Widgets Magazine Widgets Magazine
Widgets Magazine
Widgets Magazine

प्रवासी हिन्दी कविता : मुड़ के पीछे जो देखा...

- हरनारायण शुक्ला 
 


 
मुड़ के पीछे जो देखा कि क्या हो गया,
कम्बख्त वक्त गुजरता चला ही गया। 
 
मुड़ के पीछे जो देखा कि वो दिन हैं कहां,
वो दिन ही नहीं अब, न वो दुनिया यहां। 
 
मुड़ के पीछे जो देखा कि मेरे अपने कहां,
सब बिखरे हुए हैं, कोई यहां और कोई वहां।
 
मुड़ के पीछे जो देखा कि कितना चला,
वहीं का वहीं हूं, कुछ पता न चला। 
 
मुड़ के पीछे जो देखा कि सफर कैसा था,
उतार-औ-चढ़ाव का सिलसिला ही तो था। 
 
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine
Widgets Magazine
Widgets Magazine Widgets Magazine
Widgets Magazine