कंगारुओं ने शर्मसार किया क्रिकेट को

क्रिकेट शर्मसार है। ऐसे देश के खिलाड़िओं ने इसे शर्मसार किया है, जहां उन्हें सबसे ऊंचा दर्ज़ा प्राप्त है। ऐसा लगा जैसे कंगारुओं ने अपने बच्चे को निकालकर जमीन पर पटक दिया है। यह बताने की जरूरत नहीं कि ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़िओं को कंगारू भी कहा जाता है। क्रिकेट को इसके शुरुआती दौर से ही भद्रजनों का खेल कहा जाता रहा है।

इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया इसके शुरुआती प्रतिद्वंद्वी हैं, जिनके बीच सबसे पुरानी एशेज ट्रॉफी के लिए कांटाजोड़ मुकाबला होता है। इन दोनों देशों की सरकारें और राजनीतिज्ञ भी क्रिकेट और इसके खिलाड़िओं को बहुत अहमियत देते हैं। ऑस्ट्रेलिया में तो क्रिकेट को देश से ऊंचा दर्जा दिया जाता है, क्योंकि वहां राजनीतिक सरकार बनने के पहले से क्रिकेट खेला जा रहा है।

इस जानकारी के साथ अपनी टिप्पणी प्रारंभ करने के पीछे मेरा मंतव्य सिर्फ इतना है कि आज जो विवाद क्रिकेट के गलियारों में गूंज रहा है उसके कारणों के पीछे यही ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम है। अपनी लगातार हार की शर्म मिटाने और जीत के लिए इस टीम ने ऐसा षड्यंत्र रचा कि पूरा क्रिकेट वर्ल्ड शर्मसार हो गया। स्वयं ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री को शर्मसार होते हुए अपने देश की ओर से क्षमा मांगनी पड़ी और सख्त कार्रवाई के निर्देश क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया को देना पड़े।

ऑस्ट्रेलिया के साथ इंग्लैंड का जिक्र इसलिए किया क्योंकि जो हरकत ऑस्ट्रेलिया ने अब की, उसका जनक इंग्लैंड ही है, जो क्रिकेट का जनक भी है। गेंद के साथ छेड़छाड़ का पहला मामला 1976 में इंग्लैंड के तेज गेंदबाज जॉन लीवर के खिलाफ भारत दौरे के दौरान बिशन सिंह बेदी ने दर्ज
कराया था। कप्तान रिकी पोंटिंग की कप्तानी में ऊंचाई की बुलंदियों को छूने वाली ऑस्ट्रेलियाई टीम वर्तमान में लगातार हार रही है।

शायद यही वजह है कि वर्तमान कप्तान स्टीव स्मिथ और उप कप्तान डेविड वार्नर ने दक्षिण अफ्रीका के वर्तमान दौरे में ड्रेसिंग रूम में टीम के साथ मिलकर गेंद के साथ छेड़छाड़ का षड्यंत्र रचा और इसे अंजाम देने के लिए कैमरन बेनक्राफ्ट को मोहरा बनाया, लेकिन वे भूल गए कि हम तकनीकी सूक्ष्मता के दौर में हैं, जबकि खिलाड़िओं की छोटी से छोटी हरकत भी कैमरे में कैद हो जाती है।

इस मामले में यही हुआ और पूरी की पूरी ऑस्ट्रेलियाई टीम पर आज पूरी दुनिया थू-थू कर रही है। सबसे ज्यादा लानत-मलामत तो उसके ही देशवासी और मीडिया कर रहा है। पहली प्रतिक्रिया ही देश के प्रधानमंत्री की ओर से आना मामले की गंभीरता को साबित करती है। ऐसा भी नहीं है कि गेंद के साथ छेड़छाड़ का यह पहला मामला है। पहले भी अनेक अवसर ऐसे आए हैं, जॉन लीवर से लेकर शाहिद अफरीदी, फॉफ डुप्लेसिस आदि तक अनेक बार इस तरह के आरोप लगे।

कुछ सही पाए गए तो कुछ को नकार दिया गया। इन मामलों में कोई सख्त कदम उठाने की जरूरत महसूस नहीं की गई। लेकिन इस बार मामला बिलकुल अलग और संगीन है। पिछले कई अवसरों पर तो तकनीकी इतनी विकसित नहीं थी इसलिए मामलों को इग्नोर भी किया गया। लेकिन इस बार स्क्रीन पर छेड़छाड़ का पूरा प्रकरण साफ दिखाई दिया। फलस्वरूप ऑस्ट्रेलियाई टीम के कप्तान स्टीव स्मिथ को स्वीकार करना पड़ा कि दक्षिण अफ्रीका से तीसरा टेस्ट जीतने के लिए उन्‍होंने बॉल टेम्परिंग कराई।

इसके बाद उन्हें और उप कप्तान वार्नर को तुरंत पद से हटा दिया गया। यह पहला अवसर है जबकि किसी टीम के कप्तान और उप कप्तान को मैच के बीच ही पदों से हटाया गया है। क्रिकेट के इतिहास में दक्षिण अफ्रीका के कप्तान हैंसी क्रोनिए द्वारा मैच फिक्सिंग का आरोप स्वीकारने के बाद यह दूसरा अवसर है, जब किसी कप्तान ने इस तरह की स्वीकारोक्ति की है।

जहां तक बात सजा की है तो क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने स्मिथ और वार्नर पर एक-एक साल का और बेनक्राफ्ट पर नौ माह का प्रतिबंध लगाया है, जबकि क्रिकेट की अंतरराष्ट्रीय संस्था आईसीसी ने स्मिथ को सिर्फ एक मैच के लिए निलंबित कर फिर अपनी भेदभावपूर्ण नीति का प्रदर्शन किया। ये तीनों खिलाड़ी अब इस वर्ष आईपीएल में भी नहीं खेल सकेंगे। सजा पर सवाल भी उठे, किसी ने कम तो किसी ने ज्‍यादा बताया।

स्मिथ और वार्नर ने मीडिया के सामने रोते हुए अपना गुनाह कबूल कर प्रशंसकों की सहानुभूति अर्जित करने की भी कोशिश की, लेकिन मेरी राय में ऐसे मामलों में पर्याप्त सख्ती जरूरी है अन्यथा यह खेल भद्रजनों का नहीं रह जाएगा और खिलाड़ी लचीले नियमों का नाजायज फायदा उठाते रहेंगे। खासतौर से ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी, जो स्लेजिंग (छींटाकसी) के लिए खासे बदनाम हैं, उन्हीं की देखादेखी भारत समेत अन्य देशों के खिलाड़ी भी अब खासी छींटाकसी करते नजर आते हैं और मैदान पर प्रायः विवाद बढ़ जाता है।

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

ग़ज़ल : दर पे खड़ा मुलाकात को...

ग़ज़ल : दर पे खड़ा मुलाकात को...
दर पे खड़ा मुलाकात को तुम आती भी नहीं, शायद मेरी आवाज़ तुम तक जाती भी नहीं।

घर को कैंडल्स से ऐसे सजाएं

घर को कैंडल्स से ऐसे सजाएं
जब भी घर, कमरा या टेबल सजाने की बात आती है तब कैंडल्स का जिक्र न हो, ऐसा शायद ही हो सकता ...

अपना आंगन यूं सजाएं फूलों की रंगोली से...

अपना आंगन यूं सजाएं फूलों की रंगोली से...
रंगोली केवल व्रत-त्योहार पर ही नहीं बनाई जाती, बल्कि इसे घर के बाहर व अंदर हमेशा ही बनाया ...

भोजन के बाद भूलकर भी ना करें यह 5 काम, वर्ना सेहत होगी ...

भोजन के बाद भूलकर भी ना करें यह 5 काम, वर्ना सेहत होगी बर्बाद
आइए जानें कि 5 कौन से ऐसे काम हैं जो भोजन के तुरंत बाद नहीं करना चाहिए ....

बाल गीत : बनकर फूल हमें खिलना है...

बाल गीत : बनकर फूल हमें खिलना है...
आसमान में उड़े बहुत हैं, सागर तल से जुड़े बहुत हैं। किंतु समय अब फिर आया है, हमको धरती चलना ...

साहसिक कारनामा: 6 महिला, उफनता समुद्र,1 कश्ती से की दुनिया ...

साहसिक कारनामा: 6 महिला, उफनता समुद्र,1 कश्ती से की दुनिया की सैर
हम बात कर रहे हैं नौसेना की जांबाज महिला अफसरों के उस दल की जिन्होंने छोटी पाल नौका से ...

बुध का वृषभ राशि में आगमन, क्या होगा आपकी राशि पर असर

बुध का वृषभ राशि में आगमन, क्या होगा आपकी राशि पर असर
27 मई से बुध वृषभ राशि, भरणी नक्षत्र में प्रवेश करेगा, जिसके परिणाम स्वरूप आपकी राशि पर ...

जयपुर की महिलाएं हरियाणा के करनाल में 'राष्ट्रीय गौरव ...

जयपुर की महिलाएं हरियाणा के करनाल में 'राष्ट्रीय गौरव अवार्ड' से सम्मानित
राजस्थान के जयपुर की समाज प्रसिद्ध महिलाएं 'राष्ट्रीय गौरव अवार्ड' से हरियाणा के करनाल ...

सनग्लासेस पहनने के 4 फायदे...

सनग्लासेस पहनने के 4 फायदे...
सही चश्‍मा पहनते ही हम एकदम से स्टाइलिश और फैशनेबल दिखने लगते हैं। चश्मे हमें केवल अच्छा ...

बहुत खास है बुधादित्य योग, 27 मई से मिलेगा 12 राशियों को ...

बहुत खास है बुधादित्य योग, 27 मई से मिलेगा 12 राशियों को शुभाशुभ फल
27 मई को बुध अपनी राशि परिवर्तन कर वृष राशि में प्रवेश करेंगे। आइए जानते हैं कि किन-किन ...