Widgets Magazine

नोबेल पुरस्कार की नगरी में प्रेमचंद जयंती


ओस्लो|
- माया भारती, ओस्लो, नार्वे से 
 
आज भारत में भले ही मुंशी प्रेमचन्द को उतने उत्साह से न मनाया जाता हो पर नोबेल शांति पुरस्कार की धरती ओस्लो, नार्वे में जयंती पर उन्हें याद किया गया। 
 
प्रेमचंद पर अपना उत्साहित भाषण देते हुए प्रोफेसर रिपुसूदन सिंह ने कहा कि मुंशी प्रेमचंद ने साहित्य सृजन करते हुए भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन, प्रोग्रेसिव आंदोलन और गांव के लोगों की समस्याओं को उजागर किया और एक आदर्श स्थापित किया। उन्होंने अपनी गरीबी के बावजूद लेखन से समझौता नहीं किया।
 
स्वीडन के भारतीय मूल के सुप्रसिद्ध वैज्ञानिक आशुतोष तिवारी ने बताया कि उन्हें आज भी प्रेमचंद की अनेक कहानियां याद है जो अभी भी गरीबों की  लिए प्रेरणा देती रहती हैं। 
मुंशी प्रेमचंद को आज भी समसामयिक मानने वाले और कार्यक्रम के आयोजक और साहित्यकार सुरेशचन्द्र शुक्ल 'शरद आलोक' ने बताया कि ओस्लो में मुंशी प्रेमचन्द को हम हिंदी शिक्षा देते हुए शिक्षार्थियों को पढ़ाते हैं। विदेशों में प्रेमचंद की कहानियां लोकप्रिय हैं। 
 
इस अवसर पर दो विद्वानों प्रोफेसर आशुतोष तिवारी और प्रोफेसर आशुतोष तिवारी को स्पाइल पुरस्कार से सम्मानित किया गया और मैटेरियल साइंस और टेक्नोलॉजी पर स्कैन्डिनेवियायी पत्रिका 'एडवांस्ड मैटेरियल लेटर्स' का लोकार्पण किया गया जिसके सम्पादक प्रोफेसर आशुतोष तिवारी हैं।  
 
नार्वेजीय लेखकों में इंगेर मारिये लिल्लेएंगेन, नूरी रोयसेग के अलावा राज कुमार, मीना मुरलीधरन, कैलाश राय, नोशीन इकबाल, इन्दर खोसला, संगीता शुक्ला, माया भारती और भारतीय दूतावास से एन पुनप्पन जी ने अपने विचार रखे और शुभकामनाएं दीं। कार्यक्रम का आयोजन भारतीय-नार्वेजीय सूचना एवं सांस्कृतिक फोरम की ओर से किया गया था। 
 

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

गर्भावस्था में स्ट्रेच मार्क्स से बचने के 4 आसान तरीके...

गर्भावस्था में स्ट्रेच मार्क्स से बचने के 4 आसान तरीके...
महिलाओं में गर्भावस्था के दौरान स्ट्रेच मार्क्स होना एक आम समस्या है, क्योंकि इस दौरान ...

लू से हो सकती है मौत, पढ़ें 10 काम की बातें

लू से हो सकती है मौत, पढ़ें 10 काम की बातें
गर्म हवाएं, जो लू कहलाती हैं, आपके लिए बेहद खतरनाक हो सकती हैं। ये आपके शरीर के तापमान को ...

8 रसीले ज्यूस, सेहत को रखे चुस्त

8 रसीले ज्यूस, सेहत को रखे चुस्त
केवल पानी ही प्यास बुझाने के लिए काफी नहीं होता। शरीर में नमी अधिक देर तक बनी रहे इसके ...

गर्मियों में रखें अपने क्यूट 'पपी' का ख्याल

गर्मियों में रखें अपने क्यूट 'पपी' का ख्याल
जानवरों के लिए गर्मियां बहुत तकलीफदेह होती हैं इसलिए कुछ आसान उपाय करके हम अपने पालतू ...

यह 6 रसीले फल गर्मियों में देंगे सेहत और सुंदरता

यह 6 रसीले फल गर्मियों में देंगे सेहत और सुंदरता
जानिए गर्मी के मौसम में आने वाले उन फलों को, जो गर्मी में रखते हैं हमारा ध्यान -

यह रोग हो सकता है आपको, जानिए 12 राशि अनुसार

यह रोग हो सकता है आपको, जानिए 12 राशि अनुसार
12 राशियां स्वभावत: जिन-जिन रोगों को उत्पन्न करती हैं, वे इस प्रकार हैं-

वेदों के ज्ञाता श्री रामानुजाचार्यजी का जीवन परिचय

वेदों के ज्ञाता श्री रामानुजाचार्यजी का जीवन परिचय
श्री रामानुजाचार्य का जन्म सन् 1017 में श्री पेरामबुदुर (तमिलनाडु) के एक ब्राह्मण परिवार ...

हैंड ड्रायर का गंदा सच

हैंड ड्रायर का गंदा सच
अक्सर कहा जाता है कि अपने हाथों को फ्लू और अन्य वायरस से बचाने और साफ-सुथरा रखने के लिए ...

खूबसूरत बालों के लिए जरूरी है यह 10 पोषक आहार

खूबसूरत बालों के लिए जरूरी है यह 10 पोषक आहार
शरीर में बालों से संबंधित पोषक तत्वों की कमी से ही बाल कमजोर होकर झड़ने लगते हैं और जब तक ...

मांग में सिंदूर क्यों सजाती हैं विवाहिता?

मांग में सिंदूर क्यों सजाती हैं विवाहिता?
मांग में सिंदूर सजाना एक वैवाहिक संस्कार है। सौभाग्यवती स्त्रियां मांग में जिस स्थान पर ...