प्रवासी हिन्दी कविता : खिड़कियां

Widgets Magazine
- सुदर्शन प्रियदर्शिनी 
 










उस दिन
अचानक
खिड़कियां
खुली रह गईं
और हवा ने
अंदर घुसकर
अन्यथा
मनमानियां
कर डाली- 
 
करीने से
सजी-रखी
चीजों के
रंग और ढंग
बदल डाले-
 
बिस्तर की
चादर उड़कर
अलानी-खाट
रह गई-
 
रसोई के बर्तन
एक रोंस से
सरककर
दूसरी रोंस
पर-सीधे मुंह
खड़े हो गए-
 
मेज की
तश्तरियां
इधर-उधर
‍बिखरकर
कमरे में
फैल गईं
मेज पर रखे
गुलदस्ते
के फूल
ब्रास की
मूर्ति पर
कुर्बान हो गए-
 
इसी तरह
सारा घर-लगा
तितर-बितर
होकर-बेतरतीब
लगने लगा-
 
अपनी भूल पर
गु्स्सा आया
और चीजें
समेटते-समेटते
हाथ ठिठक गए-
 
लगा-जो
जहां-होना
चाहिए-
वहीं हुआ
जहां नहीं
होना चाहिए
नहीं हुआ-
 
कहीं अति
करीना-पन
डस रहा है हमें-
मैं चुपचाप
बैठकर
चीजों को देखती रही
और सोचती रही
कभी-कभी
खिड़की खुली ही
रहनी चाहिए
प्रकृति और
हवा को
अंदर-बाहर होकर
सब कुछ प्रकृतिस्थ
कर देना चाहिए। 

(लेखिका कई सम्मानों से सम्मानित सम्प्रति अमेरिका की ओहायो नगरी में स्वतंत्र लेखन में रत हैं।)
साभार- विभोम स्वर 
Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।