पुलिस जवानों ने पेश की मिसाल, गांधीगिरी से दिया सबक

कीर्ति राजेश चौरसिया| पुनः संशोधित मंगलवार, 6 मार्च 2018 (16:23 IST)
पुलिस के ऊपर उंगली उठना कोई नई बात नहीं। आए दिन पुलिस के ऊपर कोई न कोई आरोप लगते रहे हैं, लेकिन बीना में 100 नंबर पुलिस के जवानों ने एक ऐसी मिशाल पेश की है कि जो लोग पुलिस पर कीचड़ उछालने से नहीं चूकते थे, आज वे ही लोग ताऱीफ करते नहीं थक रहे हैं जिनके काम की तारीफ विधायक महेश राय से लेकर एसपी सतेंद्र शुक्ला, जिला कलेक्टर अनिल सिंग तक ने की है। दरअसल सागर जिले के ‍बीना में 100 डॉयल को सूचना मिली थी कि मंडीबामोरा थाना क्षेत्र के गोहर गांव मे विवाद हो गया है।

इसके बाद 100 डॉयल पुलिस मौके पर पहुंच गई। जहां पर आम रास्ते पर पड़े कचड़े के ढेर की वजह से दो पक्षों में जोरदार विवाद हो रहा था जो बढ़ता ही जा रहा था। काफी मशक्कत के बाद भी दोनों पक्षों में सुलह न हो सकी, न ही पुलिस की समझाइश का कोई असर हुआ। फिर क्या था पुलिस के जवानों ने वह किया जो पुलिस कभी नहीं करती। पुलिस ने विवाद शांत करने की बजाय विवाद की जड़ को ही खत्म करने में लग गई।

पुलिस वर्दी को उतार हेड कॉस्टेबल मोहन कुशवाहा, कांस्टेबल दीपक शुक्ला, एंव पायलट इरफान खान ने फावड़ा-तसला लेकर रोड पर पड़े कचड़े के ढेर को हटाने मे लग गए। पुलिस की इस पहल से सभी स्तब्ध रह गए विवाद कर रहे लोग शांत और शर्मिंदा हो गए। तत्पश्चात दोनों पक्षों ने अपनी गलती स्वीकारते हुए विवाद शांत किया और कभी विवाद न करने की कसम खाई। साथ ही गंदगी नहीं फैलाने का वादा किया।

मामला चाहे जो भी हो पर 100 डॉयल पुलिस की इस गांधीगिरी और कार्यशेली ने पुलिस अधिकारियों के साथ साथ आम जनता का भी दिल जीत लिया है।
कांस्टेबल दीपक शुक्ला पहले भी इस तरह इंसानियत की मिसालें पहले से ही पेश करते रहे हैं। दीपक की नजर में मानवता सुधार और जागरूकता ही सही है।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :