धूमधाम से निकला रावण का जुलूस

कानपुर| भाषा| पुनः संशोधित रविवार, 17 अक्टूबर 2010 (16:23 IST)
देश के सभी शहरों में आज दशहरे के दिन जहाँ का पुतला फूँका जाता है वहीं शहर में दलित पैंथर नामक संगठन ने रावण को विद्वान बताते हुए उसका निकाला।

भारतीय दलित पैंथर नाम का एक संगठन रमाबाई नगर जिले के पुखरांया में प्रत्येक वर्ष दशहरे के दिन रावण मेले का आयोजन करता है। आज इसमें बहुत से लोग बौद्ध धर्म की दीक्षा ग्रहण करेंगे।

जुलूस मैकराबर्टगंज इलाके से शुरू हुआ जिसमें रावण के अलावा मेघनाथ, कुम्भकरण, सम्बूक, गौतमबुद्ध, डॉ. अम्बेडकर, राजा अशोक, पेरियार ललई सिंह, झलकारी बाई, शाहूजी महाराज और ज्योतिबाफूले की झाँकियाँ भी थीं। दलित कार्यकर्ता इस जुलूस में नाचते गाते इन झाँकियों को मेला स्थल पर ले गए।
इस अवसर पर संगठन से जुड़े लोग रावण की पूजा अर्चना भी करते हैं। संगठन के लोगों का कहना है कि वह ऐसा कार्यक्रम पिछले दस साल से कर रहे हैं। (भाषा)

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :