Widgets Magazine Widgets Magazine
Widgets Magazine
Widgets Magazine

भाजपा सांसद मनोज तिवारी ने महिला टीचर को किया शर्मसार!

Last Updated: मंगलवार, 21 मार्च 2017 (01:45 IST)
नई दिल्ली। और लोकप्रिय भोजपुरी गायक मनोज तिवारी जब प्रधानमंत्री मोदी के सामने होते हैं तो उनकी बोलती बंद हो जाती है लेकिन जब खुद अतिथि बनकर किसी कार्यक्रम में जाते हैं तो खुदा हो जाते हैं। हाल ही में दिल्ली के एक सरकारी स्कूल में मंच से ही उन्होंने को जो तमीज सिखाई, उस 'बदतमीजी' का वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हो गया। वीडियो के वायरल होते ही मनोज तिवारी का दबंगई वाला चरित्र भी सबके सामने आ गया कि कैसे एक अनुशासित पार्टी का सांसद अपना आपा खो बैठता है। 
यह वीडियो 10 मार्च का है, जब दिल्ली के भाजपा सांसद मनोज तिवारी दिल्‍ली स्थित यमुना विहार में पूर्वी नगर निगम के एक सरकारी स्कूल में अतिथि बनकर गए थे। वहां पर उन्हें 2 करोड़ की लागत से सरकारी स्कूलों में लगे सीसीटीवी का शुभारंभ करना था। मंच पर स्वागत के बाद महिला टीचर नीतू चौधरी ने उनसे गाने की गुहार क्या कर डाली, मानों मनोज तिवारी पर पहाड़ ही टूट पड़ा। 
 
तिवारी तैश में आ गए और मंच पर ही उन्होंने सरेआम महिला टीचर की बेइज्जती करते हुए उन्हें न केवल मंच से उतार दिया, बल्कि उनके खिलाफ एक्शन लेने का फरमान भी सुना दिया। तिवारी ने कहा कि ये कोई मौका नहीं है। मैं यहां कार्यक्रम में आया हूं। आपको सांसद से बात करने की तमीज नहीं है। आप मंच से नीचे उतर जाइए और इनके खिलाफ एक्शन लीजिए।
उत्तर पूर्व दिल्ली की लोकसभा सीट से सांसद मनोज तिवारी महिला टीचर के गाने के आग्रह पर ऐसे आग बबूला हो जाएंगे, यह किसी ने ख्वाब में भी नहीं सोचा था। जब सोशल मीडिया में वायरल हुआ यह वीडियो इलेक्ट्रॉनिक चैनल तक पहुंचा तो तिवारी ने उलटे-सीधे सवाल पूछने शुरू कर दिए। उन्होंने कहा कि क्या उस महिला ने आत्महत्या कर ली? क्या उस महिला ने पुलिस में एफआईआर की? जब उस महिला को कोई दिक्कत नहीं है तो फिर आपको क्यों हो रही है?

इसी बीच खबर यह भी है कि सांसद द्वारा सरेआम एक्शन लिए जाने के आदेश से टीचर नीतू चौधरी परेशान हो गईं और वे मनोज तिवारी के आवास पर जाकर माफी मांग आईं। बाद में नीतू ने कहा, मुझे उन्होंने माफ कर दिया है। मैं मीडिया में इससे आगे कोई बयान नहीं देना चाहती। 
 
बहरहाल, सत्ता की मद में डूबे भाजपा सांसद मनोज तिवारी शायद यह भूल गए हैं कि भोजपुरी गीतों को गा-गाकर ही वे संसद की सीढ़ियां चढ़े हैं। गायन और अदाकारी ने ही उन्हें सांसद का चोला ओढ़ाया है। वे आज भले ही भाजपा का भगवा पट्‍टा अपने गले में डाले रहते हैं लेकिन लोग आज भी उन्हें एक गायक के रूप में ही पहचानते हैं। होली के मौके पर वे एक टीवी चैनल पर भी नजर आए थे। यदि सरकारी कार्यक्रम में उनसे गाने की फरमाइश कर डाली तो इसमें इतना लाल-पीला होने की क्या जरूरत है? (वेबदुनिया न्यूज) 
वीडियो सौजन्य : यूट्‍यूब 
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine
Widgets Magazine
Widgets Magazine Widgets Magazine
Widgets Magazine