तेलंगाना बस दुर्घटना, जिसने भी देखा सिहर गया, 57 श्रद्धालुओं की मौत

Last Updated: मंगलवार, 11 सितम्बर 2018 (23:45 IST)
हैदराबाद। तेलंगाना के जगतियाल जिले में मंगलवार को टीएसआरटीसी की खचाखच भरी एक बस के घाटी में गिरने से 57 लोगों की मौत हो गई और 30 अन्य घायल हो गए। राज्य के इतिहास में यह सबसे भीषण सड़क हादसों में से एक है।

पुलिस ने बताया कि मृतकों में 36 महिलाएं और पांच बच्चे हैं। पीड़ितों में से कुछ तीर्थयात्री थे जो कोंडागट्टू स्थित प्रसिद्ध हनुमान मंदिर में पूजा करके जगतियाल लौट रहे थे।

पुलिस ने बताया कि हैदराबाद से करीब 200 किलोमीटर दूर शनिवारपेट गांव के नजदीक सड़क के घाट खंड पर तेलंगाना राज्य पथ परिवहन निगम (टीएसआरटीसी) की बस घाटी में गिर गई। बस कोंडागट्टू से जगतियाल जा रही थी।
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने तेलंगाना में सड़क दुर्घटना में यात्रियों की मौत पर शोक प्रकट किया और घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की।

प्रधानमंत्री ने ट्वीट में कहा, 'तेलंगाना के जगतियाल जिले में बस दुर्घटना की घटना दिल को दहला देने वाली है और इसे शब्दों में बयां नहीं किया जा सकता है।'

उन्होंने कहा कि इस दुर्घटना में लोगों की मौत से दुखी हूं। मेरी संवेदनाएं पीड़ित परिवारों के साथ है। मैं घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करता हूं।
जगतियाल की पुलिस अधीक्षक सिंधु शर्मा ने फोन पर पीटीआई को बताया, 'दुर्घटना में 57 लोगों की मौत हुई है। तकरीबन 30 अन्य लोग घायल हुए हैं, जिनका विभिन्न अस्पतालों में उपचार चल रहा है।'

पुलिस ने बताया कि 90 से अधिक लोग बस से यात्रा कर रहे थे। बस जगतियाल शहर जा रही थी। दुर्घटना सुबह 11 बजे के करीब हुई। मृतकों में बस का चालक भी शामिल है।

दुर्घटना में जीवित बचीं महिलाएं अपने करीबियों को खोने पर दहाड़ मारकर रो रही थीं। उनकी चीत्कार से घटनास्थल पर पूरा माहौल गमगीन हो गया।
स्थानीय लोगों ने सबसे पहले जीवित बचे लोगों और शवों को बाहर निकाला। उन्होंने आरोप लगाया कि सुरक्षा मुद्दे को लेकर कुछ समय पहले तक सड़क बंद थी। ईंधन बचाने के लिये टीएसआरटीसी के अधिकारियों के जोर देने पर इसे दोबारा खोला गया, क्योंकि इससे कोंडागट्टू और जगतियाल के बीच की दूरी थोड़ी कम हो जाती है।

एक स्थानीय निवासी ने दावा किया कि बस में क्षमता से ज्यादा लोग सवार थे। टीएसआरटीसी के एक अधिकारी ने बताया कि बस में 54 लोगों के लिए सीट थी।
पुलिस और राजस्व अधिकारियों ने स्थानीय लोगों की मदद से घायलों को अस्पताल पहुंचाया। क्षतिग्रस्त हो चुकी बस से शवों को भी उन लोगों ने निकाला। पुलिस ने बताया कि घायलों को जगतियाल और पड़ोसी करीमनगर जिले की अस्पतालों में भर्ती कराया गया है।

राज्य के वित्त मंत्री एतेला राजेंद्र ने कहा कि बस नई थी और ड्राइवर भी अनुभवी था। यह खतरनाक मार्ग है। वहां पर पहले भी हादसे हो चुके हैं। मार्ग को बेहतर बनाने का काम किया जाएगा।

जगतियाल जिला पुलिस अधीक्षक सिंधु शर्मा ने कहा कि इस बात का संदेह है कि चालक ने एक स्पीड ब्रेकर के निकट वाहन पर से नियंत्रण खो दिया, जिससे यह हादसा हुआ। हालांकि, घटना के ठीक-ठीक कारणों का पता लगाने के लिये जांच की जा रही है। मृतकों में बस चालक श्रीनिवास (51) भी शामिल है।

तेलंगाना के कार्यवाहक मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने दुर्घटना पर दुख व्यक्त करते हुए सभी मृतकों के परिजन को पांच-पांच लाख रुपये की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की।
मुख्यमंत्री कार्यालय से जारी बयान में कहा गया है कि उन्होंने घायलों को तत्काल चिकित्सा सुविधा मुहैया कराने का अधिकारियों को आदेश दिया।

दुर्घटना में लोगों की मौत पर दुख व्यक्त करते हुए तेलंगाना प्रदेश कांग्रेस कमेटी (टीपीसीसी) के अध्यक्ष एन उत्तम कुमार रेड्डी ने मृतकों के परिवार को 10-10 लाख रुपए की वित्तीय सहायता दिए जाने की मांग की। (भाषा)


और भी पढ़ें :