गोरखपुर के BRD हॉस्पिटल में बीते 72 घंटों में 61 बच्चों की मौत

पुनः संशोधित बुधवार, 30 अगस्त 2017 (10:59 IST)
गोरखपुर। यह खबर गोरखपुर, उत्तर प्रदेश के लिए ही नहीं देश के लिए भी चिंता का विषय है कि के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में बीते 72 घंटों में 61 हो चुकी है। इन मौतों पर मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ. पीके सिंह का कहना है कि इस मौसम में यहां हर साल ऐसे ही हालात रहते हैं।
ऐसे में सवाल उठता है कि यदि इस मौसम में ऐसा होता है तो पहले से ही बेहतर चिकित्सा और स्वास्थ्य जागरूकता का इंतजाम क्यों‍ नहीं किया जाता? सवाल यह भी है कि क्यों गोरखपुर में सिर्फ यही एक अस्पताल है? क्या यह अस्पताल है या कि कॉलेज है?

बीआरडी में भर्ती 61 बच्चों में से 27 अगस्त को 17 और 28 अगस्त को 25 बच्चों की मौत हुई थी। देर रात 6 और बच्चों की मौत हो गई, जिसमें इंसेफेलाइटिस से 7, एनआईसीयू में 10 और अन्य बीमारियों से ग्रस्त 8 बच्चे थे।
ऐसे में 27 अगस्त को 17, 28 अगस्त को 25 और 29 अगस्त को 19 बच्चों की मौत हुई है। इस तरह 72 घंटों में मरने वाले बच्चों का आंकड़ा 61 तक जा पहुंचा है। इसमें इंसेफ्लाइटिस, नियोनेटल और अन्य बीमारियों से मरने वाले बच्चों की संख्या शामिल है।

डॉ. पीके सिंह के मुताबिक, इन दिनों अस्पताल में बड़ी संख्या में बीमार बच्चे आ रहे हैं। उनका कहना है कि अस्पताल में इस वक्त ऑक्सीजन और दवाओं की कोई कमी नहीं है, लेकिन कई बच्चों की सेहत अस्पताल आने तक इतनी बिगड़ चुकी होती है कि डॉक्टर पूरी कोशिश के बावजूद उन्हें बचा नहीं पा रहे। डॉक्टर पीके सिंह के मुताबिक, गोरखपुर में जुलाई, अगस्त और सितंबर के महीनों में हर साल हालात इतने ही खराब होते हैं।
गौरतलब है कि गोरखपुर के इसी अस्तपाल में 10 से 12 अगस्त के बीच ऑक्सीजन की कमी होने से 36 बच्चों की मौत हो गई थी। (एजेंसी)

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :