पठानकोट हमला और एनडीटीवी

Author डॉ. प्रकाश हिन्दुस्तानी|
# माय हैशटैग
सूचना प्रसारण मंत्रालय में 9 नवंबर को हिन्दी न्यूज चैनल एनडीटी इंडिया के प्रसारण पर 24 घंटे के लिए रोक लगाई है। इसके विरोध में सोशल मीडिया मुखर हो उठा। सूचना प्रसारण मंत्रालय की एक समिति ने एनडीटीवी इंडिया के कवरेज को राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा माना। समिति का कहना था कि एनडीटीवी इंडिया ने जिस तरह पठानकोट हमले को कवर किया, उससे आतंकवादियों और उनके सरगनाओं को मदद मिली। इसके जवाब में एनडीटीवी ने कहा कि आरोप बेबुनियाद है और एनडीटीवी कोई अकेला चैनल नहीं था, जिसने इस तरह का कवरेज दिखाया। ब्रॉडकास्ट एडिटर्स एसोसिएशन (बीईए) और एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया ने भी सूचना प्रसारण मंत्रालय के इस फैसले की निंदा की है और यह भी मांग की है कि मंत्रालय इस प्रतिबंध को वापस ले ले। क्योंकि यह आदेश ‘अभिव्यक्ति की आजादी पर बैन’है। 
 
सूचना प्रसारण मंत्रालय के इंटरमिनिस्ट्रीयल पैनल ने एनडीटीवी पर इस तरह की रोक की सिफारिश की थी। पैनल के अनुसार पठानकोट हमले के दौरान एयरबेस में मौजूद लड़ाकू विमानों और हथियारों से जुड़ी ऐसी जानकारियां एनडीटीवी प्रसारित करता रहा, जिनका इस्तेमाल करके आतंकवादी और ज्यादा नुकसान पहुंचा सकते थे। किसी टीवी चैनल पर आतंकी हमले के कवरेज को लेकर पहली बार इस तरह की कार्रवाई करने का फैसला किया गया।
 
पैनल के अनुसार एनडीटीवी ने जो भी कवरेज दिखाया, वह राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा था। चैनल ने इसके लिए कारण बताओ नोटिस भी दिया गया है। इस पर एनडीटीवी ने कहा था कि इसने वहीं जानकारियां सामने रखी, जो पहले से ही प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक और सोशल मीडिया पर मौजूद थीं। एनडीटीवी ने मंत्रालय के आदेश को हैरान कर देने वाला बताया। चैनल का दावा है कि उसका कवरेज बेहद संतुलित था। अब एनडीटीवी मंत्रालय के इस फैसले के खिलाफ सभी उपलब्ध विकल्पों पर विचार कर रहा है। इन विकल्पों में संविधान में प्रदत्त अधिकारों को लेकर न्यायालय में जाना भी शामिल है। हो सकता है 9 नवंबर तक इस बारे में कोई और फैसला हो जाए, लेकिन यह तय है कि इस मामले में पूरे मीडिया को आंदोलित कर रखा है। 
 
एनडीटीवी के कवरेज को लेकर सत्ताधारी भाजपा और उसके सहयोगी संगठनों को अक्सर आपत्ति रहती है। आरोप है कि एनडीटीवी इंडिया देशविरोधी समाचार दिखाने में कतई कोताही नहीं बरतता, बल्कि उन्हें बढ़ा-चढ़ाकर दिखाता है। कई लोगों ने तो सोशल मीडिया पर यह भी लिखा है कि एनडीटीवी के साथ भले ही इंडिया जुड़ा हो, पर वह है पाकिस्तान के साथ। यहां तक कहा गया कि एनडीटीवी का प्रसारण एक दिन के लिए नहीं, हमेशा के लिए रोक दिया जाना चाहिए। कुछ लोगों ने मजाक में लिखा है कि एनडीटीवी भारत के निजी समाचार चैनलों के इतिहास में पहला चैनल होगा, जिसे सरकार की तरफ से एक दिन का अवकाश दिया जा रहा है। सबको छुट्टी मिलती है, इसलिए एनडीटीवी को भी छुट्टी मिलेगी। 
 
सूचना प्रसारण मंत्रालय के फैसले के खिलाफ बुद्धिजीवियों ने मोर्चा खोल लिया है। अधिकतर लोगों की राय है कि संविधान की अवमानना करते हुए इस तरह का फैसला दिया गया है। राहुल गांधी के कार्यालय की ओर से जारी ट्वीट में कहा गया है कि यही मोदी जी का भारत है, जहां नेताओं को जेल में डाला जाता है और सच बोलने वाले चैनलों पर प्रतिबंध लगा दिया जाता है। एनडीटीवी को उसकी खबरों के लिए न केवल 24 घंटे के लिए प्रतिबंधित किया जा रहा है, बल्कि उसे मिलने वाले विदेशी फंड की भी जांच की जा रही है। एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया ने इसे मीडिया की आजादी का सीधा-सीधा उल्लंघन करार दिया है। 
 
इस तरह के विचार भी सोशल मीडिया पर आ रहे हैं कि पूरे चैनल पर प्रतिबंध लगाने की बजाय उस व्यक्ति पर कार्रवाई होनी चाहिए, जिसने इस तरह की संवेदनशील जानकारी उजागर की है। एनडीटीवी केवल न्यूज चैनल नहीं है, बल्कि यह अभिव्यक्ति की आजादी का प्रशिक्षण देने वाली नर्सरी है। जहां पत्रकार खुलकर अपनी बात सामने रखते हैं। उन पर कोई दबाव नहीं होता और यह चैनल भी सनसनी फैलाने की कोई कोशिश नहीं करता। मोदी सरकार चाहती है कि इस तरह की पत्रकारिता अब जीवित ही न बचे। यह विचार भी सामने आया कि इस तरह के फैसलों से आपातकाल जैसी हालत पैदा हो जाएगी। इसे मीडिया के खिलाफ मोदी सरकार की सर्जिकल स्ट्राइक भी कहा गया है। 
 
एनडीटीवी के खिलाफ कुछ लोगों के समूह ने सोशल मीडिया पर मानो मोर्चा खोल लिया हो, ये लोग एनडीटीवी के बारे में लिख रहे है कि यह चैनल भारत के हितों की लगातार अनदेखी करके पाकिस्तान के हितों का ख्याल रखता है। इसका नाम एनडीटीवी इंडिया नहीं एनडीटीवी पाकिस्तान होना चाहिए। किसी ने मजाक में लिखा- पाकिस्तान में हाफिज सईद एंड कंपनी भारत सरकार के इस फैसले का कड़ा विरोध करने जा रही है। सरकार के फैसले के बारे में कुछ लोगों ने लिखा कि यह फैसला बहुत देरी से लिया गया, इस तरह के काम पहले होने चाहिए थे। एनडीटीवी ने अभिव्यक्ति की आजादी का दुरुपयोग करते हुए दुश्मनों की मदद की है। देश विरोधी लोगों के लिए यह एक अच्छा सबक साबित हो सकेगा। अनेक लोगों ने एनडीटीवी के कुछ नामचीन पत्रकारों के खिलाफ अपनी भड़ास जमकर निकाली है। यहां तक लिखा है कि अगर ऐसी हरकत वे किसी और देश में रहकर करते, तो उन्हें एक दिन के लिए बैन का सामना नहीं करना पड़ता, बल्कि पूरी जिंदगी जेल में ही बितानी पड़ती। पाकिस्तान में भारतीय चैनलों पर बैन है। अब भारत में पाकिस्तान के एक चैनल को केवल एक दिन के लिए बैन किया है । 

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

किसे पकाएं, किसे कच्चा खाएं, आओ इसका पता लगाएं

किसे पकाएं, किसे कच्चा खाएं, आओ इसका पता लगाएं
आपका बढ़ा वज़न जब भी तंग करने लगा तो सलाद से इसे कम करने की सोच रहे हैं। ख्याल अच्छा है ...

ऐसे दें अपने घर को एस्ट्रो टच

ऐसे दें अपने घर को एस्ट्रो टच
घर सजा कर रखना किसे पसंद नहीं होता लेकिन यदि घर कि सजावट ज्योतिष व एस्ट्रो के अनुरुप हो ...

4 वेद और 3 देव का जो अर्थ है वही गायत्री मंत्र है, पढ़ें ...

4 वेद और 3 देव का जो अर्थ है वही गायत्री मंत्र है, पढ़ें विशेष लेख
‘गायत्री वेदों की जननी है। गायत्री पापों का नाश करने वाली है। गायत्री से अन्य कोई पवित्र ...

क्या पीरियड में कॉफी पीना चाहिए?

क्या पीरियड में कॉफी पीना चाहिए?
कॉफी आपके डेली रुटीन का हिस्सा हो चुकी है, लेकिन क्या आपने कभी सोचा कि असल में कॉफी आपको ...

वक्त रहते अपनों की अहमियत समझें

वक्त रहते अपनों की अहमियत समझें
अक्सर ऐसा होता है कि हम अपने दोस्तों, ऑफिस के लोगों, सहकर्मियों की तो बहुत इज्जत करते हैं ...

रोग निवारण के आसान घरेलू उपाय खास आपके लिए...

रोग निवारण के आसान घरेलू उपाय खास आपके लिए...
प्रतिदिन स्नान के वक्त तेल मालिश करते समय सबसे पहले दोनों पैरों के अंगूठों के नखों को तेल ...

रामायण काल में थीं ये विचित्र किस्म की प्रजातियां, ...

रामायण काल में थीं ये विचित्र किस्म की प्रजातियां, वैज्ञानिक रहस्य जानकर चौंक जाएंगे
भगवान राम का काल ऐसा काल था जबकि धरती पर विचित्र किस्म के लोग और प्रजातियां रहती थीं, ...

करोड़पति बनने और अपार धन कमाने के 4 आसान टोटके, पढ़‍िए और ...

करोड़पति बनने और अपार धन कमाने के 4 आसान टोटके, पढ़‍िए और आजमाएं...
सदियों से चली आ रही भारतीय परंपरा में कुछ ऐसे भी टोटके हैं जो आसान प्रयास से अचूक असरकारी ...

शादी के बाद बेडरूम ऐसा सजाएं कि मूड बन जाए... जानें 10

शादी के बाद बेडरूम ऐसा सजाएं कि मूड बन जाए... जानें 10 टिप्स
शादी हर किसी के जीवन का एक खास पल होता है। आप अपनी होने वाले पत्नी के साथ आगे की जिंदगी ...

ज्योतिष की दृष्टि में कौन हैं मंगल ग्रह, जानिए मंगल के ...

ज्योतिष की दृष्टि में कौन हैं मंगल ग्रह, जानिए मंगल के शुभ-अशुभ प्रभाव
मंगल नवग्रहों में से एक है। लाल आभायुक्त दिखाई देने वाला यह ग्रह जब धरती की सीध में आता ...