मुख पृष्ठ > विविध > साहित्य > काव्य-संसार > वृक्षों का वास रहने दे!
सुझाव/प्रतिक्रियामित्र को भेजिएयह पेज प्रिंट करें
 
वृक्षों का वास रहने दे!
पर्यावरण दिवस
अज़हर हाशमी
वन में वृक्षों का वास रहने दे!
झील झरनों में साँस रहने दे!

वृक्ष होते हैं वस्त्र जंगल के
छीन मत ये लिबास रहने दे!

वृक्ष पर घोंसला है चिडि़या का
तोड़ मत ये निवास रहने दे!

पेड़-पौधे चिराग हैं वन के
वन में बाक़ी उजास रहने दे!

वन विलक्षण विधा है कुदरत की
इस अमानत को खास रहने दे!
संबंधित जानकारी खोजें
और भी
जब भी मुझको तेरी यादों ने बुलाया
प्यार को प्यार कहूँ ...
तुम्हारी यादों की नन्ही तुलसी
तुम्हारे साथ का अमलतास
मेरे शब्द-कंकर
माँ की याद दिला रही वह टूटी संदूक