Widgets Magazine

तुच्छता से स्वच्छ्ता की ओर

Author अमित शर्मा|


के सर्वे में सबसे स्वच्छ शहरो में पहले और भोपाल दूसरे नंबर पर आया है, ये दोनों शहर बीजेपी शासित राज्य मध्यप्रदेश में आते हैं। वैसे 2014 में बनने के बाद बीजेपी नेताओं ने अपने बयानों से जैसी गंदगी फैलाई है उसे देखते हुए यह काफी अप्रत्याशित लगता है। यह ज्यादा अप्रत्याशित इसलिए भी है क्योंकि एमसीडी चुनावो में आप की हार के बाद ज्यादातर लोग दिल्ली को सबसे ज्यादा स्वच्छ मान रहे थे। इस सूची में उत्तरप्रदेश का गोंडा शहर सबसे भोंडा मतलब गंदा पाया गया है। हालांकि अभी तक यह पता नहीं  चल पाया है कि यह शहर कचरे की वजह से गंदा हुआ है या फिर हाल ही में समाप्त हुए विधानसभा चुनावो में नेताओ के बयानों द्वारा फैले कीचड़ से।
 
का कहना है कि स्वच्छ भारत अभियान का श्रेय सबसे ज्यादा उनके नेता राहुल गांधी को मिलना चाहिए, क्योंकि पूरे देश को कांग्रेसमुक्त बनाकर वो ही सबसे ज्यादा सफाई कर रहे हैं। सरकार बता रही है कि मेरा देश बदल रहा है इसलिए कम गंदे शहरों को ही सबसे स्वच्छ शहर घोषित किया जा रहा है। स्वच्छ भारत सेंस लगाने के बाद स्वच्छता सर्वे करवाना वाकई सरकार की स्वच्छ्ता के प्रति गंभीरता को दर्शाता है। अब स्वच्छता भी अच्छे दिनों की सहयात्री बन जल्द ही दबे पांव आ जाएगी। मोदी सरकार चाहे तन और मन से कितने भी जतन कर ले, लेकिन वो स्वच्छ्ता के मामले में पिछली यूपीए सरकार को पीछे नही छोड़ पाएगी क्योंकि यूपीए सरकार ने "हाथ की सफाई" दिखाकर जिस तरीके से सरकारी खजानों को खाली किया था, उसने स्वच्छ्ता के क्षेत्र में नए और अभूतपूर्व प्रतिमान स्थापित किए थे। स्वच्छ्ता एक आदत होनी चाहिए और यूपीए सरकार ने इस आदत को 10 साल तक निर्बाध बनाए रखा था। 
 
वर्तमान सरकार सार्वजनिक स्थलों की सफाई जैसी तुच्छ स्वच्छता में समय और धन का अपव्यय कर रही है, जो सरकार की सोच और विजन के "दिव्यांग" होने का आभास करवा रही है। क्योंकि पिछली सरकारों ने तो "एस्केप वेलोसिटी" की गति से मेहनत करके खजाने खाली किए (जिससे देश और जनता को जीरो लॉस हुआ) और यह सरकार सफाई के नाम पर जनता से टैक्स लेकर फिर से साफ हुए खजानों को भर रही है जिन्हें फिर से खाली करने में मनरेगा के कितने "श्रम घंटे" व्यर्थ होंगे इसकी हानि का अनुमान लगाने के लिए फिर से किसी अर्थशास्त्री को ही प्रधानसेवक बन कर सेवा करके "मेक इन इंडिया" के तहत मेवा उत्पादित करना होगा।
 
स्वच्छ्ता के क्षेत्र में देशवासियों को अभी बहुत जागरूक करने की जरूरत है और इस दिशा में रूढ़िवादी सोच भी आड़े आती है। जैसे ज्यादातर लोग पैसे को हाथ का मैल मानते हैं, इसी वजह से खाना खाने से पहले या और कोई कार्य करते समय हाथ ठीक से नहीं धोते हैं। केवल जगह जगह शौचालय बनाकर और कचरापत्र (डस्टबिन) लगाकर सफाई सुनिश्चित नहीं की जा सकती है, भारत जैसे विविधताओं भरे देश में जहां लोग नाक और मुंह में अंगुली करके, हथेली पर खैनी कूट कर भांति-भांति के नए तरीकों से मल विसर्जन करते हों, वहां सरकार को साफ-सफाई के नए रचनात्मक तरीके इजाद करने चाहिए।
 
इन सबके अलावा मेरी राय में स्वच्छ भारत अभियान तब तक सफल नहीं हो सकता है जब तक हम अपने जवानों की शहादत से उपजे गुस्से को थूकना बंद ना कर दे। सोच की तुच्छता त्याग कर ही स्वच्छता संभव है।
Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine