अंतरराष्ट्रीय हिंदी निबंध प्रतियोगिता 2015 के परिणाम


- रोहित कुमार 'हैप्पी', न्यूजीलैंड से
 
विश्व हिंदी सचिवालय, मॉरीशस द्वारा आयोजित के घोषित किए गए। प्रतियोगिता को पांच भौगोलिक क्षेत्रों में बांटा गया था जिनमें अफ्रीका व मध्य पूर्व, अमेरिका, एशिया व ऑस्ट्रेलिया (भारत के अतिरिक्त), यूरोप व भारत सम्मिलित हैं।
 
प्रत्येक के विजेताओं को प्रमाणपत्र व नकद प्रदान किए जाएंगे। नकद पुरस्कारों में प्रथम पुरस्कार 300 अमेरिकी डॉलर, द्वितीय 200 अमेरिकी डॉलर व तृतीय पुरस्कार 100 अमेरिकी डॉलर होगा।
 
विजेताओं की सूची इस प्रकार है :
 
भौगोलिक क्षेत्र 1 : अफ्रीका व मध्य पूर्व
 
प्रथम पुरस्कार: 
सोमदत्त काशीनाथ (मॉरीशस),
 
द्वितीय पुरस्कार: 
माला रामबली (दक्षिण अफ्रीका)
 
तृतीय पुरस्कार: दो संयुक्त विजेता
श्रीमती बिद्वंती शंभु (मॉरीशस)
श्रीमती लक्ष्मी जयपोल-झापेरमाल (मॉरीशस)
 
भौगोलिक क्षेत्र 2 : अमेरिका
प्रथम पुरस्कार : दीपक कुमार चौरसिया (अमेरिका)  
 
द्वितीय पुरस्कार: 
सुश्री सूर्या कुमारी (अमेरिका)
 
तृतीय पुरस्कार : संयुक्त
सुश्री उषा देवी शाक्य (कनेडा)
श्रीमती राजवंत कौर (अमेरिका)
 
भौगोलिक क्षेत्र 3 : एशिया व ऑस्ट्रेलिया (भारत के अतिरिक्त)
 
प्रथम पुरस्कार: 
सुश्री रिद्मा निशादिनि लंसकारा (श्रीलंका)
 
द्वितीय पुरस्कार: 
श्रीमती आरती शर्मा (ऑकलैंड, न्यूज़ीलैंड)
 
तृतीय पुरस्कार: तीन संयुक्त विजेता
श्रीमती पूर्णिमा पाटिल (ऑस्ट्रेलिया)
ओल्गा गोपोनोवा (रूस), 
सुश्री हिमाली संजीवनी कोनारा (श्रीलंका)
 
भौगोलिक क्षेत्र 4 : यूरोप
प्रथम पुरस्कार : सुश्री नीनापॉल (यूके)
द्वितीय पुरस्कार : सुश्री बेआत्रिसस्तेंवाल (स्वीडन)
तृतीय पुरस्कार : श्रीमती ज़किया जुबैरी (यूके)
 
भौगोलिक क्षेत्र 5 : भारत
प्रथम पुरस्कार: डॉ सी. जयशंकर बाबू (पुड्‍डुचेरी, भारत)
 
द्वितीय पुरस्कार: संयुक्त पांच विजेता
डॉ. जय कौशल (काशी)
आलोक धर द्विवेदी (उत्तरप्रदेश)
डॉ. अख्तर आलम (वर्धा)
अनंत प्रसाद सिन्हा (बिहार)
डॉ. राकेश कुमार दुबे (उत्तरप्रदेश)
 
प्रतियोगितामें भारत सहित विश्व के अनेक प्रतियोगियों ने भाग लिया था।
 
 
 

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

यदि पैरेंट्स के व्यवहार में हैं ये 4 बुरी आदतें तो आपके ...

यदि पैरेंट्स के व्यवहार में हैं ये 4 बुरी आदतें तो आपके बच्चे को बिगड़ने से कोई नहीं रोक सकता!
पैरेंट्स की कुछ ऐसी आदतें होती हैं, जो वे बच्चों को सुधारने, कुछ सिखाने-पढ़ाने और नियंत्रण ...

क्या आप भी संकोची हैं, अपना ही सामान मांग नहीं पाते हैं तो ...

क्या आप भी संकोची हैं, अपना ही सामान मांग नहीं पाते हैं तो यह एस्ट्रो टिप्स आपके लिए है
क्या आप भी संकोची हैं, अगर हां तो यह आलेख आपके लिए है...

कैंसर की रिस्क लेना अगर मंजूर है तो ही इन 7 सामान्य लक्षणों ...

कैंसर की रिस्क लेना अगर मंजूर है तो ही इन 7 सामान्य लक्षणों को नजरअंदाज करें, वरना हो सकती है बड़ी परेशानी
ये बीमारी भी ऐसे ही सामने नहीं आती। इसके भी लक्षण हैं जो आप और हम जैसे लोग अनदेखा करते ...

5 ऐसी चीजें जो लिवर की बीमारी को करती हैं दूर, एक बार पढ़ें ...

5 ऐसी चीजें जो लिवर की बीमारी को करती हैं दूर, एक बार पढ़ें जरूर
आप खाने के शौकीन हैं लेकिन क्या आप महसूस कर रहे हैं कि पिछले कुछ समय से आपका पाचन थोड़ा ...

दोमुंहे बालों से छुटकारा पाना चाहती हैं, तो ये 4 तरीके ...

दोमुंहे बालों से छुटकारा पाना चाहती हैं, तो ये 4 तरीके अपनाएं
जब बालों का निचला हिस्सा दो भागों में बंट जाता है, तब उसे बालों का दोमुंहा होना कहते हैं। ...

प्रेम गीत : नाराज़ हैं मेहरबाँ मेरे

प्रेम गीत : नाराज़ हैं मेहरबाँ मेरे
नाराज़ हैं मेहरबाँ मेरे,अब आ भी जाओ,कि अंजुमन को तेरी दरक़ार है, ढूँढता रहा,

कैसे करें देवशयनी एकादशी व्रत, क्या मिलेगा इस व्रत का फल, ...

कैसे करें देवशयनी एकादशी व्रत, क्या मिलेगा इस व्रत का फल, जानिए...
आषाढ़ शुक्ल पक्ष की एकादशी को ही देवशयनी एकादशी कहा जाता है। इस दिन से भगवान श्री हरि ...

कैसा है शिव का स्वरूप, क्यों माने गए हैं स्वयंभू, जानिए...

कैसा है शिव का स्वरूप, क्यों माने गए हैं स्वयंभू, जानिए...
शिव यक्ष के रूप को धारण करते हैं और लंबी-लंबी खूबसूरत जिनकी जटाएं हैं, जिनके हाथ में ...

ग़ज़ल: सर झुकाना आ जाये

ग़ज़ल: सर झुकाना आ जाये
नज़ाकत-ए-जानाँ1 देखकर सुकून-ए-बे-कराँ2 आ जाये, चाहता हूँ बेबाक इश्क़ मिरे बे-सोज़3 ज़माना ...

महिलाओं से होने वाली हर दिन की ये 5 गल्तियां बाद में कर ...

महिलाओं से होने वाली हर दिन की ये 5 गल्तियां बाद में कर देंगी भयंकर बीमार
आज बेहद नाजुक हैं। आपको अपने आप को इस तरह से रखना है कि अपने ही हाथों बुलाई मुसीबत आपको ...