Widgets Magazine

'हार' ने अजय को बना दिया योगी आदित्यनाथ

Last Updated: सोमवार, 20 मार्च 2017 (21:19 IST)
जीवन में सफल वही होता है जो कभी हार से नहीं घबराता। हार ही जीवन में नए रास्तों को बनाती है। यही बात उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर भी लागू होती है। आज उत्तरप्रदेश और हर समाचार चैनलों पर एक ही नाम गूंज रहा है योगी आदित्यनाथ। लेकिन एक समय था जब योगी आदित्यनाथ को एबीवीपी ने टिकट तक नहीं दिया था। में एक हार ने योगी की राह बदल दी और कभी अजय सिंह के नाम से जाने जाने वाला यह शख्स योगी आदित्यनाथ के नाम से जाना जाता है। 
उत्तराखंड के छोटे से कस्बे कोटद्वार में 1991 के छात्रसंघ चुनाव में यदि अजय सिंह को हार नहीं मिलती तो शायद वक्त आज उन्हें यह बुलंदी नहीं मिलती। एक छोटी-सी हार ने उनके सामने भविष्य का सुनहरा रास्ता खोल दिया। उनके एक मित्र के मुताबिक योगी आदित्यनाथ का हिन्दुत्व की ओर रुझान शुरू से था और कॉलेज राजनीति में पहचान बनाने के लिए हम लोग एबीवीपी में शामिल हो गए थे।
 
योगी को ने टिकट नहीं दिया तो हमने उन्हें अकेले ही चुनाव लड़वा दिया। इस चुनाव में वे हार गए। वे छात्रसंघ के पराजय से इस कदर आहत हुए कि उन्होंने अपने मामा महंत अवैद्यनाथ को पत्र लिखकर गोरखपुर बुलाने का आग्रह किया और गोरखपुर पहुंच गए। उसके बाद उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा और अजयसिंह बिष्ट से योगी आदित्यनाथ उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री की कुर्सी तक पहुंच गए।
Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine