मुख पृष्ठ > विविध > वामा > आप और आपका घर > वास्तु के अनुसार शौचालय
सुझाव/प्रतिक्रियामित्र को भेजिएयह पेज प्रिंट करें
 
वास्तु के अनुसार शौचालय
वास्तु के अनुसार शौचालय
NDND
यह मकान के नैऋत्य (पश्चिम-दक्षिण) कोण में अथवा नैऋत्य कोण व पश्चिम दिशा के मध्य में होना उत्तम है।

वास्तु के अनुसार, पानी का बहाव उत्तर-पूर्व में रखें।

जिन घरों में बाथरूम में गीजर आदि की व्यवस्था है, उनके लिए यह जरूरी है कि वे अपना बाथरूम आग्नेय कोण में ही रखें, क्योंकि गीजर का संबंध अग्नि से है।

चूंकि बाथरूम व शौचालय का परस्पर संबंध है तथा दोनों पास-पास स्थित होते हैं। शौचालय के लिए वायव्य कोण तथा दक्षिण दिशा के मध्य या नैऋत्य कोण व पश्चिम दिशा के मध्य स्थान को सर्वोपरि रखना चाहिए।

शौचालय में सीट इस प्रकार हो कि उस पर बैठते समय आपका मुख दक्षिण या उत्तर की ओर होना चाहिए।
सौजन्य से - वास्तु एवं ज्योतिष
संबंधित जानकारी खोजें
और भी
वास्तु से जीवन में खुशियों की बहार
फैक्ट्री के लिए स्थान का चयन
घर में इन चीजों पर गौर करें
ईशान कोण में ये करें
वास्तु दोष की मुक्ति पाने के उपाय
जानें ईशान कोण के प्रभावों के बारे में