बिफरी पाक सेना ने फिर तोड़ा सीजफायर, भारतीय जवाब से पहुंची थी जबरदस्त क्षति

indian army
जम्मू| सुरेश डुग्गर| पुनः संशोधित रविवार, 9 दिसंबर 2018 (00:01 IST)
जम्मू। एलओसी पर अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा। पाक सेना ने शनिवार सुबह फिर सीजफायर को तोड़ते हुए सुंदरबनी सेक्टर के कई इलाकों में फायरिंग की जिसका भारतीय सेना ने मुंहतोड़ जवाब दिया। जानकारी मिलने तक दोनों तरफ से गोलीबारी जारी है, हालांकि इस दौरान किसी के हताहत होने की खबर नहीं है।
अंतिम सूचना मिलने तक गोलीबारी अब भी जारी है। इतना जरूर था कि परसों पाक गोलाबारी का शु्क्रवार को जब भारतीय पक्ष ने करारा जवाब दिया तो उसमें उसके कम से कम 3 पाकिस्तानी सैनिक मारे गए, 2 अन्य घायल हो गए और सुंदरबनी सेक्टर के सामने वाले पाक इलाके में उसकी 5 पोस्टों को नेस्तनाबूद कर दिया गया था।

सूत्रों ने बताया कि भारतीय सेना और बीएसएफ ने पाकिस्तान सेना के खिलाफ बड़ी प्रतिशोधपूर्ण कार्रवाई की जिसने पहले संघर्षविराम समझौते का उल्लंघन किया और सुंदरबनी क्षेत्र में नियंत्रण रेखा (एलओसी) के साथ सेना और बीएसएफ की चौकियों पर गोलाबारी और गोलीबारी की थी जिसमें एक बीएसएफ जवान शहीद हो गया था और हमले में एक और घायल हो गया था।
सूत्रों ने कहा कि भारतीय जवाबी कार्रवाई में कम से कम 3 पाकिस्तानी सैनिक मारे गए और 2 अन्य घायल हो गए, क्योंकि उनकी 5 पोस्टें तबाह कर दी गई थीं। अधिकारियों ने कहा कि पाकिस्तानी सेना के खिलाफ प्रतिशोधपूर्ण कार्रवाई जरूरी थी, क्योंकि उसने पहले ब्रिगेड कमांडर स्तर पर दिए गए समझौते का उल्लंघन किया था। एलओसी पर शांति बनाए रखने और 2003 के संघर्षविराम समझौते के प्रति प्रतिबद्धता बनाए रखने के लिए 23 नवंबर को पुंछ सेक्टर में चकन-दा-बाग में एक फ्लैग मीटिंग भी हुई थी।
सूत्रों ने बताया कि भारतीय प्रतिशोध के बाद सुंदरबनी क्षेत्र के विपरीत पाकिस्तानी शिविरों में मृत और घायल सैनिकों को एम्बुलेंसों द्वारा ले जाते हुए देखा गया था। सूत्रों के मुताबिक भारतीय कार्रवाई के बाद पाक तोपखाने शुक्रवार को शांत हुए थे और शनिवार सुबह एक बार फिर उनके द्वारा गोलाबारी आरंभ कर दी गई जिसका भारतीय पक्ष भरपूर जवाब दे रहा है।

सूत्रों ने बताया कि 23 नवंबर को ब्रिगेड कमांडरस्तरीय फ्लैग मीटिंग के बाद पुंछ और राजौरी के जुड़वां सीमांत जिलों में एलओसी पर यह पहला बड़ा संघर्षविराम उल्लंघन था, सूत्रों ने बताया कि पाकिस्तान को बहुत प्रभावी और मजबूत उत्तर दिया गया है।


और भी पढ़ें :