यूबीएस सिक्योरिटीज का दावा, निवेशकों ने लगाया 2019 में मोदी पर दांव

पुनः संशोधित मंगलवार, 15 मई 2018 (16:23 IST)
नई दिल्ली। का कहना है कि पहले ही ‘2019 में मोदी’पर दाव लगा चुके हैं और सरकार अगले साल लोकसभा चुनाव से पहले ग्रामीण अर्थव्यवस्था को बल देने के लिए विभिन्न वित्तीय प्रोत्साहनों पर विचार कर सकती है।
के लिए यह रपट अनुसंधान प्रमुख गौतम छायोछारिया व विश्लेषक संजना दादावाला ने लिखी है। इसके अनुसार निवेशकों व बाजार भागीदारों के साथ हमारी चर्चा से यही संकेत मिलता है कि 2019 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जीत पर पहले ही दाव लगा लिया गया है।


इसमें आगे कहा गया है कि अगले साल आम चुनावों से पहले सरकार ग्रामीण अर्थव्यवस्था की मदद के लिए विभिन्न प्रोत्साहन विकल्पों पर विचार कर सकती है। यह रपट (नोट) पिछले सप्ताह कर्नाटक विधानसभा चुनाव में मतदान से पहल आई। इसमें कहा गया है कि सरकार द्वारा न्यूनतम समर्थन मूल्य में वृद्धि, किसानों को कीमत में कमी का भुगतान (मध्यप्रदेश), किसानों का आय समर्थन (तेलंगाना) जैसे कदमों पर विचार किया जा सकता है।

इसके अनुसार अन्य संभावित तरीके ब्याज दर सब्सिडी के रूप में भी हो सकते हैं। रपट में कहा गया है कि मोदी सरकार के पहले साढ़े तीन साल में अनेक सुधार तथा राजनीतिक रूप से कठिन फैसले किए गए जिनमें नोटबंदी, जीएसटी कार्यान्वयन, दिवाला संहिता शामिल है। हालांकि अब चुनावों से पहले किसी बड़े कदम की उम्मीद नहीं है। (भाषा)

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :