राष्ट्रपति के कार्यक्रम में रामपाल के अनुयायियों का हंगामा

पुनः संशोधित शुक्रवार, 10 नवंबर 2017 (23:46 IST)
भोपाल। जेल में बंद स्वयंभू बाबा रामपाल के हजारों अनुयायियों ने शुक्रवार को यहां ‘कबीर महोत्सव’ कार्यक्रम के दौरान राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की उपस्थिति में कई बार हंगामा किया और रामपाल के खिलाफ मामले की सीबीआई से जांच कराने की मांग की।
बाद में इस संबंध में उन्होंने एक ज्ञापन भी राष्ट्रपति को दिया, जिसे मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के जरिए कोविंद को मंच पर ही दिया गया। रामपाल के खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा दर्ज है। इस मामले में वह करीब तीन साल से जेल में बंद हैं। वे हरियाणा के हिसार के बरवाला सतलोक आश्रम का संचालक था और संत कबीर का अनुयायी माना जाता है।

मंच पर राष्ट्रपति के साथ मौजूद चौहान ने रामपाल के शिष्यों से अपील की कि वे अपना ज्ञापन मंच पर पहुंचा दें, मैं इसे राष्ट्रपति को सौंप दूंगा। राष्ट्रपति के संबोधन से पहले भी दीर्घा में बैठे रामपाल के अनुयायी जोर-जोर से शोरगुल कर रहे थे और अपनी मांग उठा रहे थे।
कार्यक्रम में शामिल होने आए मध्यप्रदेश के नरसिंहपुर जिले के करपगांव के रामपाल के शिष्य एवं कबीर अनुयायी राजेश नौरिया ने कहा, रामपाल भी कबीर के बड़े अनुयायी हैं और उन्हें भगवान के समान समझते हैं।

उन्होंने बताया, हमारे गुरु रामपाल के खिलाफ दर्ज मामले की सीबीआई जांच होनी चाहिए। वे निर्दोष हैं। उन्हें जेल में क्यों रखा गया है। उन्हें रिहा किया जाए। इस बीच, भोपाल कलेक्टर सुदाम खाड़े ने बताया, रामपाल के अनुयायियों ने जो ज्ञापन राष्ट्रपति को दिया है, उसमें मामले की सीबीआई जांच की मांग की गई है। (भाषा)

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :