नोबेल पुरस्कार की नगरी में प्रेमचंद जयंती


ओस्लो|
- माया भारती, ओस्लो, नार्वे से 
 
आज भारत में भले ही मुंशी प्रेमचन्द को उतने उत्साह से न मनाया जाता हो पर नोबेल शांति पुरस्कार की धरती ओस्लो, नार्वे में जयंती पर उन्हें याद किया गया। 
 
प्रेमचंद पर अपना उत्साहित भाषण देते हुए प्रोफेसर रिपुसूदन सिंह ने कहा कि मुंशी प्रेमचंद ने साहित्य सृजन करते हुए भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन, प्रोग्रेसिव आंदोलन और गांव के लोगों की समस्याओं को उजागर किया और एक आदर्श स्थापित किया। उन्होंने अपनी गरीबी के बावजूद लेखन से समझौता नहीं किया।
 
स्वीडन के भारतीय मूल के सुप्रसिद्ध वैज्ञानिक आशुतोष तिवारी ने बताया कि उन्हें आज भी प्रेमचंद की अनेक कहानियां याद है जो अभी भी गरीबों की  लिए प्रेरणा देती रहती हैं। 
मुंशी प्रेमचंद को आज भी समसामयिक मानने वाले और कार्यक्रम के आयोजक और साहित्यकार सुरेशचन्द्र शुक्ल 'शरद आलोक' ने बताया कि ओस्लो में मुंशी प्रेमचन्द को हम हिंदी शिक्षा देते हुए शिक्षार्थियों को पढ़ाते हैं। विदेशों में प्रेमचंद की कहानियां लोकप्रिय हैं। 
 
इस अवसर पर दो विद्वानों प्रोफेसर आशुतोष तिवारी और प्रोफेसर आशुतोष तिवारी को स्पाइल पुरस्कार से सम्मानित किया गया और मैटेरियल साइंस और टेक्नोलॉजी पर स्कैन्डिनेवियायी पत्रिका 'एडवांस्ड मैटेरियल लेटर्स' का लोकार्पण किया गया जिसके सम्पादक प्रोफेसर आशुतोष तिवारी हैं।  
 
नार्वेजीय लेखकों में इंगेर मारिये लिल्लेएंगेन, नूरी रोयसेग के अलावा राज कुमार, मीना मुरलीधरन, कैलाश राय, नोशीन इकबाल, इन्दर खोसला, संगीता शुक्ला, माया भारती और भारतीय दूतावास से एन पुनप्पन जी ने अपने विचार रखे और शुभकामनाएं दीं। कार्यक्रम का आयोजन भारतीय-नार्वेजीय सूचना एवं सांस्कृतिक फोरम की ओर से किया गया था। 
 

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

दुर्घटनाएं अमावस्या और पूर्णिमा पर ही क्यों होती है? आइए ...

दुर्घटनाएं अमावस्या और पूर्णिमा पर ही क्यों होती है? आइए जानते हैं यह रहस्य-
पूर्णिमा के दिन मोहक दिखने वाला और अमावस्या पर रात में छुप जाने वाला चांद अनिष्टकारी होता ...

क्या आपका बच्चा भी अंगूठा चूसता है? तो हो जाएं सावधान, जान ...

क्या आपका बच्चा भी अंगूठा चूसता है? तो हो जाएं सावधान, जान लें नुकसान
शायद ऐसा कोई व्यक्ति नहीं होगा, जिसने किसी बच्चे को अंगूठा चूसते हुए कभी न देखा हो। अक्सर ...

यही है वह मौसम जब शरीर का बदलता है तापमान, रहें सावधान, ...

यही है वह मौसम जब शरीर का बदलता है तापमान, रहें सावधान, जानें वजह और बचाव के उपाय
मौसम आ गया है कि आपको चाहे जब लगेगा हल्का बुखार। तो क्या घबराने की कोई बात है? जी नहीं, ...

प्रेशर कुकर में नहीं कड़ाही में पकाएं खाना, जानिए क्यों...

प्रेशर कुकर में नहीं कड़ाही में पकाएं खाना, जानिए क्यों...
अगर आप से पूछा जाए कि प्रेशर कुकर में या कड़ाही खाना बनाना बेहतर है तो आप तुरंत प्रेशर ...

मलाईदार नारियल क्रश, सेहत के यह 8 फायदे पढ़कर रह जाएंगे दंग

मलाईदार नारियल क्रश, सेहत के यह 8 फायदे पढ़कर रह जाएंगे दंग
आजकल मार्केट में नारियल पानी से ज्यादा नारियल क्रश को पसंद किया जा रहा है। इसकी बड़ी वजह ...

कितने सीजेरियन या सी-सेक्शन झेल सकती है एक मां?

कितने सीजेरियन या सी-सेक्शन झेल सकती है एक मां?
अब जमाना ऐसा है कि आप चाहकर भी सी-सेक्शन से बच नहीं पाते। कभी जटिल परिस्थितियां और कभी नई ...

जल्दी वजन कम करना है तो ये 5 फल खाना कर दें शुरू

जल्दी वजन कम करना है तो ये 5 फल खाना कर दें शुरू
क्या बढ़ा हुआ वजन आपकी भी समस्या बन चुका है? हर वक्त आपके मन में चलता रहता है कि कैसे इस ...

क्या आपको भी आ रही है लड़कों जैसी 'दाढ़ी-मूंछ', तो करें ये ...

क्या आपको भी आ रही है लड़कों जैसी 'दाढ़ी-मूंछ', तो करें ये उपाय
चेहरे पर कील-मुंहासे व दाग-धब्बे जितने खराब लगते हैं, उतने ही छोटे-छोटे बालों का चेहरे पर ...

18 जुलाई से सौर मास श्रावण आरंभ, क्या लाया है यह बदलाव आपकी ...

18 जुलाई से सौर मास श्रावण आरंभ, क्या लाया है यह बदलाव आपकी राशि के लिए
यूं तो विधिवत श्रावण मास का आरंभ 28 जुलाई से होगा लेकिन सूर्य कर्क संक्रांति के साथ ही ...

बारिश में ऐसे करें वाटरप्रूफ मेकअप, पढ़ें 5 टिप्स

बारिश में ऐसे करें वाटरप्रूफ मेकअप, पढ़ें 5 टिप्स
कुछ दिनों पूर्व एक शादी में जाना हुआ। अभी हम दूल्हा-दुल्हन से मिल ही रहे थे कि मेरी नजर ...