0

शहद जैसी मीठी-मीठी माँ

रविवार,मई 10, 2009
0
1
रोज थाली लेकर मंदिर जाती माँ पत्थर पर भावनाओं के पुष्प चढ़ाती माँ कौन कहता है पत्थर निर्जीव है निर्जीव को भी सजीव बनाती ...
1
2
प्रकृति का हरेक प्राणी जन्म लेते ही जिस रिश्ते से प्रथम परिचित होता है, वह है माँ-बच्चे का रिश्ता... माँ और बच्चे का ...
2
3
माँ तो बस माँ होती है बच्चों को भरपेट खिलाती खुद भूखी ही सोती है माँ तो बस माँ ही होती है।। बच्चों की चंचल अठखेली ...
3
4
वेलेंटाइन-डे पर जिस तरह बाजार में रौनक रहती है और बाजारवादी तमाम तरह के ग्रीटिंग कार्ड बेचने में लगे रहते हैं और ...
4
4
5
माँ का रिश्ता परिभाषाओं से परे होता है क्योंकि यह सिर्फ अनुभूति का विषय है लेकिन यदि महिला को माँ और पिता दोनों की ...
5
6

मेरी माँ

शनिवार,मई 9, 2009
'माँ' जिसकी कोई परिभाषा नहीं, जिसकी कोई सीमा नहीं, जो मेरे लिए भगवान से भी बढ़कर है
6
7
बचपन में लोरियाँ सुनाती माँ, हर आहट पर जाग जाती माँ। आज गुनगुनाती है तकिये को लेकर, भिगोती है आँसू से उसे बेटा ...
7
8
रिश्तों की रवानगी इसमें ममता की हर बानगी इसमें, चरणों में इसके सुख स्वर्ग का नसीब से मिलता है साथ इसका, ईश्वर भी, ...
8
8
9

माँ के लिए बस एक दिन?

गुरुवार,मई 7, 2009
बड़ी अनुपम (सुखमय) अनुभूति होती है जब हम अपनी माँ को महत्व देते हैं, लेकिन क्या माँ को याद करने के लिए सिर्फ 'एक ही दिन' ...
9
10
मैं जब भी माँ के बारे में सोचता हूँ मुझे मटके में ताजा पानी भरने की आवाज सुनाई देती है। उसकी उम्र उसकी झुर्रियों से ...
10
11

माँ

गुरुवार,मई 7, 2009
संबंध नहीं हैं माँ केवल संपर्क नहीं है आदर्श है जीवन का केवल संबोधन नहीं है जन्‍मदात्री है वो मात्र इंसान नहीं है ...
11
12
हाँ, माँ को सब पता होता है जो हम बताते हैं वो भी और जो नहीं बताते वो भी। जैसे भगवान से कुछ नहीं छुपता वैसे ही माँ से ...
12
13
मैं जब ऑफिस से घर जाता हूँ। शूज भी नहीं उतारता कि माँ की आवाज आती है। चल बेटा रोटी परसूँ कि देर से खाएगा। माँ के बोल ...
13
14
माँ, औरत का एक ऐसा किरदार है, जिसमें संपूर्णता, पवित्रता, त्याग, ममता, प्यार सब कुछ निहित होता है। शायद ही दुनिया का ...
14
15
वे माँएँ कोस रही हैं राज्य सरकार को ‍कि एक तरफ तो मुख्‍यमंत्री की भांजी (उनकी बेटी) के लिए लाडली लक्ष्मी योजना है तो ...
15
16
उस रात मैंने हर देवी-देवता को याद किया था। दिल से रोते हुए मेरी एक ही प्रार्थना थीं कि बस माँ को कुछ ना हो। मेरी माँ ...
16
17

'माँ' सिर्फ आपको अर्पण

गुरुवार,मई 7, 2009
माँ है वह ममता की महान मूरत, जिसकी मुस्कान के सहारे खिल उठती है सूरत, जो जीवन के पग-पग पर देती हैं साथ, कभी नहीं ...
17
18
माँ, समूची धरती पर बस यही एक रिश्ता है जिसमें कोई छल कपट नहीं होता। कोई स्वार्थ, कोई प्रदूषण नहीं होता। इस एक रिश्ते ...
18
19
माँ, माताजी, आई, मम्मी, अम्मा से लेकर मम्मा तक हर माँ एक भीने-भीने रिश्ते का प्रतीक है। मातृ दिवस पर हर संतान की यह अहम ...
19