कश्मीर, कश्मीरियत और राजनाथ सिंह

#माय हैशटैग  
केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने पिछले दिनों ट्विटर पर लिख दिया था- ‘ऑल कश्मीरीज ऑर नॉट टेररिस्ट’। इस पर सोशल मीडिया में भूचाल-सा आ गया है। गृहमंत्री की बात कुछ लोगों को इतनी नागवार गुजरी कि उन्होंने गृहमंत्री को ही ट्रोल करना शुरू कर दिया। बचाव में भाजपा के कई नेताओं को आना पड़ा। 
ट्विटर पर के लोगों के बारे में आपत्तिजनक बातें लिखने वालों के जवाब में केंद्रीय गृहमंत्री ने यह टिप्पणी लिखी थी। अमरनाथ यात्रियों पर हुए हमले और हमले की शिकार हुई बस के ड्राइवर को लेकर कई बातें सोशल मीडिया पर लिखी जा रही थीं। गृहमंत्री ने बस यात्रियों पर हुए हमले की निंदा करते हुए लिखा था कि बस के ड्राइवर ने यह साबित कर दिया कि की भावना अभी भी जिंदा है। 
 
सोशल मीडिया के कुछ यूजर्स ने इस पर भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी की पाकिस्तान यात्रा का जिक्र किया और कहा कि राजनाथ सिंह भी उसी पार्टी के हैं जिस पार्टी के नेता पाकिस्तान जाकर जिन्ना के मजार पर मत्था टेकते हैं। केंद्रीय गृहमंत्री का असली पद तो ‘कड़ी निंदा मंत्री’ है। कड़ी निंदा के अलावा वे करते भी क्या हैं? कभी-कभी वे ‘बेहद कड़ी निंदा’ कर देते हैं। 
 
राजनाथ सिंह के समर्थन में भाजपा के कई नेताओं को सामने आना पड़ा। उन्होंने लिखा कि राजनाथ सिंह भारत सरकार के जिम्मेदार मंत्री हैं। वे कोई भी ऐसी-वैसी बात नहीं कह सकते। भाजपा के ही नेता बलबीर पुंज ने इस पर लिखा कि राजनाथ सिंहजी को बधाई, जिन्होंने एक आम कश्मीरी और कश्मीर में हिंसा भड़काने वाले तत्वों को अलग-अलग करके अपनी बात कही। पूरा देश ही आतंक के खिलाफ है। 
 
बलबीर पुंज के पर भी लोगों ने तीखे कमेंट किए। उन्होंने कहा कि कश्मीरियत के आंदोलन के बारे में क्या कहेंगे गृहमंत्रीजी? उन कायर लोगों को सबक क्यों नहीं सिखाते? क्या अमरनाथ यात्रियों की सुरक्षा की जिम्मेदारी आपकी नहीं थी, जो आप ट्वीट करके छुट्टी पा लेना चाहते हो? 
 
ट्विटर पर एक यूजर ने लिखा कि सर, ट्वीटबाजी करना छोड़िए और अपना काम गंभीरता से कीजिए। पाक समर्थित आतंक को काबू में रखिए और अपने विभाग की जिम्मेदारी गंभीरता से निभाइए। बाद में इनमें से कई लोगों ने अपने ट्वीट डिलीट कर दिए। ऐसा पहली बार हुआ है, जब सोशल मीडिया पर केंद्रीय गृहमंत्री के बारे में इस तरह के तीखे विचार सामने आए हैं। 

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :