मौसम अपडेट : केरल में भारी बारिश के बाद बाढ़ ने मचाई तबाही, 29 लोगों की मौत, 54 हजार से ज्यादा लोग बेघर

Last Updated: शनिवार, 11 अगस्त 2018 (10:36 IST)
नई दिल्ली। देशभर में से कोहराम जारी है। सबसे ज्‍यादा आफत केरल में आ रही है, जहां अब तक 29 लोगों की मौत हो चुकी है और 54000 लोग बेघर हो गए हैं। मौसम विभाग ने देश के कई राज्यों में बारिश का अलर्ट जारी किया है। विभाग के मुताबिक, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, दिल्ली, झारखंड, बिहार, पश्चिम बंगाल, सिक्किम, मध्य प्रदेश, अरुणाचल प्रदेश, असम, मेघालय, नगालैंड, मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा, कर्नाटक, तमिलनाडु, केरल और अंडमान निकोबार द्वीप समूह में बारिश हो सकती है।

बारिश की वजह से सबसे ज्यादा हालात केरल के खराब हैं, जहां आधे से ज्यादा हिस्से में भीषण बाढ़ के कारण बांध, जलाशय और नदियां लबालब भरी हुई हैं। मौसम विभाग ने अगले 48 घंटों में भारी बारिश की आशंका जताई है। साथ ही वायनाड, इडुक्की, आलप्पुषा, कोट्टायम, एर्नाकुलम, पलक्कड़, मलप्पुरम और कोझिकोड जिलों में रेड अलर्ट जारी किया है। केरल भीषण बाढ़ के चलते आधे से ज्यादा डूब चुका है। अनवरत बरसात ने बांधों, सरोवरों और नदियों को बाढ़ग्रस्त कर दिया है। सैकड़ों घर और राजमार्गों के कई हिस्से टूटकर पानी में बह गए हैं। राज्य की 40 नदियां विकराल रूप धारण किए हैं। केरल के 14 में से सात जिलों में सेना की पांच टुकडि़यों को राहत कार्य के लिए तैनात किया गया है। यह बाढ़ग्रस्त लोगों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाने के अलावा अस्थाई पुल भी बनाएगी। वहीं, नौसेना की दक्षिणी कमान को भी अलर्ट कर दिया गया है।

दिल्ली के कई इलाकों में जमकर बारिश हुई है। खासतौर पर मध्य और दक्षिण दिल्ली में झमाझम बारिश हुई। लुटियंस दिल्ली, सरिता विहार, लाजपत नगर और साकेत में भारी बारिश हुई जिससे सड़कों पर पानी जमा हो गया और कुछ इलाकों में यातायात बाधित हुआ। मौसम विभाग की ओर से पहले ही बारिश का अलर्ट जारी किया गया था। इस साल दक्षिणी प्रायद्वीप और मध्य भारत में औसत से 15 और 16 फीसदी अधिक बारिश हुई है। मध्य प्रदेश, विदर्भ और मध्य महाराष्ट्र में अच्छी बारिश हुई है। उत्तर प्रदेश, हरियाणा, पंजाब, हिमाचल प्रदेश, राजस्थान और जम्मू–कश्मीर वाले उत्तर-पश्चिम भारत में कम बारिश हुई है।

मौसम विभाग ने हिमाचल प्रदेश में 6 दिन भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है। मौसम विभाग ने हिमाचल प्रदेश में 10 अगस्त से 15 अगस्त तक लगातार बारिश का अनुमान जताया है। पूरे देश में अभी तक सामान्य से 10 फीसदी कम बारिश हुई है। सिर्फ 47 फीसदी हिस्से में ही सामान्य बारिश हुई है। 39 फीसदी हिस्से में कम बारिश हुई है।

बाढ़ से अत्यधिक प्रभावित राज्य के कुल 14 जिलों में से 7 उत्तरी जिलों में थलसेना की 5 टुकड़ियां तैनात की गई हैं ताकि लोगों को सुरक्षित जगहों पर ले जाने और अस्थायी पुलों के निर्माण में मदद मिले। पेरियार नदी में जलस्तर बढ़ने के बाद भारतीय नौसेना की दक्षिणी कमान को अलर्ट पर रखा गया है। आशंका है कि कोच्चि स्थित वेलिंगडन द्वीप के कुछ हिस्से पूरी तरह जलमग्न हो सकते हैं। अधिकारियों ने बताया कि राज्य की लगभग सभी 40 नदियां उफान पर हैं।

केंद्रीय मंत्री केजे अल्फॉंन्स ने कहा कि उन्होंने शुक्रवार सुबह गृहमंत्री राजनाथ सिंह के साथ केरल में बाढ़ की स्थिति की समीक्षा की। राजनाथ ने विजयन से भी बात की और वे रविवार को बाढ़ प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वेक्षण करेंगे। अल्फॉंन्स ने फेसबुक पोस्ट में लिखा कि भारत सरकार सशस्त्र बलों, आपदा प्रबंधन टीम की सेवाएं मुहैया करा रही है और अन्य जरूरी सहायता भी प्रदान कर रही है।


और भी पढ़ें :