भारत के नए राष्ट्रपति के नाम का अभी खुलासा नहीं

पुनः संशोधित शुक्रवार, 16 जून 2017 (23:45 IST)
नई दिल्ली। राष्ट्रपति चुनाव को लेकर आम सहमति बनाने के लिए सत्तारुढ़ भारतीय जनता पार्टी और विपक्ष के बीच शुक्रवार को बातचीत हुई लेकिन उम्मीदवार का नाम सामने नहीं आने से बात आगे नहीं बढ़ सकी। विपक्ष को उम्मीद थी कि बातचीत के लिए आ रहे भाजपा नेता
उम्मीदवार के लिए कोई नाम सुझाएंगे लेकिन इसके उलट उन्होंने विपक्ष से ही उम्मीदवार का नाम जानने का प्रयास किया।





राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार पर आम सहमति बनाने के लिए भाजपा अध्यक्ष अमित शाह द्वारा गठित समिति के सदस्यों राजनाथ सिंह तथा एम वेंकैया नायडू ने शुक्रवार को पहले अध्यक्ष सोनिया गांधी से तथा उसके बाद मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के महासचिव सीताराम येचुरी से इस सिलसिले में बातचीत की। विपक्ष को उम्मीद थी कि बातचीत के लिए आ रहे भाजपा नेता
उम्मीदवार के लिए कोई नाम सुझाएंगे लेकिन इसके उलट उन्होंने विपक्ष से ही उम्मीदवार का नाम जानने का प्रयास किया।





कांग्रेस और माकपा ने इस पर निराशा जताते हुए कहा कि जब नाम ही सामने नहीं आएगा तो उस पर आम राय कैसे बनेगी। उन्हें उम्मीद थी कि भाजपा की ओर से कोई नाम सुझाया जाएगा जिस पर वे पार्टी के अंदर तथा अन्य दलों से बातचीत कर अपनी राय देंगे।


श्रीमती गांधी के साथ उनके आवास पर हुई बातचीत में पार्टी के दो वरिष्ठ नेता गुलामनबी आजाद तथा मल्लिकार्जुन खड़गे भी मौजूद थे। मुलाकात के बाद
आजाद और खड़गे ने कहा कि भाजपा नेताओं ने के नाम का खुलासा नहीं किया, बल्कि उन्होंने श्रीमती गांधी से ही उम्मीदवार का नाम जानने का प्रयास किया।

कांग्रेस को उम्मीद थी कि भाजपा नेता इस मुलाकात में कोई नाम सुझाएंगे ताकि कांग्रेस अध्यक्ष पार्टी के भीतर तथा अन्य विपक्षी दलों के नेताओं के साथ उस पर विचार-विमर्श कर सकें, लेकिन ऐसा नहीं हुआ।


भाजपा के दोनों नेताओं ने बाद में येचुरी से मुलाकात की। मुलाकात के बाद येचुरी ने भी अफसोस जताते हुए कहा कि सत्ता पक्ष की ओर से जब कोई नाम ही सामने नहीं आएगा तो उस पर हम अपनी राय क्या देंगे। उन्होंने कहा कि नाम सामने आए, तभी बात आगे बढ़ सकती है।

वेंकैया नायडू पिछले तीन दिन में राष्ट्रपति चुनाव को लेकर बहुजन समाज पार्टी, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी, तेलुगुदेशम पार्टी से संपर्क कर चुके हैं। तेलुगुदेशम ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा बनाए जाने वाले उम्मीदवार का समर्थन करने का आश्वासन दिया है।






भाजपा सूत्रों के अनुसार, शाह रविवार को शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे से इस सिलसिले में विचार विमर्श करेंगे। शिवसेना ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ प्रमुख मोहन भागवत को उम्मीदवार बनाने की वकालत की है। उसने आज कहा कि यदि भागवत के नाम पर कोई दिक्कत हो तो कृषि वैज्ञानिक एमएस स्वामीनाथन को उम्मीदवार बनाया जाए। भाजपा की पुरानी सहयोगी इस पार्टी ने पिछले दो राष्ट्रपति चुनाव में उससे अलग लाइन ली थी। इस बीच भागवत ने आज राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी से मुलाकात की जिसे लेकर तरह-तरह के कयास लगाए जा रहे हैं। (वार्ता)

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :