सरकार ने कहा, ऊंची उड़ान भरती रहेगी एयर इंडिया

Last Updated: गुरुवार, 28 दिसंबर 2017 (22:59 IST)
नई दिल्ली। ने लोकसभा में आज एयर इंडिया के विनिवेश की स्थिति में उसके कर्मचारियों के भविष्य को लेकर सदस्यों की आशंकाओं को खारिज करते हुए कहा कि एयर इंडिया को मजबूती देने के लिए एक वैकल्पिक प्रणाली पर वह विचार कर रही है और उसका हाल किंगफिशर की तरह नहीं होने दिया जाएगा।

नागर विमानन मंत्री अशोक गजपति राजू ने लोकसभा में के सी वेणुगोपाल के प्रश्न के उत्तर में कहा कि हम नहीं चाहते कि एयर इंडिया का हाल किंगफिशर की तरह हो जहां किसी को फायदा नहीं हुआ। हम चाहते हैं कि एयर इंडिया चलती रही। इसके कर्मचारियों, यात्रियों की सेवा करना चाहते हैं। यह ऊंची उड़ान भरती रहे।

केसी वेणुगोपाल ने प्रश्नकाल में कहा कि खबरें हैं कि एयर इंडिया का निजीकरण किया जा रहा है। विनिवेश प्रक्रिया चल रही है। इसे लेकर एयर इंडिया के कर्मचारियों में बहुत आशंकाएं हैं। इस पर राजू ने कहा, ‘मैं सदस्य की आशंकाओं को दूर करने के लिए कहना चाहूंगा कि यह बहुत महत्चपूर्ण विषय है। कोई नहीं चाहता कि कोई भी कर्मचारी बेरोजगार हो।

उन्होंने कहा कि एयर इंडिया के लिए एक वैकल्पिक प्रणाली पर विचार विमर्श की अगुवाई वित्तमंत्री अरुण जेटली कर रहे हैं। अगर एयर इंडिया के लिए कोई सुझाव हैं तो सदस्य बता सकते हैं। सरकार उस पर विचार करेगी। रीजनल कनेक्टिविटी से संबंधित उड़ान योजना से संबंधित एक सवाल पर केंद्रीय मंत्री ने कहा कि उड़ान योजना के पहले चरण में 31 हवाईअड्डे तैयार हो चुके हैं जिनमें से 14 में परिचालन चल रहा है। दूसरे चरण में करीब 41 और विमानपत्तनों को संचालित करने की योजना है। (भाषा)

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :