रीमा लागू : सर से उठा ममता का आंचल


खबर दुखद है, लेकिन यकीन करने लायक बिल्कुल भी नहीं, कि छोटे एवं बड़े पर्दे पर ममतामयी मां और का किरदार निभाने वाली रीमा लागू जी अब इस दुनिया में नहीं रहीं। यकीन के लायक इसलिए नहीं कि कोई दिल उनसे यूं बिछड़ना नहीं चाहता, जिस तरह से वो हाथ छुड़ाकर चली गईं, जैसे एक मां बच्चे को बहलाकर हाथ छुड़ाती है। बरसों से उन्हें इन जाने पहचाने किरदारों में देखते आ रहे हैं, और अब सिर्फ आंखों को ही नहीं मन को भी उनकी आदत हो गई थी...ऐसी आदत, जिसे हम बदलना नहीं चाहते...जिसकी जगह कोई और चेहरा कभी भाया ही नहीं। 
 
ममता के अमृत से भीगी आंखें, और चेहरे की वह आभा...किसी को भी उनसे प्यार करने पर मजबूर कर दे। हर बेटा उनमें अपनी मां की छवि देखता और हर बेटी ऐसी सास की कामना करती होगी, जिस तरह के किरदार उन्होंने निभाए। उनके द्वारा जितनी भी फिल्में की गईं, अगर उनकी जगह किसी अन्य अभिनेत्री को रख कर देखें, तो शायद ही कोई उन्हीं भावों के साथ उन किरदारों को उनसे बेहतर निभा पाए। मिश्री सी बोली के साथ मन मोहता चेहरा उनकी पहचान भी रही और हमारे दिलों में उनकी पैठ बनाने का प्रमुख कारण भी। क्योंकि अभिनय में ही नहीं, असल जिंदगी में भी वे अपने इस गुण से आसपास के वातावरण को महकाए रखती थीं।
 
हिन्दी के साथ-साथ मराठी पर्दे पर भी उन्होंने अनेक किरदार निभाए और दर्शकों के बीच हमेशा चहेती रहीं। श्रीमान श्रीमति और तू-तू मैं-मैं जैसे कार्यक्रम हों या फिर मैंने प्यार किया, हम आपके हैं कौन, हम साथ-साथ हैं जैसी यादगार फिल्में...उनका किरदार आज भी आंखों के सामने सजीव है। वे हमारे दिल-ओ-दिमाग में आज भी इतनी सजीव हैं, कि उनके न होने पर यकीन करना मुश्किल ही नहीं नामुम्किन सा लगता है। मां का आंचल किसे प्यारा नहीं लगता, वहां से जितना प्रेम समेटा जाए कम है। शायद इसलिए ही मन आज भी उस आंचल से अलग नहीं होना चाहता...जो अचानक किसी तेज हवा के झोंके से उड़कर हमसे दूर चला गया है। रीमा जी भले ही आज हमारे बीच नहीं हैं, पर उनकी यह ममतामयी छवि सदैव हमारे मन में बसी रहेगी।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

इसलिए जरूरी है बच्चों का मुंडन संस्कार, पढ़ें 5 जरूरी बातें

इसलिए जरूरी है बच्चों का मुंडन संस्कार, पढ़ें 5 जरूरी बातें
मुंडन संस्कार के बारे में मान्यता है कि इससे शिशु का मस्तिष्क और बुद्धि दोनों ही पुष्ट ...

दूध नहीं पीते हैं मोटे होने के डर से तो यह 4 स्वादिष्ट ...

दूध नहीं पीते हैं मोटे होने के डर से तो यह 4 स्वादिष्ट विकल्प हैं आपके लिए
अगर आप वजन को बढ़ने से रोकना चाहते हैं और हेल्थ से किसी तरह के समझौते को तैयार नहीं तो ...

हमारे देश में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी मानते हैं मोर ...

हमारे देश में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी मानते हैं मोर पंखों को शुभ, पढ़ें 10 चौंकाने वाली बातें
मोर, मयूर, पिकॉक कितने खूबसूरत नाम है इस सुंदर से पक्षी के। जितना खूबसूरत यह दिखता है ...

अजी अंडा छोड़िए, इन 5 शाकाहारी चीजों में है भरपूर प्रोटीन

अजी अंडा छोड़िए, इन 5 शाकाहारी चीजों में है भरपूर प्रोटीन
हाल ही में पोलैंड की पशु चिकित्सा सेवा ने करीब 40 लाख अंडों को बाजार से हटा लिया है। ये ...

तुरंत फेंक दे अपना पुराना लूफाह वर्ना संक्रमण का है खतरा

तुरंत फेंक दे अपना पुराना लूफाह वर्ना संक्रमण का है खतरा
नहाते हुए अपने शरीर की वह त्वचा व हिस्सा, जो केवल साबुन से साफ नहीं हो पाता, उसकी सफाई के ...

शादीशुदा लोगों को कम होता है हृदय रोग का खतरा

शादीशुदा लोगों को कम होता है हृदय रोग का खतरा
लंदन। एक अध्ययन में दावा किया गया है कि शादी से लोगों को दिल की बीमारियों और स्ट्रोक से ...

4 टिप्स से जानें आपकी त्‍वचा के लिए कितने एसपीएफ वाला ...

4 टिप्स से जानें आपकी त्‍वचा के लिए कितने एसपीएफ वाला सनस्क्रीन सही होगा?
आमतौर पर आपने दूसरों से सुना होगा कि जितना ज्यादा एसपीएफ वाला सनस्क्रीन लगाएंगे उतना ही ...

हाथों में मेहंदी का रंग गहरा करने के 10 टिप्स

हाथों में मेहंदी का रंग गहरा करने के 10 टिप्स
मेहंदी से रचे हाथ किसे अच्छे नहीं लगते! जिनके हाथों में मेहंदी लगती है वे उसके रंग को ...

अचानक धन मिल जाए तो बात बन जाए.. अगर आप भी ऐसा सोचते हैं तो ...

अचानक धन मिल जाए तो बात बन जाए.. अगर आप भी ऐसा सोचते हैं तो यह 6 उपाय आजमाएं
परिश्रम से बड़ा कोई धन नहीं। लेकिन सांसारिक सुखों को हासिल करने के लिए जो धन चाहिए वह अगर ...

धूमावती जयंती 2018 : मनोवांछित फल पाना है तो ऐसे करें पूजन, ...

धूमावती जयंती 2018 : मनोवांछित फल पाना है तो ऐसे करें पूजन, पढ़ें ये विशेष मंत्र...
वर्ष 2018 में 20 जून, बुधवार को धूमावती जयंती है। इस विशेष अवसर पर ब्रह्म मुहूर्त में ...