सिरसा में राम रहीम के डेरे की तलाशी, खुलेंगे कई राज...

सिरसा| Last Updated: शुक्रवार, 8 सितम्बर 2017 (12:19 IST)
सिरसा। सिरसा में बाबा के डेरे में शुक्रवार सुबह तलाशी अभियान हुआ। इस अभियान के तहत अर्ध सैनिक बलों और पुलिस की टीमें आज सुबह डेरे में घुस गई। सेना की चार कंपनियां डेरा के बाहर सुरक्षा को संभाल रही हैं। इस तलाशी में बाबा से जुड़े कई अहम राजों से पर्दा उठ सकता है।

सिरसा स्थित डेरा सच्चा सौदा के विशाल मुख्यालय को खतरा मुक्त बनाने के लिए कड़ी सुरक्षा के बीच आज विस्तृत तलाशी अभियान चलाया जा रहा है, जिसमें सुरक्षा बल और विभिन्न सरकारी विभाग हिस्सा ले रहे हैं।

पूरे तलाशी अभियान की वीडियोग्राफी की जाएगी और इसकी निगरानी जिला एवं सत्र न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश एकेएस पवार करेंगे। पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय ने मंगलवार को पवार को कोर्ट कमिश्नर नियुक्त किया था।
डेरा मुख्यालय की ओर जाने वाली सड़कों पर कर्फ्यू अभी भी प्रभावी है। किसी भी व्यक्ति को बिना अनुमति के डेरा परिसर में जाने की अनुमति नहीं है।

अधिकारियों ने बताया कि आज सुबह सुरक्षा बलों का बड़ा काफिला डेरा मुख्यालय के भीतर गया जिसमें पुलिस बसें, अर्द्धसैनिक बलों के वाहन, त्वरित प्रतिक्रिया दलों के वाहन, बम निष्क्रिय करने वाले दस्ते, गड़बड़ी रोकने वाले दलों के वाहन, पुलिस और अर्द्धसैनिक बलों के जवानों को लेकर जाने वाले कई वाहन शामिल थे। इनमें जिला प्रशासन के अधिकारियों के दल भी शामिल थे।
इस पूरे अभियान के दौरान दमकल गाड़ियों के अलावा जमीन (मिट्टी) खोदने वाले भारी वाहनों और ट्रैक्टरों का भी प्रयोग किया जा रहा है।
डेरा की अध्यक्ष विपश्यना इंसा का कहना है, 'तलाशी अभियान आज शुरू हुआ है। हमने हमेशा कानून का पालन किया है। हम सरकार के इस अभियान में पूर्ण सहयोग करेंगे और सभी से शांति तथा स्थिरता बनाए रखने की अपील करते हैं।'



अदालत आयुक्त ए.के.एस. पवार गुरुवार को सिरसा पहुंचे और प्रशासन तथा पुलिस और अर्द्धसैनिक बलों के शीर्ष अधिकारियों के साथ बैठक कर आज चलाए जाने वाले अभियान के प्रक्रिया की जानकारी ली।
डेरा का परिसर करीब 800 एकड़ में फैला हुआ है जिसमें शिक्षण संस्थान, बाजार, अस्पताल, स्टेडियम, आवासीय परिसर आदि शामिल हैं। डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह को पंचकूला की एक अदालत ने बलात्कार के मामले में पिछले महीने 10-10 साल की कैद की सजा सुनाई है।

पुलिस महानिदेशक बी. एस. संधू ने पहले कहा था कि तलाशी प्रक्रिया से मीडिया को दूर रखा जाएगा। इस अभियान में ड्यूटी पर मौजूद मजिस्ट्रेट, कार्यकारी मजिस्ट्रेट और राजस्व अधिकारी भी शामिल होंगे। डेरा के आसपास 16 नाके बनाए गये हैं। अर्द्धसैनिक बलों की कुल 41 कंपनियां सिरसा में तैनात की गई हैं।
बम निष्क्रिय करने वाले दस्तों के पुलिसकर्मी, विशेष हथियार एवं टैक्टिक्स टीम के 40 कमांडो और डॉग स्क्वायड को भी इस अभियान में शामिल किया गया है।

सिरसा में तैनात केन्द्रीय बलों में सीआरपीएफ, सशस्त्र सीमा बल, त्वरित कार्रवाई बल और सीमा सुरक्षा बल के जवान शामिल हैं।

हिसार के पुलिस महानिरीक्षक अमिताभ ढिल्लों, सिरसा के पुलिस अधीक्षक अश्विन शेन्वी और उपायुक्त प्रभजोत सिंह ने सुरक्षा बलों द्वारा बनाई गई चौकियों की जांच की है।
पुलिस और डेरा प्रबंधन दोनों का कहना है कि सिरसा के ज्यादातर डेरा अनुयायियों ने अपने लाइसेंसी हथियारों को पुलिस के पास जमा करा दिया है।

गौरतलब है कि पंचकूला स्थित अदालत द्वारा राम रहीम सिंह को बलात्कार के मामले में दोषी करार दिये जाने के बाद जिले सहित अन्य जगहों पर भयंकर हिंसा हुई थी। पंचकूला में हुई हिंसक घटनाओं में 35 लोग मारे गये थे, जबकि सिरसा में छह लोगों की मौत हुई थी। बाद में 29 अगस्त को राम रहीम को 10-10 साल की दो सजा सुनाई जो अलग-अलग चलेंगी।
आज चलाए जा रहे पूरे अभियान की रिपोर्ट अदालत आयुक्त पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय को सौंपेंगे। इसकी एक प्रति राज्य सरकार को भी दी जाएगी।

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने पहले कहा था कि इससे पहले डेरा के नामचर्चा गृहों की तलाशी एवं उन्हें खतरा मुक्त बनाने के लिए चलाए गए अभियान के दौरान कुछ आपत्तिजनक सामग्री मिली है। (भाषा)

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :