Widgets Magazine

कान फिल्म फेस्टिवल में भारत की फिल्में

WD|
से प्रज्ञा मिश्रा की रिपोर्ट 

कान फिल्म फेस्टिवल में अनसर्टेन रिगार्ड सेक्शन में भारत की 2 फिल्में दिखाई जाएंगी। डायरेक्टर गुरविंदर सिंह की 'चौथी कूट' जो ऑपरेशन ब्लू स्टार के समय की कहानी है।


 


दूसरी फिल्म है नीरज घयवान की 'मसान' जो वाराणसी के घाटों और वहां के लोगों की कहानी है। को 3 और को 2 स्क्रीनिंग मिली हैं।
लगातार भारतीय फिल्मों की मौजूदगी से लोगों का ध्यान बॉलीवुड से हटकर असल भारतीय सिनेमा पर आने लगा है और यह बहुत अच्छे संकेत हैं।

इसके अलावा कई शॉर्ट फिल्में हैं जो यहां शॉर्ट फिल्म कॉर्नर में मौजूद है जिनमें नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी के भाई शम्स सिद्दीक़ी की फिल्म 'मियाँ कल आना' भी मौजूद है।  
 
इतना ही नहीं मार्केट में खरीदारों को दिखाने के लिए बॉम्बे वेलवेट, पीकू, मर्दानी, ब्योमकेश बक्शी, और दम लगा के हईशा तक मौजूद हैं।  
 
अगर कोई सिर्फ हिन्दी फिल्म ही देखना चाहे तो इतना तो मौजूद है कि दिन में एक हिन्दी फिल्म देखी जा सकती है लेकिन मुश्किल बस यही है कि ज्यादातर फिल्में मार्केट सेक्शन में हैं और उनका कहना है कि जब प्रेस स्क्रीनिंग होती है तो मार्केट के लोगों को तो आसपास फटकने भी नहीं दिया जाता तो हम क्यों प्रेस को फिल्म दिखाएं।


Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine
Widgets Magazine