गरीबों को मुफ्त बिजली, खर्चा 16 हजार करोड़...

Last Updated: सोमवार, 25 सितम्बर 2017 (20:13 IST)
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश में सभी घरों को सातों दिन 24 घंटे बिजली उपलब्ध कराने की सहज बिजली हर घर योजना (सौभाग्य) की शुरूआत की। इस मौके पर उन्होंने कहा...
* पॉवर सेक्टर की उपेक्षा के चलते पॉवर डिस्ट्रीब्यूशन कमजोर हुआ।
* किसी ने भी नहीं सोचा था कि यह सरकार गरीबों के लिए इतनी योजनाएं लाएगी।
* गरीबों के बिजली कनेक्शन का खर्च केन्द्र और राज्य सरकारें उठाएंगी।
* लक्ष्य से 12 फीसदी ज्यादा बिजली का उत्पादन हुआ।
* केन्द्र ने राज्यों को बिजली वितरण के लिए 22 हजार करोड़ रुपए दिए।
* देश में 26 हजार करोड़ से ज्यादा एलईडी बल्व बांटे जा चुके हैं।
* पारदर्शिता और जवाबदेही इस सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है।
* सौर ऊजा की क्षमता 5 गुना बढ़ाई गई।


* सरकार ने शक्ति नाम से नई कोयला आवंटन नीति बनाई गई।
* कोयला का उत्पादन तीन साल में 93 टन किया गया।
* अब बिजली के लिए कोयले की कमी नहीं होती।
* कोयला नीलामी की योजना में पारदर्शिता।
* 18000 गांवों में से सिर्फ 3000 गांवों में बिजली पहुंचना बाकी है।
* सस्ती, सुलभ और स्वच्छ बिजली उपलब्ध कराएंगे।
* सौभाग्य योजना से शिक्षा को बढ़ावा मिलेगा।

* इस योजना पर 16 हजार करोड़ रुपए खर्च आएगा।
* इसके लिए गरीबों से एक रुपया भी नहीं लेंगे।
* मैंने लाल किले 1000 दिन में लोगों तक बिजली पहुंचाने की घोषणा की थी।
* हम तय समय में बिजली पहुंचा देंगे और यह पहुंच भी जाएगी।
* न्यू इंडिया के हर घर में बिजली कनेक्शन होगा।

* नरेन्द्र मोदी ने कहा कि सौभाग्य योजना देश के गरीबों का भाग्य बदलेगी।
* गरीब का सपना मेरी सरकार का सपना है। गरीबों की परेशानी दूर करना मेरी सरकार का सबसे बड़ा दायित्व है।

* 31 मार्च 2019 तक देश के सभी घरों में बिजली पहुंचाने का लक्ष्य।


* देश के हर घर तक बिजली पहुंचाने की योजना है सौभाग्य योजना।
* आज भी देश के 4 करोड़ परिवारों में बिजली नहीं है। वहां आज भी मोमबत्ती और लालटेन जल रही हैं।
* मैं समझता हूं कि बिना बिजली के इन 4 करोड़ परिवारों पर क्या असर होता होगा।

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :