मदर्स डे पर पढ़ें मुंशी प्रेमचंद की लघुकथा - दरवाजे पर मां


सूरज क्षितिज की गोद से निकला, बच्चा पालने से- वही स्निग्धता, वही लाली, वही खुमार, वही रोशनी। मैं बरामदे में बैठा था। बच्चे ने दरवाजे से झांका। मैंने मुस्कुराकर पुकारा। वह मेरी गोद में आकर बैठ गया। उसकी शरारतें शुरू हो गईं। कभी कलम पर हाथ बढ़ाया, कभी कागज पर। मैंने गोद से उतार दिया। वह मेज का पाया पकड़े खड़ा रहा। घर में न गया। दरवाजा खुला हुआ था।

एक चिड़िया फुदकती हुई आई और सामने के सहन में बैठ गई। बच्चे के लिए मनोरंजन का यह नया सामान था। वह उसकी तरफ लपका। चिड़िया जरा भी न डरी। बच्चे ने समझा अब यह परदार खिलौना हाथ आ गया। बैठकर दोनों हाथों से चिड़िया को बुलाने लगा। चिड़िया उड़ गई, निराश बच्चा रोने लगा। मगर अंदर के दरवाजे की तरफ ताका भी नहीं। दरवाजा खुला हुआ था।

गरम हलवे की मीठी पुकार आई। बच्चे का चेहरा चाव से खिल उठा। खोंचेवाला सामने से गुजरा। बच्चे ने मेरी तरफ याचना की आंखों से देखा। ज्यों-ज्यों खोंचेवाला दूर होता गया, याचना की आंखें रोष में परिवर्तित होती गईं। यहां तक कि जब मोड़ आ गया और खोंचेवाला आंख से ओझल हो गया तो रोष ने पुरजोर फरियाद की सूरत अख्तियार की।

मगर मैं बाजार की चीजें बच्चों को नहीं खाने देता। बच्चे की फरियाद ने मुझ पर कोई असर न किया। मैं आगे की बात सोचकर और भी तन गया। कह नहीं सकता बच्चे ने अपनी मां की अदालत में अपील करने की जरूरत समझी या नहीं। आमतौर पर बच्चे ऐसे हालातों में मां से अपील करते हैं। शायद उसने कुछ देर के लिए अपील मुल्तवी कर दी हो। उसने दरवाजे की तरफ रुख न किया। दरवाजा खुला हुआ था।

मैंने आंसू पोंछने के ख्याल से अपना फाउंटेनपेन उसके हाथ में रख दिया। बच्चे को जैसे सारे जमाने की दौलत मिल गई। उसकी सारी इंद्रियां इस नई समस्या को हल करने में लग गईं। एकाएक दरवाजा हवा से खुद-ब-खुद बंद हो गया। पट की आवाज बच्चे के कानों में आई। उसने दरवाजे की तरफ देखा। उसकी वह व्यस्तता तत्क्षण लुप्त हो गई। उसने फाउंटेनपेन को फेंक दिया और रोता हुआ दरवाजे की तरफ चला क्योंकि दरवाजा बंद हो गया था।

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

हिन्दी कविता : देह हूं मैं ...

हिन्दी कविता : देह हूं मैं ...
देह हूं मैं प्राणों से भरी , अहसासों से भरी देह हूं मैं जब छूते हो मुझे मेरी ...

मन की अभिव्यक्ति से मिलती है खुशी

मन की अभिव्यक्ति से मिलती है खुशी
वर्षों बाद वो दोनों सखियां मिलीं। मन में भावनाओं का ज्वार। आंखें ख़ुशी के आंसुओं से सिक्त। ...

प्रेम गीत : मुझको दीवाना कह लो

प्रेम गीत : मुझको दीवाना कह लो
तुम्हे प्यार नहीं तो क्या मुझको दीवाना कह लो। उम्मीदे वफ़ा नहीं तो क्या, मुझको दीवाना कह ...

बचा जा सकता है थायराइड से, यहां जानिए कैसे

बचा जा सकता है थायराइड से, यहां जानिए कैसे
योग के जरिए भी थायराइड से बचा जा सकता है। खासकर कपालभाती करने से थायराइड की समस्या से ...

तंत्र की देवी है मां बगलामुखी, हर आपदा से बचाता है उनका ...

तंत्र की देवी है मां बगलामुखी, हर आपदा से बचाता है उनका मंत्र
मां बगलामुखी यंत्र चमत्कारी सफलता तथा सभी प्रकार की उन्नति के लिए सर्वश्रेष्ठ माना गया ...

बच्चों को दीजिए उनका आकाश

बच्चों को दीजिए उनका आकाश
हम प्रायः अपने बच्चों को उसके भाई-बहनों या मित्रों का अनुकरण करने को कहते हैं। जो हमारी ...

एक बार जरूर पढ़ें खूबानी के 5 खास गुण

एक बार जरूर पढ़ें खूबानी के 5 खास गुण
आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि 5 खूबानी से उतनी ही कैलोरी मिलती हैं, जितनी कि एक सेब से...

क्या आप कीटो डाइट के शौकीन हैं? इसके 5 नुकसान चौंका देंगे ...

क्या आप कीटो डाइट के शौकीन हैं? इसके 5 नुकसान चौंका देंगे आपको
कीटो डाइट का एक दुष्परिणाम यह है कि इसके साथ आपको पर्याप्त फाइबर और पोषक तत्व नहीं मिल ...

पृथ्वी दिवस पर कविता : दे दो उसे जीवनदान

पृथ्वी दिवस पर कविता : दे दो उसे जीवनदान
घुट रहा है दम, निकल रहे हैं प्राण। कोई सुन ले तो, दे दो उसे जीवनदान। सूख रहे हैं हलक, ...

बस अपनाएं ये 8 सरल टिप्स और स्वादिष्ट काजू करी तैयार

बस अपनाएं ये 8 सरल टिप्स और स्वादिष्ट काजू करी तैयार
सबसे पहले काजू को सादे पानी में उबाल लें। काजू को उबालते वक्त उसमें थोड़ा-सा नमक मिला दें।