प्रशासनिक अधिकारियों से क्या बोले प्रधानमंत्री मोदी...

नई दिल्ली| Last Updated: शुक्रवार, 21 अप्रैल 2017 (12:37 IST)
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को प्रशासनिक अधिकारियों को संबोधित करते हुए कहा...

* फरवरी में बजट पेश करने से आया बदलाव।
* पहली बार 1 अप्रैल से बजट खर्च शुरू हुआ।
* 3 साल में हर विचार का परिणाम मिला।
* मुझे कभी भी निराशा का भाव नहीं आता।
* नतीजों को सोचकर काम करें।
* विभागों में मतभेद अहम नहीं होना चाहिए।
* हर चीज को आउटपुट से नहीं आउटकम से तौलें।
* मोदी ने पूछा, सरकार के दो विभाग कोर्ट में क्यों झगड़ते हैं।
* कई बार विभागों की फाइलों में 25 30 साल पुराने मामले अटके रहते हैं।
* मैं हमेशा ईमानदार अधिकारियों के साथ हूं।
* हमें आत्मचिंतन करना होगा, अपनी कमजोरियों को स्वीकार करना होगा।
* टीम की शक्ति कम हुई तो परफॉर्म नहीं कर पाएंगे।
* जिस दिन आप सिविल सेवा के लिए चयनित हुए थे उस समय आपके मन में जो विचार आया था, वही आपकी प्रेरणा रहेगा।
* अफसरों की अंगुलियों पर है शासन व्यवस्था।
* हमें जल्द ही अपनी कार्यशैली बदलनी होगी।
* अभाव के बीच रास्ते खोजने होंगे।
* देश में लोगों की अपेक्षाएं बढ़ी हैं।
* अधिकारी अपने हर फैसले को राष्ट्रहित के तराजू में तौलें।
* सरकारें आएंगी और जाएंगी मगर व्यवस्था कायम रहेगी।
* ज्यादातर अधिकारी सोशल मीडिया में व्यस्त हैं। मैं सोशल मीडिया की ताकत को पहचानता हूं।
* मीडिया के जरूरी व्यवस्था का प्रचार उपयोगी।
* विवेक से ताकत का इस्तेमाल होना चाहिए।
* जो जनता के काम आए वो मेरे लिए जरूरी है।
* काम के दौरान खुद का प्रचार सही नहीं।
* ई गवर्नेंस का इस्तेमाल जनता की जरूरतें पूरी करने के लिए हो।
* परंपरा को बरकरार रखना नई पीढ़ी की जानकारी।
* चुनौती को अवसर में बदलना होगा।
* हमें अपनी कार्यशैली बदलनी होगी।
* सर्वोत्तम लोगों से सर्वोत्तम कार्य की उम्मीद।
* काम का बोझ नहीं, चुनौतियां बड़ी।
* अब हमारी जिम्मेदारी बढ़ गई है।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :