जेब को ध्यान में रख पीने का शौक करते हैं भारत के लोग

पुनः संशोधित गुरुवार, 7 दिसंबर 2017 (21:40 IST)
नई दिल्ली। में लोग को के मुकाबले तरजीह देते हैं क्यों कि यह सस्ती पड़ती है। यह बात एक में कही गई है।

‘द इंडियन स्प्रिट: द अन्टोल्ड स्टोरी आफ ड्रिकिंग इन इंडिया’ पुस्तक में ने पाठकों से कहा है कि वे अपने पेग का आनंद लें और इस बात को समझें कि यह उनके ग्लास तक कैसे पहुंचा है।

उनका कहना है कि भारत अपनी शराब को पसंद करता है, जिसका एक सीधा कारण क्यों की यह सस्ती पड़ती है। उन्होंने कहा कि वाईन का भारत में प्रचलन में नहीं रहा है।

द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक में उन्होंने कहा कि देश के कई लोगों ने वाईन का आयात किया, पीया और बाद में कुछ बनाया भी लेकिन यह आम उपभोक्ताओं की पसंद नहीं बन सकी है।

2,000 वर्ष से अधिक समय से वाईन एक अभिजात्य पेय है। हाल के समय में इसमें काफी कुछ बदलाव आए हैं लेकिन लोगों की प्रवृत्ति में कोई बदलाव नहीं आया है। उनके अनुसार वाईन भारत में एक झक की तरह कभी-कभार ले ली जाती है। यह किसी कड़क शराब की तरह का बराबर का शौक नहीं है। (भाषा)

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :