अक्षय तृतीया : आपकी राशि के अनुसार कीजिए यह शुभ उपाय


मेष : जिनकी जन्म राशि मेष है उन्हें लाल कपड़े में सवा पाव या सवा किलो मसूर दाल बांधकर व्यावसायिक प्रतिष्ठान में रखना चाहिए। नौकरी पेशा व्यक्ति दाल को पूजा स्थान में रख सकते हैं। दाल का दान भी आपके लिए लाभप्रद रहेगा।
वृषः वृष राशि में जन्मे व्यक्तियों के स्वामी ग्रह शुक्र सुख प्रदान करने वाले ग्रह हैं। इस राशि के व्यक्तियों को अक्षय तृतीया के दिन एक कलश में जल भरकर दान करना चाहिए। धन वृद्धि के लिए सफेद बर्तन में गंगा का जल भरकर सफेद कपड़े से उसका मुंह बंद कर दें। इसे घर में पूजा स्थान या व्यावसायिक प्रतिष्ठान में रखने से अपार धन का योग बनेगा।

मिथुन: बुध की राशि मिथुन में जिनका जन्म हुआ है उन्हें मूंग की दाल दान करना चाहिए। अक्षय तृतीया के दिन कांसे के बर्तन में हरा कपड़ा लपेटकर पूजा स्थल में रखें इससे राशि स्वामी की स्थिति मजबूत होगी। सुख और धन बढ़ेगा।
कर्क : चन्द्रमा की राशि कर्क में जन्मे व्यक्तियों को अक्षय के तृतीया के दिन चांदी में मोती धारण करना चाहिए। चांदी का एक सिक्का जल में रखकर पूर्व दिशा में रखने से आय बढ़ेगा। व्यय में कमी आएगी।

सिंहः सूर्य की राशि सिंह में जिनका जन्म हुआ है उन्हें अक्षय तृतीया के दिन सुबह सबसे पहले उगते हुए सूर्य को जल देना चाहिए। इसके बाद गुड़ का दान करें। किसी बर्तन में समुद्री अथवा सेंधा नमक डालकर घर में घुमाएं और इसे पूजा स्थान में कहीं रख दें। स्वास्थ्य और धन का लाभ बढ़ेगा।
कन्याः बुध की दूसरी राशि कन्या में जिनका जन्म हुआ है उन्हें कपूर की बाती जलाकर पूरे घर में घुमाना चाहिए। हरी चूडियां, श्रृंगार सामान और मूंग की दाल दान कर सकते हैं। अक्षय तृतीया के दिन पन्ना धारण करना आपके लिए बहुत ही शुभ रहेगा।

तुलाः तुला राशि के व्यक्तियों को धन वृद्घि के लिए अक्षय तृतीया के दिन सफेद वस्त्र का दान करना चाहिए। हीरा अथवा जर्कन धारण करना आपके लिए सुखदायक और उन्नति प्रदान करने वाला होगा। घर में अथवा व्यापारिक प्रतिष्ठान में सफेद रंग की मूर्ति स्थापित करें।
वृश्चिक: इस राशि के व्यक्तियों को एक शीशी में शहद भरकर उसे लाल कपड़े में लपेटकर घर के दक्षिण भाग में रह देना चाहिए। इस दिन मूंगा धारण करना आपके स्वास्थ्य और धन वृद्धि के लिए अनुकूल रहेगा।

धनुः गुरु की इस राशि में जिनका जन्म हुआ है उन्हें पीले कपड़े में हल्दी लपेटकर पूजा स्थान में रखना चाहिए। आपके लिए अच्छा रहेगा कि कोई धार्मिक पुस्तक बांटे। बूंदी के लड्डू दान करना भी शुभ रहेगा।
मकरः अक्षय तृतीया के दिन किसी बर्तन में तिल का तेल भरकर काले कपड़े में लपेट लें। इसे घर के पूर्वी भाग में रखें। इसके बाद ग्यारह बार दशरथकृत शनि स्तोत्र का पाठ करें। यह आपके भाग्य को बलवान बनाएगा। प्रयास के अनुरुप धन बढ़ता जाएगा।

कुंभः किसी जरुरतमंद को आर्थिक दान दें। इससे भाग्य को बल मिलेगा। तिल, लोहा, नारियल का दान भी आपके लिए अनुकूल रहेगा। धन और सुख के लिए नीलम धारण कर सकते हैं। अक्षय तृतीया इस काम के लिए उत्तम है।
मीनः पीले रंग के वस्त्र में पीला सरसों और कुछ सिक्के बांधकर पूजा स्थान में उत्तर पूर्व दिशा की ओर रखें। किसी बुजुर्ग व्यक्ति को वस्त्र दान करें और उनसे आशीर्वाद प्राप्त करें। पिता और गुरु का कभी अपमान न करें, धन और सम्मान दोनों बढ़ेगा।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

ऐसा उत्पन्न हुआ धरती पर मानव और ऐसे खत्म हो जाएगा

ऐसा उत्पन्न हुआ धरती पर मानव और ऐसे खत्म हो जाएगा
हिन्दू धर्म अनुसार प्रत्येक ग्रह, नक्षत्र, जीव और मानव की एक निश्‍चित आयु बताई गई है। वेद ...

सूर्य कर्क संक्रांति आरंभ, क्या सच में सोने चले जाएंगे सारे ...

सूर्य कर्क संक्रांति आरंभ, क्या सच में सोने चले जाएंगे सारे देवता... पढ़ें पौराणिक महत्व और 11 खास बातें
सूर्यदेव ने कर्क राशि में प्रवेश कर लिया है। सूर्य के कर्क में प्रवेश करने के कारण ही इसे ...

ज्योतिष सच या झूठ, जानिए रहस्य

ज्योतिष सच या झूठ, जानिए रहस्य
गीता में लिखा गया है कि ये संसार उल्टा पेड़ है। इसकी जड़ें ऊपर और शाखाएं नीचे हैं। यदि कुछ ...

श्रावण मास में शिव अभिषेक से होती हैं कई बीमारियां दूर, ...

श्रावण मास में शिव अभिषेक से होती हैं कई बीमारियां दूर, जानिए ग्रह अनुसार क्या चढ़ाएं शिव को
श्रावण के शुभ समय में ग्रहों की शुभ-अशुभ स्थिति के अनुसार शिवलिंग का पूजन करना चाहिए। ...

क्या ग्रहण करें देवशयनी एकादशी के दिन, जानिए 6 जरूरी ...

क्या ग्रहण करें देवशयनी एकादशी के दिन, जानिए 6 जरूरी बातें...
हिन्दू धर्म में आषाढ़ मास की देवशयनी एकादशी का बहुत महत्व है। यह एकादशी मनुष्य को परलोक ...

आचार्यश्री विद्यासागरजी महाराज का 51वां दीक्षा दिवस

आचार्यश्री विद्यासागरजी महाराज का 51वां दीक्षा दिवस
विश्व-वंदनीय जैन संत आचार्यश्री 108 विद्यासागरजी महाराज भारत भूमि के प्रखर तपस्वी, चिंतक, ...

18 जुलाई से सौर मास श्रावण आरंभ, क्या लाया है यह बदलाव आपकी ...

18 जुलाई से सौर मास श्रावण आरंभ, क्या लाया है यह बदलाव आपकी राशि के लिए
यूं तो विधिवत श्रावण मास का आरंभ 28 जुलाई से होगा लेकिन सूर्य कर्क संक्रांति के साथ ही ...

क्या अमरनाथ गुफा में शिवलिंग के साथ ही बर्फ से निर्मित होते ...

क्या अमरनाथ गुफा में शिवलिंग के साथ ही बर्फ से निर्मित होते हैं पार्वती और गणेश?
अमरनाथ गुफा में शिवलिंग का निर्मित होना समझ में आता है, लेकिन इस पवित्र गुफा में एक गणेश ...

इन पौराणिक कथाओं से जानिए कि क्यों प्रिय है शिव को श्रावण ...

इन पौराणिक कथाओं से जानिए कि क्यों प्रिय है शिव को श्रावण मास,अभिषेक और बेलपत्र
पौराणिक कथा है कि जब सनत कुमारों ने महादेव से उन्हें श्रावण महीना प्रिय होने का कारण पूछा ...

कौन है जापानी लकी कैट, क्यों करती है यह हमारी मदद... जानें ...

कौन है जापानी लकी कैट, क्यों करती है यह हमारी मदद... जानें पूरी कहानी
लकी कैट जापान से आई है। घर में इस बिल्ली की प्रतिमा रखने मात्र से ही व्यक्ति की सारी ...

राशिफल