कावड़ लाने वाले मुस्लिम युवक को नमाज पढ़ने से रोकने पर विवाद

Last Updated: रविवार, 12 अगस्त 2018 (14:58 IST)
बागपत (उप्र)। बागपत जिले के रंछाड़ गांव में यात्रा में शामिल हुए एक को जुमे की के दौरान मस्जिद से कथित तौर पर निकाले जाने के मामले में 3 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

बिनौली थाना क्षेत्र के रंछाड़ गांव निवासी युवक बाबू खां का आरोप है कि उसे कावड़ यात्रा में शामिल होने के कारण मस्जिद से निकाला गया, वहीं आरोपियों का दावा है कि खां को शराब के नशे होने की वजह से मस्जिद से बाहर किया गया। पुलिस के मुताबिक दोनों पक्षों के बीच हत्या के किसी मुकदमे को लेकर पहले से ही रंजिश है।

पुलिस सूत्रों ने खां द्वारा दी गई तहरीर के हवाले से बताया कि खां हरिद्वार से पिछले दिनों कावड़ लाया था और मंदिरों में जलाभिषेक भी किया था। शुक्रवार को वह जुमे की नमाज अदा करने गांव की मस्जिद में गया तो कुछ लोगों ने उसे कथित तौर पर अपमानित करते हुए धक्के देकर निकाल दिया और हाथापाई तथा गाली-गलौज की। इस मामले में बाबू उर्फ लतीफ, चांद और साबिर नामक व्यक्तियों के खिलाफ शुक्रवार को मुकदमा दर्ज करके उन्हें शनिवार को गिरफ्तार कर लिया गया, जबकि एक अन्य आरोपी फरार है।
इस मामले के संबंध में शनिवार को गांव स्थित शिव मंदिर परिसर में हिन्दू समाज की पंचायत हुई। बताया जाता है कि पंचायत के बाद बाबू खां का कावड़िये के वेश में कावड़ के साथ जुलूस निकाला गया। घटना को लेकर हिन्दू जागरण मंच के जिलाध्यक्ष दीपक बामनौली ने विरोध जताते हुए कहा है कि मंच बाबू खां के साथ है और अगर उसे तंग किया गया तो मंच सहन नहीं करेगा। हलका इंस्पेक्टर देवेन्द्र बिष्ट ने बताया कि गांव में शांति है और पुलिस दोनों पक्षों के साथ-साथ अन्य गणमान्य लोगों से बातचीत कर सुलह के प्रयास में जुटी है।

उन्होंने यह भी बताया कि दोनों पक्षों के बीच एक मुकदमे को लेकर पहले से ही था। मामला संदिग्ध लग रहा है। आरोपियों का दावा है कि बाबू खां शुक्रवार को शराब के नशे में मस्जिद आया था इसीलिए उसे मस्जिद में जाने से रोका गया था। पुलिस मामले की जांच कर रही है। (भाषा)


और भी पढ़ें :