Widgets Magazine

मध्यप्रदेश में किसानों ने आंदोलन वापस लिया

भोपाल| Last Updated: सोमवार, 5 जून 2017 (01:22 IST)
मध्यप्रदेश किसान सेना (एमपीकेएस) के सचिव जगदीश रवालिया ने कहा, हमने विभिन्न किसान नेताओं से बातचीत करने के बाद रात 10 बजकर 50 मिनट पर आंदोलन वापस ले लिया। इससे पहले भारतीय किसान संघ के क्षेत्रीय संगठन मंत्री (उज्जैन) शिवकांत दीक्षित ने कहा, मुख्यमंत्री चौहान ने उज्जैन में किसान संघ के पदाधिकारियों से चर्चा की। चूंकि सरकार ने किसानों की ज्यादातर मांगें मान ली हैं, अत: इस आंदोलन को स्थगित किया जाता है। भारतीय किसान संघ, किसान आंदोलन के तीसरे दिन शनिवार को ही इसमें शामिल हुआ था।
 
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बैठक के बाद ट्विटर पर लिखा, मुझे खुशी है कि मध्यप्रदेश में किसानों ने अपना आंदोलन समाप्त कर दिया है। मध्यप्रदेश सरकार किसान हितैषी सरकार है तथा सदैव किसानों के कल्याण के लिए कार्य करती रहेगी। मध्यप्रदेश के किसानों ने अपनी उपज के वाजिब दाम दिलाने सहित 20 सूत्रीय मांगों को लेकर एक जून से 10 जून तक आंदोलन की घोषणा की थी।
 
चौहान ने ट्वीट किया कि तीन-चार दिन में आठ रुपए प्रति किलोग्राम के हिसाब से प्याज की खरीद शुरू हो जाएगी और इस महीने के अंत तक जारी रहेगी। मुख्यमंत्री ने एक अन्य ट्वीट में कहा, गर्मियों में, सरकार मूंग की दाल को न्यूयनतम समर्थन मूल्य पर खरीदेगी। उन्होंने आंदोलन के दौरान किसानों के खिलाफ दर्ज मामले वापस लेने की भी घोषणा की।
 
चौहान ने इसके अतिरिक्त किसानों की अन्य मांगों, खासकर उनकी उपज का संतोषजनक मूल्य प्रदान करने पर भी सहमति जताई। इससे पहले, रविवार के दिन में आंदोलन के चौथे दिन सीहोर और रतलाम जिलों में ताजा हिंसा की खबरें मिलीं।
 
रतलाम जिले के डेलनपुर गांव में आंदोलनकारियों के पथराव के दौरान आज पुलिस सब इंस्पेक्टर मोती राम चौधरी एवं सहायक सब इंस्पेक्टर पवन यादव घायल हो गए। इस पथराव में तीन वाहनों को कथित रूप से प्रदर्शनकारियों ने जला दिया। यादव को एक आंख पर चोट आई है। दोनों घायल पुलिस अधिकारियों को एक अस्पताल में भर्ती कराया गया है।
 
रतलाम एसडीएम नेहा भारतीय ने कहा, स्थिति उस समय खराब हुई, जब किसानों ने दूध व्यापरियों को रोका और उनके दूध एवं अन्य सामान को सड़क पर फेंक दिया। सूचना मिलने पर पुलिस बल वहां गया, लेकिन आंदोलनकारियों ने पुलिस पर पथराव कर दिया, जिससे दो पुलिस अधिकारी घायल हो गए।
 
सीहोर से मिली रिपोर्ट के अनुसार किसानों ने भोपाल-इंदौर मार्ग पर ग्राम सौंडा में आ रहे केले से भरे ट्रक को रोका और केले सड़क पर फेंक दिए। उन्होंने मौके पर आए तहसीलदार एवं पुलिसकर्मियों पर पथराव भी किया, जिससे तहसीलदार संतोष मुदगल, सीहोर के नगर पुलिस अधीक्षक एस आर दंडोतिया, सीहोर कोतवाली पुलिस थाना प्रभारी अजय नागर एवं आष्टा पुलिस थाना प्रभारी बी डी बीरा एवं छह अन्य पुलिसकर्मियों को चोटें आईं।
 
सीहोर के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अवधेश प्रताप सिंह ने बताया कि हिसंक आंदोलकारियों को काबू में करने और वहां से तितर-बितर करने के लिए पुलिस को आंसू गैस के गोले छोडने पड़े। उन्होंने कहा कि आंदोलनकारियों ने तहसीलदार के वाहन को भी क्षतिग्रस्त कर दिया।
 
इसी बीच, झाबुआ जिले की पेटलावद तहसील में आज किसानों ने नगर में सब्जियों और दूध की खुली हुई दुकानों को बंद करवा दिया। पेटलावद से आठ किलोमीटर की दूरी पर ग्राम रायपुरिया में तो किसानों ने दूध से भरे टैंकर से दूध ही सड़क पर बहा दिया।
 
रायपुरिया थाना प्रभारी एम एल भाबर ने बताया, कल मध्यरात्रि के आसपास इंदौर सहकारी दुग्ध संघ का दूध से भरा एक टैंकर पेटलावद से झाबुआ जा रहा था। रास्ते में अज्ञात 10-15 लोगों ने टैंकर रोककर उसमें से 5,000 हजार लीटर दूध सड़क पर बहा दिया जिसकी कीमत लगभग दो लाख रूपए बताई जा रही है।
 
भोपाल स्थित मिसरौद में भी किसानों ने सुबह भोपाल-होशंगाबाद मार्ग पर आधा घंटे तक प्रदर्शन किया। उन्होंने वाहन रोकने की कोशिश भी की, लेकिन पुलिस की मुस्तैदी से वे विफल रहे।
 
किसानों के विरोध प्रदर्शन के कारण  इंदौर, देवास, उज्जैन, मंदसौर, खंडवा, नीमच, रतलाम, शाजापुर, आगरमालवा एवं धार सहित पश्चिमी मध्यप्रदेश में कई सब्जी एवं फल बाजार बंद रहे, जिससे अनाज, दूध और फल-सब्जियों की आपूर्ति बुरी तरह प्रभावित हुई। हालांकि, मध्यप्रदेश के अन्य भागों में इसका मामूली असर पड़ा।
 
वहीं, इंदौर स्थित बिजलपुर क्षेत्र एवं चोइथराम चौराहा स्थित देवी अहिल्याबाई फल-सब्जी मंडी के बाहर भी किसानों ने शनिवार की देर रात खूब उपद्रव मचाया, जिसके बाद पुलिस को उन पर लाठीचार्ज करना पड़ा। (भाषा)

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine