प्रवासी साहित्य : एक घर था मन का बसेरा...



मेरा भी था मेरे मन का बसेरा,
मेरे अंदर का सागर मेरा उन्माद,
जो हरकत लेता और बदले में देता वजहें,
मैं हंस पड़ती अनायास ही खुशी को वजह देता।

मोहल्ले की छोटी गलियों में घर के नन्हे गलियारों में,
खनका करती थी हंसी मेरे मासूम बचपन की,
गली के गाय, कुत्तों, बच्चों, बूढ़ों सभी से थी भली पहचान,
भीगी बहती हवा के खुशबूदार झोंकों में हिंडोले में पैर पसारे।

चिड़िया, गिलहरी, कौवे की कांव आंगन के जैतून के पेड़ पर,
आकाश जितनी ऊंची खुली खिड़की जैसी बालकनी,
गली के बच्चों की शरारतों की योजना स्थली,
भागकर छज्जे से ऊंची उठती इमारतें निहारना।

वो ऊंचाइयां सृजन करतीं भविष्य की परछाइयां,
बीतेगा आने वाला वक्त किन्हीं फिल्मी ऊंची इमारतों में,
मीलों फैली हरियाली अंतिम छोर तक समुन्दर आए नजर,
उड़नखटोले में पहुंचेंगे जादुई नगरी में होगा घर।

पापा थे हंसते-पुलकित होते जान सपनों का सहस्य,
खूब साथ दिया पापा खूब बलिदान दिया पापा,
देश-विदेश का ज्ञान दिया, भाषा-विज्ञान का व्याख्यान,
गणित की गणनाएं, भूगोल-इतिहास सब सरल किया।

वो कब जगे, कब सोए पता नहीं हम तो सपनों में खोए,
योग-संस्कारों का बीज भी बो ही दिया था तुमने,
किसी दर-दिशा गुरु न खोजा भरपूर थी आपकी शिक्षा,
आपकी चौड़ी छाती बनती मेरे बचपन का अखाड़ा।

विद्वान संतान आपकी उतरी है जीवन अखाड़े में,
जादुई नगरी ऊंची इमारतें सपनों का घर है सब,
चारों ओर रोशनी है फिर भी हटता नहीं भीतर अंधेरा,
वर्षों बाद उड़नखटोले से उतर देखी करीब से झुर्रियां।

धुंधली पड़ी नजर, लचर कानों पर झुका चश्मा,
कितने शब्द कह गई एक सांस में कहती गई,
सपनों के रहस्य की हकीकत पापा बतानी है,
आप बेबस, मैं बेबस किया, उम्र ने कितना बेबस।

आप सुन न पाए मेरी भावनाओं की सुनामी में,
मंद-मंद मुस्कराए, हाथ रख माथे डगडगमाए,
घर चलते हैं, थक गया हूं प्रतीक्षा लंबी थी,
अब मेरी प्रतीक्षा लंबी है, मेरे मन का बसेरा।

मेरा घर वो बीते सुनहरे पल क्या लौट आएंगे,
मेरी खोखली हंसी में देते अनायास ही खुशी के पल!


वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

यदि पैरेंट्स के व्यवहार में हैं ये 4 बुरी आदतें तो आपके ...

यदि पैरेंट्स के व्यवहार में हैं ये 4 बुरी आदतें तो आपके बच्चे को बिगड़ने से कोई नहीं रोक सकता!
पैरेंट्स की कुछ ऐसी आदतें होती हैं, जो वे बच्चों को सुधारने, कुछ सिखाने-पढ़ाने और नियंत्रण ...

क्या आप भी संकोची हैं, अपना ही सामान मांग नहीं पाते हैं तो ...

क्या आप भी संकोची हैं, अपना ही सामान मांग नहीं पाते हैं तो यह एस्ट्रो टिप्स आपके लिए है
क्या आप भी संकोची हैं, अगर हां तो यह आलेख आपके लिए है...

कैंसर की रिस्क लेना अगर मंजूर है तो ही इन 7 सामान्य लक्षणों ...

कैंसर की रिस्क लेना अगर मंजूर है तो ही इन 7 सामान्य लक्षणों को नजरअंदाज करें, वरना हो सकती है बड़ी परेशानी
ये बीमारी भी ऐसे ही सामने नहीं आती। इसके भी लक्षण हैं जो आप और हम जैसे लोग अनदेखा करते ...

5 ऐसी चीजें जो लिवर की बीमारी को करती हैं दूर, एक बार पढ़ें ...

5 ऐसी चीजें जो लिवर की बीमारी को करती हैं दूर, एक बार पढ़ें जरूर
आप खाने के शौकीन हैं लेकिन क्या आप महसूस कर रहे हैं कि पिछले कुछ समय से आपका पाचन थोड़ा ...

दोमुंहे बालों से छुटकारा पाना चाहती हैं, तो ये 4 तरीके ...

दोमुंहे बालों से छुटकारा पाना चाहती हैं, तो ये 4 तरीके अपनाएं
जब बालों का निचला हिस्सा दो भागों में बंट जाता है, तब उसे बालों का दोमुंहा होना कहते हैं। ...

फुटबॉल के मैदान से हटकर अब चर्चा कूटनीति के मैदान की

फुटबॉल के मैदान से हटकर अब चर्चा कूटनीति के मैदान की
दुनिया का सबसे बड़ा और रोमांच से भरपूर फुटबॉल मेला समाप्त हुआ। करोड़ों को रुला लिया, ...

प्रेम गीत : नाराज़ हैं मेहरबाँ मेरे

प्रेम गीत : नाराज़ हैं मेहरबाँ मेरे
नाराज़ हैं मेहरबाँ मेरे,अब आ भी जाओ,कि अंजुमन को तेरी दरक़ार है, ढूँढता रहा,

कैसे करें देवशयनी एकादशी व्रत, क्या मिलेगा इस व्रत का फल, ...

कैसे करें देवशयनी एकादशी व्रत, क्या मिलेगा इस व्रत का फल, जानिए...
आषाढ़ शुक्ल पक्ष की एकादशी को ही देवशयनी एकादशी कहा जाता है। इस दिन से भगवान श्री हरि ...

कैसा है शिव का स्वरूप, क्यों माने गए हैं स्वयंभू, जानिए...

कैसा है शिव का स्वरूप, क्यों माने गए हैं स्वयंभू, जानिए...
शिव यक्ष के रूप को धारण करते हैं और लंबी-लंबी खूबसूरत जिनकी जटाएं हैं, जिनके हाथ में ...

ग़ज़ल: सर झुकाना आ जाये

ग़ज़ल: सर झुकाना आ जाये
नज़ाकत-ए-जानाँ1 देखकर सुकून-ए-बे-कराँ2 आ जाये, चाहता हूँ बेबाक इश्क़ मिरे बे-सोज़3 ज़माना ...