घोटाला मामले में सीबीआई के समक्ष पेश नहीं होंगे लालू और तेजस्वी

नई दिल्ली| पुनः संशोधित सोमवार, 11 सितम्बर 2017 (14:06 IST)
आईआरसीटीसी के दो होटलों के देखभाल की जिम्मेदारी एक निजी फर्म को दिए जाने के क्रम में हुई कथित अनियमितताओं के मामले में पूर्व केन्द्रीय मंत्री आज और उनके पुत्र सीबीआई के समक्ष पेश नहीं होंगे।
सूत्रों ने बताया कि लालू ने रांची की अदालत में अपने खिलाफ चल रहे मुकदमे की सुनवाई के कारण जबकि तेजस्वी ने अपने पूर्व-निर्धारित राजनीतिक कार्यों की वजह से सीबीआई द्वारा तय तारीख पर उपस्थित होने में असमर्थता जताई है। सीबीआई ने लालू को 11 सितंबर जबकि तेजस्वी को 12 सितंबर को उपस्थित होने का सम्मन भेजा था।

एजेंसी के एक अधिकारी ने सोमवार को कहा, ‘हम ताजा सम्मन की नई तारीख तय करेंगे।’ सीबीआई सूत्रों ने बताया कि राजद प्रमुख को पूछताछ के लिए आज जबकि तेजस्वी को कल (12 सितंबर) सीबीआई मुख्यालय में उपस्थित होना था।
आरोप है कि रेल मंत्री रहते हुए लालू प्रसाद यादव ने रेलवे के दो होटलों बीएनआर रांची और पुरी के देखभाल की जिम्मेदारी विनय और विजय कोचर के मालिकाना हक वाली कंपनी सुजाता को सौंपी और इसके बदले लालू ने एक बेनामी कंपनी के जरिए तीन एकड़ महंगी जमीन प्राप्त की।

प्राथमिकी में आरोप लगाया गया है कि लालू ने अवैध तरीके से कोचर बंधुओं को लाभ पहुंचाने के लिए रेल मंत्री के अपने पद का दुरुपयोग किया और इसके बदले डिलाइट नामक बेनामी कंपनी के माध्यम से ‘महंगी जमीन’ ली। उन्होंने बेइमानी और फर्जीवाड़ा करके बीएनआर रांची और पुरी के देखभाल का जिम्मा कोचर बंधुओं को सौंपा।
सीबीआई ने इस संबंध में लालू, उनकी पत्नी राबड़ी देवी, पुत्र तेजस्वी यादव और पूर्व केन्द्रीय मंत्री प्रेम चंद गुप्ता की पत्नी सरला गुप्ता के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की है।

प्राथमिकी में अन्य आरोपी हैं...सुजाता होटल के निदेशक और चाणक्य होटल के मालिक विजय कोचर और विनय कोचर, डिलाइट मार्केटिंग कंपनी और तत्कालीन प्रबंधक निदेशक पी.के. गोयल। डिलाइट का नाम बदलकर अब लारा प्रोजेक्ट्स हो गया है। (भाषा)

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :