चमत्कार, रोने लगे हनुमानजी (वीडियो)

अवनीश कुमार| Last Updated: रविवार, 5 मार्च 2017 (17:45 IST)
लखनऊ। उत्तरप्रदेश में जहां एक तरफ विधानसभा चुनाव को लेकर चर्चा का विषय  बना हुआ है तो वहीं बनारस से 100 किलोमीटर की दूरी पर स्थित संगम नगरी में ऐसी आश्चर्यजनक खबर सामने आ रही है जिसे सुन दूर-दूर से लोग मौके पर पहुंच रहे हैं।
आप सोच रहे होंगे कि ऐसी क्या घटना घटित हुई है जिसे सुन लोग दूर-दूर से आ रहे हैं? तो  आइए, हम आपको बताते हैं कि संगम नगरी इलाहाबाद में आज एक हनुमान मंदिर में  हनुमानजी की आंखों से आंसू निकलने की बात जैसे ही फैली, वैसे ही उनके दर्शन करने के  लिए दूर-दूर से लोग सैकड़ों की तादाद में इकट्ठे हो गए और लंबी-लंबी लाइनें हनुमानजी के  मंदिर के बाहर देखी जा सकती हैं।
प्राप्त जानकारी के अनुसार इलाहाबाद में थाना कोतवाली बादशाही चौकी के निकट बादशाही मंडी  के अंदर एक मंदिर के अंदर हनुमानजी का मंदिर है। सुबह मंदिर में पहुंचे कुछ लोगों ने  हनुमानजी की मूर्ति से आंसू निकलते देखे तो उन्होंने आंसू पोंछ दिए लेकिन मूर्ति से लगातार  आंसू बहता ही रहे।
 
बार-बार पोंछने के बाद भी आंसू नहीं रुकने पर यह बात आसपास के लोगों को बताई गई तो  तो हनुमानजी के आंसू निकलने वाली बात आग की तरह दूर-दूर तक फैल गई और उनको  देखने के लिए लोगों की भीड़ मंदिर के बाहर खड़ी हो गई। सब अपने-अपने हिसाब से उसकी  वजह बताने लगे।
 
पुजारी और स्थानीय लोगों के मुताबिक कल्लू चौरसिया की ओर से शिवरात्रि पर शिव का श्रृंगार  और मंदिर की सजावट कराई जाती रही है। व्यवस्थापक के न रहने पर इस बार पूजा नहीं हो  सकी जिससे हनुमानजी रुष्ट हुए और मूर्ति की आंखों से आंसू निकल रहे हैं।
 
तो वहीं इलाहाबाद विश्वविद्यालय के रसायन विज्ञान विभाग की मानें तो हनुमानजी की मूर्ति  पर सिन्दूर का लगातार लेपन किया जाता है और सिन्दूर में मरक्युरिक ऑक्साइड होता है, जो पानी को सोखता रहता है और एक स्थिति ऐसी आती है, जब मूर्ति में पानी की मात्रा अधिकतम स्तर तक पहुंच जाती है। ऐसे में मूर्ति पर कुछ बूंदें दिखाई दे सकती हैं लेकिन ऐसा कुछ समय के लिए ही होता है।

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :