इन विशेष मंत्रों से प्रसन्न होती है मां वैष्णो देवी

पृथ्वी पर विराजमान समस्त देवियों का महत्व है लेकिन माता वैष्णो देवी का महत्व सबसे विशेष हैं। आइए जानते हैं कि मां वैष्णो देवी को किन विशेष मंत्रों से स्मरण किया जाता है। यही मंत्र उन्हें प्रसन्न भी करते हैं। 
इस मंत्र का उच्चारण करते हुए माता वैष्णो देवी को जल अर्पित किया जाता है -   
ॐ सर्वतीर्थ समूदभूतं पाद्यं गन्धादि-भिर्युतम्। 
अनिष्ट-हर्ता गृहाणेदं भगवती भक्त-वत्सला।। 
ॐ श्री वैष्णवी नमः।
पाद्योः पाद्यं समर्पयामि। 
 
इस मंत्र से माता वैष्णो देवी को दक्षिणा अर्पित करते हैं-
 
हिरण्यगर्भ-गर्भस्थं हेम बीजं विभावसोः।
अनन्तं पुण्यफ़ल दमतः शान्ति प्रयच्छ मे।। 
 
माता वैष्णो देवी का स्मरण करते हुए इस मंत्र के साथ उन्हें चंदन अर्पित किया जाता है-   
ॐ श्रीखण्ड-चन्दनं दिव्यं गन्धाढ्यं सुमनोहरम्। 
विलेपन मातेश्वरी चन्दनं प्रति-गृहयन्ताम्।। 
 
इस मंत्र के द्वारा माता वैष्णो देवी को दही अर्पित किया जाता है -
 
पयस्तु वैष्णो समुद-भूतं मधुराम्लं शशि-प्रभम्। 
दध्या-नीतं मया स्नानार्थ प्रति-गृहयन्ताम्।। 
 
मां वैष्णो देवी को वस्त्र समर्पित करने का मंत्र 
 
शीत-शीतोष्ण-संत्राणं लज्जाया रक्षणं परम्। 
देहा-लंकारण वस्त्रमतः शान्ति प्रयच्छ मे।। 
 
इस मंत्र को पढ़ते हुए माता वैष्णो देवी को पुष्पमाला समर्पण करना चाहिए-
 
माल्या दीनि सुगन्धीनि माल्यादीनि वै देवी। 
मया-हृताणि-पुष्पाणि गृहायन्ता पूजनाय भो।। 
 
माता वैष्णो देवी के स्मरण एवं पूजन में उनका आह्वान इस मंत्र के द्वारा किया जाता है- 
 
ॐ सहस्त्र शीर्षाः पुरुषः सहस्त्राक्षः सहस्त्र-पातस-भूमिग्वं सव्वेत-स्तपुत्वा यतिष्ठ दर्शागुलाम्। 
आगच्छ वैष्णो देवी स्थाने-चात्र स्थिरो भव।। 
>

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

आत्महत्या करने के बाद क्या होता है आत्मा के साथ, जानिए ...

आत्महत्या करने के बाद क्या होता है आत्मा के साथ, जानिए रहस्य...
पहली बात तो यह कि आत्महत्या शब्द ही गलत है, लेकिन यह अब प्रचलन में है। आत्मा की किसी भी ...

आश्चर्य .... एक सियार सिंगी में है कई समस्याओं का समाधान

आश्चर्य .... एक सियार सिंगी में है कई समस्याओं का समाधान
क्या आप जानते हैं कि प्राचीन काल में घर में कई शुभ वस्तुएं रखी जाती थीं, उनमें से एक ...

चमत्कारिक लाभ देता है नवग्रह कवच का पाठ, प्रतिदिन अवश्य ...

चमत्कारिक लाभ देता है नवग्रह कवच का पाठ, प्रतिदिन अवश्य पढ़ें...
ज्योतिष में नवग्रह का बहुत महत्व है। कुंडली में अगर ग्रहों का अशुभ प्रभाव या ग्रहदोष हो ...

पुष्पक विमान की खासियत जानकर रह जाएंगे हैरान

पुष्पक विमान की खासियत जानकर रह जाएंगे हैरान
रामायण के अनुसार रावण के पास कई लड़ाकू विमान थे। पुष्पक विमान के निर्माता विश्वकर्मा थे। ...

महाभारत के युद्ध में लाखों सैनिकों को भोजन कौन और कैसे ...

महाभारत के युद्ध में लाखों सैनिकों को भोजन कौन और कैसे कराता था?
श्रीकृष्ण की एक अक्षौहिणी नारायणी सेना मिलाकर कौरवों के पास 11 अक्षौहिणी सेना थी तो ...

जैन धर्म में श्रुत पंचमी का महत्व, जानिए...

जैन धर्म में श्रुत पंचमी का महत्व, जानिए...
ज्येष्ठ माह के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को जैन धर्म में 'श्रुत पंचमी' का पर्व मनाया जाता ...

करण क्या है और किस करण में नहीं करें शुभ कार्य?

करण क्या है और किस करण में नहीं करें शुभ कार्य?
हिंदू पंचांग के पंचांग अंग है:- तिथि, वार, नक्षत्र, योग और करण। उचित तिथि, वार, नक्षत्र, ...

16 जुलाई तक सूर्य रहेंगे मिथुन राशि में, कैसा होगा समय 12 ...

16 जुलाई तक सूर्य रहेंगे मिथुन राशि में, कैसा होगा समय 12 राशियों के लिए...
15 जून 2018 को सूर्य ने मिथुन राशि में प्रवेश कर लिया है। सूर्य के इस गोचर का 12 राशियों ...

ज्योतिष के अनुसार मंगल की खास विशेषताएं, जो आप नहीं जानते ...

ज्योतिष के अनुसार मंगल की खास विशेषताएं, जो आप नहीं जानते होंगे...
ज्योतिष के अनुसार हर ग्रह की परिभाषा अलग है। पौराणिक कथाओं में नौ ग्रह गिने जाते हैं, ...

विवाह के प्रकार और हिंदू धर्मानुसार कौन से विवाह को मिली है ...

विवाह के प्रकार और हिंदू धर्मानुसार कौन से विवाह को मिली है मान्यता, जानिए
शास्त्रों के अनुसार विवाह आठ प्रकार के होते हैं। विवाह के ये प्रकार हैं- ब्रह्म, दैव, ...

राशिफल