फिर से खुल सकता है बोफोर्स मामला

पुनः संशोधित शुक्रवार, 14 जुलाई 2017 (19:27 IST)
नई दिल्ली। कांग्रेस के लिए नासूर बना बोफोर्स दलाली मामला दो दशक बाद भी उसका पीछा नहीं छोड़ रहा है। संसद की एक समिति ने इसे आगे नहीं बढ़ाए जाने पर सवाल उठाए
हैं, जिससे लगता है कि केन्द्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) बोफोर्स से जुड़े मुकदमे को उच्चतम न्यायालय में ले जा सकती है।



Widgets Magazine
ने वर्ष 2005 में बोफोर्स तोप दलाली सौदे को ठोस सबूतों के अभाव में निरस्त कर दिया था और उसके बाद से यह ठंडे बस्ते में चला गया था। संसदीय समिति के सदस्यों द्वारा इस पर सवाल उठाए जाने के बाद यह मुद्दा एक बार फिर राजनीति को गर्मा सकता है। बोफोर्स तोप दलाली सौदे से 1980 के दशक में राजनीतिक भूचाल आ गया था और पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी को सत्ता गंवानी पड़ी थी।



सूत्रों के अनुसार, लोक लेखा समिति की बीजू जनता दल के भर्तृहरि महताब की अध्यक्षता वाली उप समिति ने हाल ही में बोफोर्स मामले में नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (कैग) की एक रिपोर्ट पर रक्षा मंत्रालय द्वारा कार्रवाई रिपोर्ट न सौंपे जाने के बारे में सुनवाई की। सदस्यों ने के निदेशक और रक्षा सचिव से सवालों के जवाब मांगे।



छह सदस्यों वाली इस समिति में भाजपा के तीन और शिवसेना तथा अन्नाद्रमुक के एक-एक सदस्य हैं। सूत्रों के अनुसार, कुछ सदस्यों ने सीबीआई निदेशक से सीधे-सीधे पूछा कि इस मामले में दिल्ली उच्च न्यायायल के मामले को उच्चतम न्यायालय में चुनौती क्यों नहीं दी गई। दो सदस्यों ने निदेशक से कहा कि एजेंसी को इस मामले में आगे अपील के लिए सरकार से अनुमति लेनी चाहिए। (वार्ता)

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।


Widgets Magazine

और भी पढ़ें :