकील को भी रेप का डर
जम्मू। बहुचर्चित रसाना मामले में नए मोड़ आ रहे हैं। अगर जम्मू की जनता मामले की जांच सीबीआई ...

टीवी के जरिए होगी आप पर सरकार की नजर

टीवी के जरिए होगी आप पर सरकार की नजर
नई दिल्ली। सरकार की नजर अब लोगों के टीवी सेट पर भी पहुंचने वाली है। सूचना व प्रसारण ...

नहीं रखने चाहिए बच्चों के ये नाम, वर्ना पछताएंगे

नहीं रखने चाहिए बच्चों के ये नाम, वर्ना पछताएंगे
हिंदुओं में वर्तमान में यह प्रचलन बढ़ने लगा है कि वे अपने बच्चों के नाम कुछ हटकर रखने लगे ...

इन पांच वज़हों से होते हैं बलात्कार

इन पांच वज़हों से होते हैं बलात्कार
जम्मू के कठुआ में आठ साल की बच्ची आसिफा के बलात्कार के बाद नृशंस हत्या से पूरा भारत ...

3 बड़ी बीमारियों का इलाज है लौकी के छिलके

3 बड़ी बीमारियों का इलाज है लौकी के छिलके
लौकी ही नहीं उसका छिलका भी कुछ समस्याओं के लिए कारगर औषधि है। जानिए कौन सी 3 समस्याओं का ...

कुंडली की जगह अब उपकरण से चुनिए जीवन साथी

कुंडली की जगह अब उपकरण से चुनिए जीवन साथी
नई दिल्ली। ऑस्ट्रेलिया ने दुनिया में पहली बार एक ऐसा उपकरण पेटेंट कराया है जिसके जरिये आप ...

बेंगलुरु में चला डिविलियर्स का जादू, बोल्ट के कैच ने जीता ...

बेंगलुरु में चला डिविलियर्स का जादू, बोल्ट के कैच ने जीता दिल...
दिल्ली डेयरडेविल्स के खिलाफ आईपीएल के एक मैच में जब एबी डिविलियर्स का बल्ला चला तो ...

मोदी के मंत्री बोले, इतने बड़े देश में रेप की एक-दो घटनाएं ...

मोदी के मंत्री बोले, इतने बड़े देश में रेप की एक-दो घटनाएं हो जाती हैं
नई दिल्ली। देश में बलात्कार की घटनाएं थमने का नाम ही नहीं ले रही है। इस पर लोगों में काफी ...

एटीएम कार्ड बदलकर निकाल लेते थे पैसे, छह गिरफ्तार

एटीएम कार्ड बदलकर निकाल लेते थे पैसे, छह गिरफ्तार
जौनपुर। उत्तर प्रदेश की जौनपुर पुलिस ने एटीएम कार्ड बदलकर रुपया निकालने वाले गिरोह का ...

शिक्षाविदों का मोदी को खत, कठुआ-उन्नाव मामले में चुप्पी पर ...

शिक्षाविदों का मोदी को खत, कठुआ-उन्नाव मामले में चुप्पी पर नाराजगी
नई दिल्ली। दुनिया भर के 600 से अधिक शिक्षाविदों और विद्वानों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ...

वीवो का धमाकेदार सेल्फी फोन वीवो वी 9, ये हैं फीचर्स

वीवो का धमाकेदार सेल्फी फोन वीवो वी 9, ये हैं फीचर्स
चीनी स्मार्टफोन निर्माता कंपनी वीवो ने पिछले महीने भारत में अपना नया सेल्फी स्मार्टफोन ...

सस्ते Nokia 1 के साथ जियो का कैश बैक ऑफर

सस्ते Nokia 1 के साथ जियो का कैश बैक ऑफर
एचएमडी ग्लोबल ने एंड्राइड गो एडिशन के स्मार्टफोन्स के पहले बैच में Nokia 1 फोन को भारत ...

Xiaomi Redmi 5, सस्ता फोन, दमदार फीचर्स

Xiaomi Redmi 5, सस्ता फोन, दमदार फीचर्स
चीनी मोबाइल कपंनी ने भारतीय बाजार में एक और किफायती फोन लांच किया है। नए रेडमी 5 की कीमत ...

दो रियर कैमरों वाला सस्ता स्मार्ट फोन, जानिए फीचर्स

दो रियर कैमरों वाला सस्ता स्मार्ट फोन, जानिए फीचर्स
भारतीय कंपनी स्वाइट टेक्नोलॉजीज ने एक नया स्मार्टफोन लांच किया है। Swipe Elite Dual नाम ...

भारत में इस तारीख से मिलेंगे सैमसंग गैलेक्सी एस 9, एस9 ...

भारत में इस तारीख से मिलेंगे सैमसंग गैलेक्सी एस 9, एस9 प्लस, ये रहेगी कीमत
दिग्गज स्मार्टफोन निर्माता कंपनी सैमसंग ने देश में महंगे स्मार्टफोन खंड में अपनी स्थिति ...